weightloss story

‘दीया और बाती हम’ (Diya Aur Baati Hum) सीरियल की आईपीएस ऑफिसर संध्या यानी दीपिका सिंह (Deepika Singh) का क़ामयाबी का सफ़र बहुत आसान नहीं था. टीवी एक्ट्रेस दीपिका सिंह ने अपनी मेहनत के दम पर आज ये मुकाम हासिल किया है. दीपिका सिंह के पहले ही सीरियल ‘दीया और बाती हम’ में उनका आईपीएस ऑफिसर का किरदार दर्शकों को इतना पसंद आया कि बहुत जल्दी दीपिका दर्शकों की चहेती टीवी एक्ट्रेस बन गई. उसके बाद दीपिका को मुड़कर पीछे देखने की जरूरत नहीं पड़ी. दीपिका सिंह की क़ामयाबी की कहानी जानने के लिए हमने उनसे ख़ास बातचीत की. आइए, हम आपको दीपिका सिंह की क़ामयाबी की कहानी बताते हैं.

Deepika Singh

अपने बचपन के बारे में बताइए, कैसा था आपका बचपन?
बहुत छोटी उम्र से ही मैं ये महसूस करने लगी थी किसी भी इंसान के लिए आत्मनिर्भर होना बहुत ज़रूरी है इसलिए बचपन से ही मैंने काम करना शुरू कर दिया था. मेरा स्कूल पापा की फैक्ट्री के पास ही था इसलिए स्कूल के बाद मैं फैक्ट्री पहुंच जाती थी और शाम को देर से घर लौटती थी. छठी-सातवीं क्लास तक तो मैं फैक्ट्री का सारा काम जैसे- सिलाई, कढ़ाई, डिज़ाइनिंग, पैकेजिंग वगैरह सबकुछ समझ गई थी. (हंसते हुए) आप कह सकते हैं कि मेरा बचपन फैक्ट्री में ही बीता है. फिर पढ़ाई के साथ-साथ पार्ट टाइम इवेंट्स और एडवर्टाइज़िंग के लिए काम किया और आज यहां पहुंच गई हूं.

आज जब पलटकर अपने अतीत को देखती हैं तो कैसा लगता है?
मैं अपना अतीत नहीं भूली हूं, इसीलिए शायद मैं हमेशा डाउन टु अर्थ रहती हूं. मेरा बचपन पहाड़गंज में बीता है, जहां आज भी लोग पानी की किल्लत झेलते हैं. बचपन में जब मैं पहाड़गंज में रहती थी, तो हमारे यहां पानी के टैंकर आते थे. मेरी मां, मैं और मेरी बहनें तीसरी मंज़िल तक बाल्टी से पानी भरकर ले जाते थे. कई बार फिसल भी जाते थे. मैंने लाइट और पानी की बहुत दिक्कत देखी है इसलिए मैं इन्हें कभी वेस्ट नहीं करती. कई बार जब लाइट चली जाती थी, तो हम लैंप में पढ़ाई करते थे. मैं आज भी घर के किसी भी रूम की लाइट, पंखा या एसी कभी खुला नहीं छोड़ती. मैं अपना अतीत नहीं भूली हूं इसलिए आज भी मैं पानी ज़रा भी वेस्ट नहीं करती. मुझे ये लगता है कि मैं अपनी तरह से कोशिश करती रहूंगी. मुझे देखकर कुछ लोग भी बदल सकें, तो मेरे लिए ये बहुत बड़ी बात होगी.

कैसा लगता है जब फैन्स इतना प्यार करते हैं?
मैं खुद को भाग्यशाली समझती हूं कि दर्शक मुझे इतना प्यार और अपनापन देते हैं. मैं सोशल मीडिया के माध्यम से अपने फैन्स से जुड़े रहने की पूरी कोशिश करती हूं और उनका धन्यवाद करना कभी नहीं भूलती.

