Tag Archives: win

गोल्डन गर्ल हिमा दास की कामयाबी ने प्रधानमंत्री मोदी को किया भावुक (Seeing Her Passionately Search For The Tricolour Touched Me Deeply: PM Narendra Modi)

 

Athlete Hima Das

भारतीय ऐथ्लीट हिमा दास ने गुरुवार को आईएएएफ विश्व अंडर २० एथलेटिक्स चैम्पीयन्शिप की ४०० मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है.

ये चैम्पीयन्शिप फ़िनलैंड के टेम्पेयर शहर में हुई थी. ऐसा करके अब हिमा ट्रैक स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीतनेवाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी उनकी तारीफ़ करते हुए उन्हें बधाई दी… मोदी जी ने कहा…जीत के बाद तिरंगे के लिए जो प्यार हिमा के जज़्बे में दिखा और राष्ट्रगान के समय उनका भावुक होना मेरे मन को भीतर तक छू गया! यह देखने के बाद आख़िर किस भारतीय की आँखें नम ना होंगी!

आप देखें प्रधानमंत्री मोदी ने जो वीडियो ट्विटर पर शेयर किया

असम की रहनेवाली हिमा १८ साल की हैं और ग़रीब किसान की बेटी हैं… हम सबको उनपर गर्व है!

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: संपत्ति में हक़ मांगनेवाली लड़कियों को नहीं मिलता आज भी सम्मान…

हैदराबाद मैच जीत सफल कप्तानों में शुमार हुए विराट (Hyderabad test Match: India wins by 208 runs)

India's captain Virat Kohli (centre R) with teammates celebrate after winning a solo Test match against Bangladesh at the Rajiv Gandhi International Cricket Stadium on February 13, 2017. IMAGE RESTRICTED TO EDITORIAL USE - STRICTLY NO COMMERCIAL USE----- / GETTYOUT / AFP PHOTO / NOAH SEELAM / ----IMAGE RESTRICTED TO EDITORIAL USE - STRICTLY NO COMMERCIAL USE----- / GETTYOUT

हैदराबाद में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ टेस्ट मैच जीतकर कप्तान विराट का क़द और भी विराट हो गया है. विराट की कप्तानी में हर खिलाड़ी अपना बेहतरीन प्रदर्शन किया और मैच को 208 रनों से जीत लिया. इस मैच में बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी का बेहतरीन कॉम्बो पैक देखने को मिला. पहले टीम के बैट्समैन ने अपना काम किया और बाद में बॉलर्स ने मेहमान टीम को आउट करके पवेलियन का रास्ता दिखाते हुए मैच को जीत लिया.

Hyderabad : India's Ravichandran Ashwin celebrates with teammates the dismissal of Bangladesh's captain Mushfiqur Rahim during the last day of their one-off cricket test match in Hyderabad on Monday. PTI Photo (PTI2_13_2017_000092B)

भारत की ओर से इस मैच में 2 सेंचुरी और एक डबल सेंचुरी लगी. गेंदबाज़ों में रविंद्र जड़ेजा और ईशांत शर्मा ने बेहतरीन बॉलिंग की. भारतीय गेंदबाज़ों ने पांचवें दिन पिच से मिल रही मदद का फायदा उठाते हुए बांग्लादेश की दूसरी पारी 250 रनों पर समेट दी. दूसरी पारी में ईशांत शर्मा और जड़ेजा के रूप में बेहतरीन गेंदबाज़ी देखने को मिली. लंच के बाद ज़्यादा देर तक भारतीय गेंदबाज़ों ने मेहमान टीम को टिकने नहीं दिया.

kohlidoublecentury_reuters_647_021017120108

विराट हुए सफल कप्तानों में शामिल
बांग्लादेश के ख़िलाफ़ एकमात्र टेस्ट में जीत हासिल करते ही विराट कोहली कप्तान के रूप मे 15 वां टेस्ट जीत मो. अज़हरुद्दीन को पीछे छोड़ दिया. अज़हर की कप्तानी में भारत ने 14 टेस्ट मैच जीते थे. जिससे कप्तान के तौर पर सर्वाधिक जीत हासिल करने वालों की सूची में विराट तीसरे स्थान पर आ गए. उनसे ऊपर स़िर्फ महेंद्र सिंह धोनी (27 जीत) और सौरव गांगुली (21 जीत) रह गए हैं. इस मैच के मैन ऑफ द मैच भी विराट कोहली रहे. इस मैच के साथ ही विराट ने कई रिकॉर्ड बनाए.

ground

मैच जीतने के बाद विराट कोहली ने ग्राउंड स्टाफ के साथ फोटो खिंचवाई.

