vijender singh

दिल्ली में प्रदूषण (Delhi Pollution)  इतना बढ़ गया है कि लोग अब इसकी वजह से बीमार होने लगे हैं. आम इंसान के साथ सेलिब्रिटीज़ पर भी इसका असर पड़ रहा है. दिल्ली में प्रदूषण की वजह से स्मॉग (Smog) इतना बढ़ गया है कि 10 कदम आगे तक भी कुछ नहीं दिख रहा. जहां धुंध की वजह से कई एक्सीडेंट्स हो रहे हैं, तो वहीं दिल्ली की ज़हरीली हवा ने लोगों का सांस लेना भी मुश्किल कर रखा है.

Delhi Pollution smog

वरुण ने एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, यह समय दोष देने का नहीं, बल्कि बदलाव करने का है. मैं दिल्ली से बेहद प्यार करता हूं और दिल्ली का ऐसा हाल देखकर दिल टूट जाता है. छोटे-छोटे स्टेप्स लेकर हम इससे बाहर आ सकते हैं. पॉलिटिक्स को साइड में रखकर आइए साथ मिलकर सबको दिखाते हैं कि दिल्ली कितनी ख़ूबसूरत है.

वरुण ने इस वीडियो के अलावा एक सेल्फी भी शेयर की थी, जिसमें उन्होंने लिखा, ” ‘मैंने यह सेल्फी इसलिए क्लिक की है, ताकि मैं आप सबको दिखा सकूं कि स्मॉग कैसा दिखता है.” साथ ही वरुण ने लिखा कि एक-दूसरे या सरकार पर इल्ज़ाम लगाने से अच्छा है हम ख़ुद को बदलें. इट्स टाइम वी गो ग्रीन.

परिणीति चोपड़ा ने भी चेहरे पर मास्क लगाकर एक सेल्फी शेयर की है, जिसमें उन्होंने लिखा, “दिल्ली में दो दिन शूट करने के बाद मेरे चेस्ट, सिर और गले में दर्द हो रहा है. मुझे यक़ीन नहीं होता कि अब बात हाथ से इतनी निकल चुकी है कि इंसानों को सांस लेने के लिए हवा भी नहीं है. बच्चों और बूढ़ों का क्या हाल होगा, इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती. हम अपने प्लानेट के साथ ऐसा नहीं कर सकते हैं.”

यह भी पढ़ें: मॉमी मीरा ने शेयर की बिटिया मीशा की Cutest Pic, देखें मीशा के कुछ और पिक्स

विजेंदर सिंह, सोनम कपूर और श्रद्धा कपूर ने भी दिल्ली की ज़हरीली हवा के बारे में सोशल मीडिया पर जमकर लिखा है.

https://twitter.com/sonamakapoor/status/928249917625085952

मौसम विभाग का कहना है कि ये समस्या 3-4 दिन चल सकती हैं. धुंध और प्रदूषण की वजह से स्कूलों को भी रविवार तक के लिए बंद कर दिया गया है.

मंज़िलें छोटी लगने लगती हैं जब सपने बड़े हो जाते हैं, मुश्किलें गौण हो जाती हैं जब नज़रें आसमान पर होती हैं… जब हथेली में सूरज को कैद कर लेने का हुनर हो और ख़्वाहिशों को अपने क़दमों पर झुका लेने का जिगर, तो हमें समझ जाना चाहिए कि सामने बस एक ही शख़्स है… विजेंदर… विजेंदर और स़िर्फ विजेंदर! पलकों पर सितारों का चमकना और आंखों में चांद का खिलना आसान-सा लगता है और सारी उपमाएं, सारी तारी़फें बेतुकी-सी लगने लगती हैं… इस देसी बॉय के हॉट एंड हिट अंदाज़ के सामने. शब्द बिखर जाते हैं… वक़्त सिमट जाता है और हम बस देखते रह जाते हैं इस टैलेंटेड बॉक्सर के सुपरहिट पंचेज़ को, जिनका जवाब उनका मुकाबला कर रहे विरोधी के पास भी नहीं होता.

vijender singh

विजेंदर के देसी मुक्कों में कितना दम है, ये तो चेका जैसे खूंख़ार बॉक्सर को मात्र चंद मिनटों में चारों खाने चित्त करके ही उन्होंने दुनिया को दिखा दिया था …बड़बोले चेका को घर का रास्ता दिखा चुके विजेंदर ख़ुद क्या कहते हैं और क्या सोचते हैं बॉक्सिंग और उसके फ्यूचर के बारे में आइए विजेंदर (vijender singh) से ही जानते हैं इस दिलचस्प मुलाक़ात में…

vijender singh

सबसे पहले Congratulations आपकी इस बड़ी जीत के लिए और अपने टाइटल (डब्लूबीओ एशिया-पेसिफिक सुपर मिडलवेट) को डिफेंड करने के लिए.
थैंक यू वैरी मच! सच कहूं तो मैं स़िर्फ जीता हूं, इस जीत को बड़ा तो मेरे देशवासियों और आप सबने बनाया है… जो भी स्पोर्ट्स को प्यार करता है, गेम की क़द्र करता है उन सभी को दिल से शुक्रिया कहना चाहता हूं. सबने सपोर्ट किया, हौसला दिया और उनकी दुआओं ने मुझे विनर बनाया.