यह भी पढ़ें: ‘दीया और बाती हम’ की संध्या एक्ट्रेस दीपिका सिंह के ये फनी वीडियो देखकर लोटपोट हो जाएंगे आप (Funny Videos Of ‘Diya Aur Baati Hum’ Actress Deepika Singh)

Deepika Singh

क्या शादी के बाद आपके करियर में कोई बदलाव आया?
नहीं, शादी के बाद भी मैं पहले की तरह ही काम कर रही थी. हां, प्रेग्नेंसी के समय और बेटे के जन्म के बाद मैंने कुछ समय का ब्रेक लिया था, लेकिन उसके बाद मैंने काम करना शुरू कर दिया था.

आपका मां बनने का अनुभव कैसा था?
सच कहूं तो ‘ दिया और बाती हम’ सीरियल से भी ज़्यादा मेहनत मां बनने में लगी. मां बनना औरत के लिए एक तरह से ट्रांसफॉर्मेशन का टाइम होता है. आज जब मैं ये सब सोचती हूं तो मुझे बहुत ख़ुशी होती है. मैंने पहले से ही तय कर लिया था कि मेरी डिलीवरी नॉर्मल होगी, मैं बच्चे को अपना दूध ही पिलाऊंगी और उसे डायपर नहीं पहनाऊंगी. मैंने सोहम की देखभाल के लिए मेड नहीं रखी. मुझे डर लगता था कि वो हाइजीन का ख़्याल रखेगी या नहीं. पहले मैंने मेड रखने की कोशिश की थी, लेकिन मुझे उनका काम पसंद नहीं आया. एक बार तो सोहम को आंख में इंफेक्शन हो गया था. मेड्स बच्चे को डाइपर पहनाकर फ्री हो जाती हैं इसलिए मैं अपने बच्चे को उनके हवाले नहीं करना चाहती थी.

दीपिका, मां बनने के बाद आप फिर से पहले की तरह स्लिम-ट्रिम हो गई हैं. आपने इतनी जल्दी वज़न कैसे कम किया?
मैंने वज़न कैसे कम किया, इससे पहले मैं आपको ये बताना चाहती हूं कि मेरा वज़न इतना ज़्यादा कैसे बढ़ गया. मेरा वज़न बढ़ने के ऐसे कई कारण थे, जिन पर मेरा कोई कंट्रोल नहीं था, जैसे- प्रेग्नेंसी के दौरान मुझे थायरॉइड की प्रॉब्लम हो गई थी, जिसके कारण मेरा वज़न तेज़ी से बढ़ने लगा था. फिर डिलीवरी के बाद मेरे घरवालों ने मुझे ख़ूब खिलाया-पिलाया, ताकि मुझे कमज़ोरी न आ जाए और बच्चे को दूध की कमी न हो. हमारे यहां 40 दिन तक घर से बाहर निकलने की इजाज़त नहीं है, इसलिए बैठे-बैठे बज़न और बढ़ने लगा. मैंने अपने बच्चे के लिए डाइपर का इस्तेमाल कभी नहीं किया. मुझे लगता है कि पीरियड्स के दौरान जब पांच दिन पैड पहनने में मुझे इतनी परेशानी होती है, तो इतने छोटे बच्चे को डायपर क्यों पहनाया जाए. जन्म के कुछ समय तक वो बार-बार कपड़े गीले करता था इसलिए मेरी नींद पूरी नहीं हो पाती थी, नींद की कमी से भी मेरा वज़न बढ़ने लगा. उस पर सोहम प्री-मैच्योर था इसलिए मैं उसका कुछ ज़्यादा ही ध्यान रखती थी. इस तरह मेरा वज़न 54 किलो से लगभग 72 किलो पहुंच गया. बढ़े हुए वज़न के कारण मुझे कमर दर्द की शिकायत भी होने लगी थी.