श्वेता सिंह 

ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी और कमरतोड़ गेंदबाज़ी से टीम इंडिया को मिली जीत (wow what a win! india win the match and heart too)

India-test-team

वाह! जीत हो तो ऐसी. पहले ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी फिर कमरतोड़ गेंदबाज़ी. जब टीम में होंगे युवा, तो सर पर सेहरा तो बंधेगा ही. ये है एक ड्रीम टीम. हर खिलाड़ी है फिट तभी तो टीम है हिट. चेन्नई में चल रहे अंतिम टेस्ट मैच में कई रिकॉर्ड्स बनाते हुए टीम इंडिया ने अंग्रेज़ों की टीम को एक बड़े स्कोर के नीचे ऐसा दबाया कि उनका कोई भी प्लेयर खड़ा नहीं हो पाया. सीरीज़ का आख़िरी मैच शानदार तरी़के से जीतकर प्रशंसकों को क्रिसमस का बेहतरीन गिफ्ट दिया.

क्रिसमस मनाना हमसे सीखो
मैच जीतकर टीम ने इंग्लैंग को ये बता दिया कि त्योहार के पहले की जीत कितनी ख़ास और मिठासभरी होती है. क्रिसमस के इस मौ़के पर मैच जीतकर असल में मेहमान टीम को हार का ख़ास तोहफ़ा दिया है हमारे टाइगर्स ने. एम ए चिदंबरम स्टेडियम में पहले दिन से ही भारतीय टीम का दबदबा बना दिखा. पहले बैटिंग, तो खेल के आख़िरी दिन बॉलिंग ने अंग्रेज़ों की कमर तोड़ दी.

टॉस जीता पर मैच हारा
इस मैदान पर टॉस जीतकर पहले ब्लेबाज़ी करनेवाली टीम के जीतने का आंकड़ा ज़्यादा है. शायद इसीलिए इंग्लैंड ने टॉस जीतकर बैटिंग का ़फैसला किया, लेकिन भारतीय खिला़ड़ियों ने उन्हें मुंह की दी.

मैच के हीरो
नायर, राहुल की शानदार बैटिंग के बाद रविंद्र जडेजा ने बॉलिंग की कमान अपने हाथ में ली और 7 विकेट लेकर टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई.

रिकॉर्डों की लग गई झड़ी
* अपना टेस्ट डेब्यू करनेवाले करुण ने रन बनाते हुए ज़रा भी करुणा नहीं दिखाई और आख़िरी मैच में तीहरा शतक जड़ दिया.
* ऐसा करके वो वीरू पाजी के 300 क्लब में एंट्री मार गए.
* 24 साल के राहुल ने टेस्ट करियर का बेहतर स्कोर 199 इसी मैच में बनाया.
* एम ए चिदंबरम स्टेडियम पर बननेवाला ये अब तक का सबसे ज़्यादा स्कोर है.

 टीम की जीत पर वीरेंदर सहवाग ने अपने अंदाज़ में दी बधाई.

 

 

 

– श्वेता सिंह 

आईसीसी महिला चैम्पियनशिप- भारतीय खिलाड़ियों ने किया कैरेबियाई का सूपड़ा साफ़ (ICC women’s championship- India women’s cricket team whitewashes West Indies)

India women’s cricket team

खेल की हर विधा में भारतीय महिला खिलाड़ियों की तूती बोल रही है. महिला हॉकी खिलाड़ियों के बाद भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने वेस्ट इंडीज़ से तीनों वनडे मैच जीतकर टीम का मान बढ़ाया है. 2 वनडे जीतने के बाद भारतीय खिलाड़ियों का दमखम देखने लायक था. मैच बेहद रोमांचक था. मैदान पर इंडीज़ प्लेयर कुछ ख़ास नहीं कर पाए.

वेस्टइंडीज को 15 रन से हराकर तीन मैचों की सीरीज़ में 3-0 से क्लीन स्वीप किया. भारत ने 50 ओवर में छह विकेट पर 199 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाने के बाद कैरेबियाई टीम को 49.1 ओवर में 184 रन पर समेट दिया. आईसीसी महिला चैम्पियनशिप के तहत भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने वेस्टइंडीज़ को बुधवार को खेले गए तीसरे और अंतिम मैच में 15 रनों से हरा दिया. इस जीत के साथ भारतीय टीम ने तीन मैचों की शृंखला 3-0 से अपने नाम कर ली.
हालांकि इस जीत के बावजूद भारतीय टीम आईसीसी चैम्पियनशिप की अंकतालिका में 18 मैचों में 9 जीत हासिल करते हुए 19 अंक लेकर पांचवां स्थान ही हासिल कर सकी और अगले वर्ष होने वाले आईसीसी विश्व कप में सीधे प्रवेश हासिल करने से चूक गई.