बॉक्सिंग का फ्यूचर कितना ब्राइट है इंडिया में?
बहुत ही ज़्यादा ब्राइट है… लोग गेम को समझते हैं, इतना प्यार देते हैं, ऐसे में प्लेयर्स को भी बेहतर करने की प्रेरणा मिलती है. इंडिया में भी अब लोग इस स्पोर्ट्स के महत्व को समझने लगे हैं और उसे गंभीरता से भी लेने लगे हैं.

vijender singh

पिछली बार के मुकाबले इस बार लोगों का और भी अच्छा रेस्पॉन्स मिला… तो अपने फैंस को कुछ कहना चाहेंगे?
सभी को थैंक्स कहूंगा और आगे भी इसी तरह प्यार देते रहें… मुझमें और गेम में विश्‍वास जताते रहें… उनको निराश नहीं होने देंगे हम.

जो युवा बॉक्सिंग को करियर के तौर पर देखते हैं उनको क्या राय देना चाहेंगे?
मेहनत के अलावा आगे बढ़ने का कोई रास्ता या शर्त नहीं है… इसलिए चाहे कोई भी स्पोर्ट्स हो या ज़िन्दगी में आप जो भी करना चाहें, एकमात्र ऑप्शन है तो स़िर्फ और स़िर्फ मेहनत ही है.

vijender singh

अपनी फिटनेस और डायट के लिए क्या ख़ास करते हैं?
जमकर प्रैक्टिस करता हूं. बिना प्रैक्टिस और मेहनत के रिज़ल्ट नहीं मिलता, तो सबसे ज़रूरी है कि इनको नज़रअंदाज़ न करें. डायट में मैं प्रोटीन लेता हूं, क्योंकि फिटनेस बनाए रखने के लिए वो बहुत ज़रूरी है… इसलिए उसे अपने डायट का हिस्सा ज़रूर बनाता हूं.

आप सब विदेशी प्लेयर्स के साथ भी खेलते हैं… उनकी तकनीक और फिटनेस हमसे कितनी बेहतर होती है या क्या कुछ फर्क होता है उनमें और हमारी अप्रोच में?
हम उनसे अच्छे और बेहतर हैं… ये सब स़िर्फ कहने की बात है कि उनका फिटनेस लेवल या टेकनीक हमसे बेहतर होती है, जबकि इसमें कोई सच्चाई नहीं है. हमको ख़ुद को कभी भी कम नहीं आकना चाहिए. ख़ुद पर भरोसा रखेंगे, तो बेहतर परफॉर्म करेंगे.

vijender singh

अन्य गेम्स के मुकाबले बॉक्सिंग को कहां देखते हैं जहां तक सुविधाओं और पैसों की भी बात करें तो ?
बॉक्सिंग काफी आगे है, न पैसों की कमी है, न सुविधाओं की… न टैलेंट की कमी है और न ही जज़्बे की… हम तैयार हैं दुनिया की नज़रों में नज़रें डालकर बात करने के लिए…
पैसों की भी बात करे, तो वर्ल्ड का हाइयेस्ट पेड प्लेयर भी एक बॉक्सर ही है, तो इसी से अंदाज़ा लगा लीजिए कि बॉक्सिंग का लेवल कितना ऊंचा है और लोग इसे कितनी गंभीरता से लेते हैं.

बात करें आपकी हॉबीज़ की तो गेम से हटकर क्या करना भाता है…?
खूब सोना … हां, ये सच है, मुझे सोना बहुत पसंद है और जब भी समय मिलता है, मैं जमकर सोता हूं.

फ्री टाइम में और क्या करना पसंद करते हैं जब सोते नहीं हैं तो ?
आई लव म्यूज़िक. म्यूज़िक का मैं बहुत शौक़ीन हूं. वो एक थेरेपी की तरह काम करता है… मन-मस्तिष्क को सुकून देता है… गीत हों, ग़ज़ल हों, पंजाबी सॉन्ग्स हों… सब सुनता हूं.

21zakia12

घर से दूर जब होते हैं, तो क्या सबसे ज़्यादा मिस करते हैं?
विदेश में होता हूं, तो अपने देश को मिस करता हूं. अपनी मिट्टी… अपना मुल्क तो सभी को याद आता है…

दोबारा आपको रिंग में कब देख पाएंगे?
मार्च या अप्रैल तक. दूसरे टाइटल्स पर भी हमारी नज़र है कि वो भी हमारे देश के नाम हों, तो तैयारी चल रही है और उम्मीद है बहुत जल्द आप सब मुझे फिर से रिंग में देखेंगे.

शुक्रिया इतने बिज़ी शेड्यूल में भी हमें अपना समय देने के लिए.
थैंक यू.

– गीता शर्मा

vijender singh

  • भारत के स्टार बॉक्सर विजेंदर (vijender singh) सिंह ने आख़िर अपने एशिया पैसिफिक मिडिलवेट टाइटल को डिफ़ेंड कर ही लिया और ख़ूँख़ार चेका को चित्त करके उसको घर का रास्ता दिखा ही दिया.
  • विजेंदर ने तीसरे ही राउंड में चेका को धूल चटा दी और यह बता दिया के रिंग के किंग वही हैं.
  • यह विजेंदर की लगातार आठवीं जीत थी.
  • गौरतलब है कि इस बाउट को देखने के लिए दिल्ली में बड़ी बड़ी हस्तियां मौजूद थीं, जिनमें रेसलर सुशील कुमार, खेल मंत्री विजय गोयल और बाबा रामदेव प्रमुख रूप से विजेंदर का हौसला बढ़ाते नज़र आये.
  • जीत के बाद विजेंदर काफी इमोशनल हो गए थे और उनका यही था कि चेका बहुत ज़्यादा बोल रहे रहे थे जबकि मैं अपनी जीत को लेकर आश्वस्त था.
  • हम यही कहेंगे कि बड़बोले चेका को आखिर जवाब मिल ही गया
  • हमारी तरफ़ से बहुत बहुत बधाई!
  • Well done! We are proud of you Vijender!

– गीता शर्मा