कब लगा कि अब वज़न कम करना ज़रूरी हो गया है?
सोहम (बेटे) के जन्म के बाद मेरा वजन बहुत बढ़ गया था. मेरी बॉडी इतनी स्टिफ हो गई थी कि मैं कुछ भी नहीं कर पा रही थी. साथ ही मुझे कमर दर्द भी हो रहा था. सोहम के जन्म के ठीक 2 महीने बाद से मैंने जिम ज्वाइन कर लिया. हालांकि मैं जिम में बहुत कम टाइम नहीं बिता पाती थी, क्योंकि मुझे सोहम को दूध पिलाने के लिए जल्दी घर आना होता था. ब्रेस्ट फीडिंग की वजह से मैं वेट ट्रेनिंग तो कर नहीं सकती थी, इसलिए मैं जिम में ट्रेडमिल, क्रॉस ट्रेनर, कार्डियो वगैरह ही करती थी. कई बार मैं ब्रेस्ट पंप से उसके लिए दूध भी रखकर जाती थी. इसके अलावा ब्रेस्ट फीडिंग और डांस के कारण भी मेरा वज़न तेज़ी से कम हो रहा था.

यह भी पढ़ें: Exclusive! करीना कपूर की तरह बेबी बम्प के साथ शूटिंग करने में कोई परहेज़ नहीं है ‘दीया और बाती हम’ की संध्या उर्फ दीपिका सिंह को (Exclusive! TV Actress Deepika Singh Flaunts Her Baby Bump At Lakme Fashion Week Summer/Resort 2017)

Deepika Singh

क्या आपने डांस की स्पेशल ट्रेनिंग ली है?
हां, मैंने ओड़ीसी डांस सीखा है. हफ्ते में तीन दिन मेरे गुरु सनातन चक्रवर्ती जी मुझे ओड़ीसी डांस सिखाते हैं. मुझे डांस करना बहुत पसंद है. डांस मेरे लिए पूजा की तरह है, इससे मुझे आध्यात्मिक शांति मिलती है. जब भी मैं डांस करती हूं, तो मैं ख़ुद को एक अलग ही दुनिया में पाती हूं. मेरे ख़्याल से डांस एक अच्छी एक्सरसाइज़ है और इससे बहुत ख़ुशी मिलती है. जिम, डांस, योगा, मेडिटेशन के साथ-साथ मैंने अपनी डायट पर भी ख़ास ध्यान देती हूं.

आपके पूरे दिन का डायट प्लान क्या होता है?
मैं सुबह छह बजे उठ जाती हूं. सुबह मैं एक बॉटल गर्म पानी में 1-2 टीस्पून दालचीनी पाउडर मिलाकर पीती हूं. ये शरीर के टॉक्सिन बाहर निकालकर शरीर की सफ़ाई का काम करता है. ये इतना अच्छा प्रयोग है कि इसे आप सफ़र के दौरान भी कर सकते हैं. मेरा पानी पीने का भी नियम है. मैं शाम चार बजे तक ख़ूब पानी पीती हूं, उसके बाद ज़रूरत के हिसाब से पीना पीती हूं. सुबह 8 बजे तक मैं नाश्ता कर लेती हूं. नाश्ते में पोहा या ओट्स में मूंगफली, फ्रूट्स वगैरह डालकर खाती हूं. इससे मैं फ्रूट्स भी उसी समय खा लेती हूं. हफ्ते में तीन दिन सुबह दस बजे मेरी डांस क्लास शुरू हो जाती है (हंसते हुए), वो भी सोहम के हिसाब से आगे-पीछे होती रहती है. बाकी के दिन मैं योगा कर लेती हूं. साढ़े ग्यारह बजे तक डांस या योगा करने के बाद मैं शिकंजी (नींबू पानी) या छाछ पीती हूं. मुझे लो बीपी की प्रॉब्लम है इसलिए मैं नमक-शक्कर वाला नींबू पानी पीती हूं. कुछ देर बाद मन हुआ तो सलाद ले लेती हूं, नहीं तो सीधे लंच करती हूं. एक-डेढ़ बजे तक मैं लंच कर लेती हूं. लंच में 2 रोटी, 2 सब्ज़ी (एक सूखी और एक रस वाली), दाल, दही, हरी मिर्च, प्याज़… बिल्कुल देसी स्टाइल में खाना खाती हूं मैं. शाम पांच बजे मैं चाय के साथ बिस्किट या खाखरा लेती हूं. कई बार चना या मूंगफली खा लेती हूं. घर में खाना चाहे कितने बजे भी बने मैं शाम सात बजे अपने लिए दो परांठे बनवा लेती हूं और उन्हें सब्ज़ी या दाल जो भी मिले उसके साथ खा जाती हूं. मैंने कभी क्रैश डायट नहीं की. हां, खाना पचाने के लिए मैं रेग्युलर एक्सरसाइज़ हमेशा करती हूं. फिट रहकर, सही डायट लेकर, रेग्युलर एक्सरसाइज़ करके हम बीमारियों से दूर रह सकते हैं, बढ़ती उम्र के संकेतों को कम कर सकते हैं और हमेशा कॉन्फिडेंट नज़र आ सकते हैं.

Deepika Singh

दीपिका, आपकी स्किन बहुत अच्छी है, इतने टाइट शेड्यूल में भी आप अपनी स्किन का ध्यान कैसे रखती हैं?
मैं अपने शरीर पर केमिकल का कम से कम इस्तेमाल करती हूं इसलिए मैं बालों में कलर करने से बचती हूं. मैं बालों के लिए हर्बल शैंपू इस्तेमाल करती हूं. शूटिंग के अलावा मैं मेकअप नहीं करती. स्किन केयर के लिए भी मैं देसी उबटन का ही इस्तेमाल करती हूं. मैं पल्सेस, चावल, कलौंजी और बादाम को पीसकर पाउडर बनाकर एयर टाइट कंटेनर में रख देती हूं. फिर बाथरूम में ये पाउटर एक बाउल में रखती हूं और इस उबटन को साबुन की तरह लगाकर नहाती हूं. नहाने में मुझे 15 मिनट लग जाते हैं, लेकिन ये संतुष्टि होती है कि मैंने अपने शरीर पर कोई केमिकल नहीं लगाया. बॉडी वॉश या साबुन लगाने के बाद कितना भी पानी डालो, वो बॉडी में रह ही जाता है. उबटन यदि शरीर पर रह भी जाए तो उसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता. इसके अलावा मैं हल्दी, केसर, दूध, पपीता आदि से लेप बनाकर चेहरे पर लगाती हूं. जब भी टाइम मिलता है, तो मैं आटे में सरसों का तेल मिलाकर बॉडी मसाज भी करती हूं, इससे त्वचा को ग्लो मिलता है.
– कमला बडोनी

टीवी की ये मशहूर बहू सबकी फेवरेट है और दिव्यांका की इमेज थी प्यारी सी पारंपरिक बहू की. लेकिन एक दुर्घटना के बाद उनका वज़न काफ़ी बढ़ गया था जिसके बाद उनके पति विवेक दहिया ने उन्हें प्रेरित किया और दिव्यांका ने अपना ऐसा मेकओवर किया कि वो बन गईं एकदम हॉट. क्या है दिव्यांका की फिटनेस का राज़, आइए जानें.

Divyanka Tripathi

दिव्यांका जिम जाती हैं और योगा भी करती हैं. हालांकि जिम जाने का उनका फिक्स टाइम नहीं है लेकिन वो नियमित वर्कआउट करती हैं.

Divyanka Tripathi

कार्डियो या वेट ट्रेनिंग उन्हें अधिक पसंद है. लेकिन दिव्यांका यह जानती थीं कि सिर्फ़ जिम जाना ही काफ़ी नहीं इसलिए उन्होंने डायट में भी बदलाव किए. उनका शरीर भी ऐसा है कि फैट्स जल्दी बनता है इसलिए उनके लिए समझदारी से हेल्दी डायट का चुनाव करना ज़रूरी था.

Divyanka Tripathi
  • दिव्यांका के दिन की शुरुआत होती है ग्रीन जूस से.
  • वो मीठा खाने से परहेज़ करती हैं.
  • घर का बना खाना ही खाती हैं.
  • नाश्ते में वो फ्रूट या ऑइल फ़्री पैनकेक्स भी खाना पसंद करती हैं.
  • वो सूप्स लेना भी पसंद करती हैं इसलिए जब भी उन्हें भूख महसूस होती है वो हेल्दी सूप पीती हैं. इस से भूख नियंत्रण में रहती है.
Divyanka Tripathi
  • इसके अलावा वो अपने साथ पनीर रखती हैं ताकि भूख लगने पर बीच बीच में उसका सेवन कर सकें.
  • दोपहर के खाने में वो रैप्स लेती हें. वो सब्ज़ियों व पनीर रैप्स का सेवन काफ़ी करती हैं. उनका खाना बिना तेल का ही होता है.
Divyanka Tripathi
  • चावल व कार्ब्स से दूर रहती हैं.
  • पानी खूब पीती हैं ताकि हाइड्रेटेड रहें.
  • शाम का भोजन 7:30-8 बजे से पहले कर लेती हैं.
  • उन्हें ऑइल फ्री वेजीटेबल कटलेट भी काफ़ी पसंद है.

तो आप भी अनुशासन में रहकर पा सकते हैं फिट शरीर. दिव्यांका अक्सर अपने पति के साथ अपने फिटनेस वीडियोज़ डालकर सबको प्रेरित भी करती हैं.

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड के ये 11 स्टार्स शराब को छूते भी नहीं! (11 Bollywood Stars Who Say No To Alcohol)

सारा अली खान (Sara Ali Khan) आज की तारीख़ में सबसे फिट स्टार्स में से एक मानी जाती हैं लेकिन जिस वक़्त उन्होंने फ़िल्मों में आने की बात सोची थी तब उनके सामने सबसे बड़ी समस्या थी उनका वज़न. जी हां, वो 96 किलो की थीं और खाने की भी बेहद शौक़ीन थीं, लेकिन खाने के अलावा जो उनके बढ़े हुए वज़न का सबसे बड़ा कारण था वो था pcod. इस समस्या के साथ वज़न कम करना बेहद चुनौतीपूर्ण था, पर इस वज़न के साथ फ़िल्मों में आने की बात सोची भी नहीं जा सकती थी. इसलिए उन्होंने ठान लिया कि अब उन्हें इस वज़न को कम करना ही है और फिर पूरी शिद्दत से लग गई वो इस काम में.

Sara Ali Khan when she was 96kgs

सारा ने अपने मन को समझना शुरू किया कि एक तरफ़ पिज़्ज़ा है तो दूसरी तरफ़ प्रोटीन है, एक तरफ़ चॉकलेट है तो दूसरी तरफ़ सलाद है. सारा ने महज़ चार महीनों में ही पहले 30 किलो वज़न घटाया और फ़िल्मों में आने से पहले वो 46 किलो वज़न कम कर चुकी थीं.

Sara Ali Khan hot

सारा ने हेल्दी डायट के साथ साथ वर्क आउट शुरू किया. उनका डांस का शौक़ भी काफ़ी काम आया, वो रोज़ कथक करतीं, इसके अलावा योगा भी करतीं. अपने पापा सैफ़ के साथ वो एक-दो घंटे टेनिस खेलतीं और एक अनुशासित जीवन शैली से जल्द ही वो शेप में आ गईं.

सारा ने वर्कआउट की शुरुआत कार्डियो से की और साथ ही वो साइक्लिंग, वॉकिंग और ट्रेडमिल भी करती थीं. इसके अलावा सारा नियमित रूप से पिलेट्स व बॉक्सिंग भी करतीं.

Sara Ali Khan hot

सारा बाहर का खाने की बजाय घर का बना खाना ही खाती हैं. सारा के डायट में रोटी, दाल, सब्जियां शामिल होती हैं. इसके अलावा वो चिकन, एग वाइट भी खाना पसंद करती हैं. सुबह की शुरुआत एक ग्लास गर्म पानी से होती है.

वर्कआउट के बाद सारा, प्रोटीन शेक, फ्रूट्स, इडली, ओट्स, मूसली व टोफू जैसी चीजें लेती हैं.

अब वो नियमित रूप से वर्क आउट करती हैं और डायट के साथ समझौता नहीं करतीं. अपनी बीमारी से वो मज़बूती से लड़ रही हैं.