India women’s cricket team

भारत के लिए वेदा कृष्णमूर्ति (71) ने सबसे अधिक रन बनाए, जबकि सलामी बल्लेबाज़ दीप्ति शर्मा ने 23 रनों का अहम योगदान दिया. देविका वैद्य 32 रन बनाकर अंत तक नाबाद रहीं. भारत की ओर से एकमात्र छक्का झूलन गोस्वामी (18) ने लगाया. भारत से मिले लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज़ की टीम को केसिया नाइट (55) ने और हैली मैथ्यू (44) ने अच्छी शुरुआत दिलाई. कैरेबियाई टीम एक समय पांच विकेट पर 166 रन बना चुकी थी और उसे आख़िरी की 32 गेंदों में स़िर्फ 34 रन चाहिए थे, लेकिन राजेश्‍वरी गायकवाड के नेतृत्व में भारतीय गेंदबाज़ों ने यहां से बेहतरीन वापसी की और बेहद कसी हुई गेंदबाज़ी करते हुए लगातार विकेट हासिल किए.

राजेश्वरी को सबसे अधिक चार विकेट मिले, जबकि दीप्ति शर्मा, हरमनप्रीत कौर और विद्या ने एक-एक विकेट चटकाए. क्षेत्ररक्षण में भी बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए भारतीय क्षेत्ररक्षकों ने वेस्टइंडीज के तीन बल्लेबाज़ों को रन आउट किया.

 

 

गोल्फर अदिति की अद्वितीय विजय (Aditi’s incredible win)

Golfer Aditi
रियो ओलिंपिक 2016 में दुनियाभर में देश का नाम गोल्फ में रोशन करनेवाली अदिती अशोक (Golfer Aditi) ने ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए डीएलएफ गोल्फ एंड कंट्री क्लब में हीरो महिला इंडियन ओपन ख़िताब जीतकर इतिहास रच दिया. इस जीत के साथ ही वह इंडियन ओपन का खिताब जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई.

गोल्फ में भारत की ओर से अदिति ने दुनिया को यह जता दिया है कि भारतीय गोल्फर किसी से कम नहीं हैं. इस टूर्नामेंट में अदिति का 54 होल के बाद कुल तीन अंडर-213 का स्कोर रहा. इस जीत से उन्हें 60 हज़ार डॉलर की पुरस्कार राशि मिली. इस टूर्नामेंट में दुनियाभर से कुल 114 प्रोफेशनल प्लेयर्स ने भाग लिया था.

18 साल की अदिति ने अमेरिका की ब्रिटनी लिनसीकोम और स्पेन की बेलेन मोजो को एक शॉट से पीछे छोड़ा. अदिति ने दूसरे और दसवें होल में बर्डी बनाई, लेकिन इस बीच उन्होंने सातवें, 13वें और 17वें होल में बोगी कर दी. इस जीत में ट्रॉफी के साथ अदिति को पैसे भी बहुत मिले. जीत की ट्रॉफी और बैंक में बैलेंस दोनों ही अदिति का मनोबल बढ़ाने के लिए काफ़ी हैं. मेरी सहेली की टीम की ओर से अदिति को इस जीत की बहुत-बहुत बधाई!

हिस्ट्री में पहली बार- बाल काटते ही जीता मैच (she cuts her hair and won the match)

cuts her hair

methode-times-prod-web-bin-529d8832-9a00-11e6-b375-620558266136

टेनिस को स्पोर्ट्स जगत का सबसे ग्लैमरस खेल माना जाता है और यह सच भी है. यहां प्लेयर अपने खेल के साथ-साथ अपने लुक्स का भी पूरा ध्यान रखते हैं. स्टेडियम में बैठकर मैच देखनेवाले हों या टीवी पर सभी को ये प्लेयर बड़ी ही आसानी से आकर्षित करते हैं. खेल और आकर्षण का मिश्रण टेनिस गेम के इतिहास में कुछ ऐसा हुआ, जो पहले कभी नहीं हुआ. आप सोच भी नहीं सकते कि इस तरह की घटना कभी हो भी सकती है.

डब्ल्यूटीए फाइनल्स में खेले गए अपने मुकाबले में जीत हासिल करने के लिए उत्सुक रूस की महिला टेनिस खिलाड़ी स्वेतलाना कुजनेत्सोवा ने अपनी चोटी को ही काट दिया. फाइनल खेलना और जीतना अपने आप में एक प्रेशर की तरह होता है. एग्निएस्का रदवांस्का के साथ चल रहे इस फाइनल मैच में कुजनेत्सोवा ने ने बड़ी ही मशक़्क्क़त के साथ पहला सेट जीता, लेकिन रदवांस्का ने दूसरा सेट सीधे सेट में कुजनेत्सोवा को हरा दिया. दूसरा सेट हारने के बाद कुजनेत्सोवा को बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्होंने अंपायर से इजाज़त लेकर कोर्ट पर ही एक कैंची मंगवाई और अपने सुनहरे बालों को काट दिया. यह देखकर कोर्ट पर मौजूद सभी लोग आश्‍चर्य से कुजनेत्सोवा को देखने लगे, लेकिन कुजनेत्सोवा के चेहरे पर किसी तरह के भाव नहीं थे. बड़ी ही आसानी से उन्होंने अपने बाल काटे और फिर तीसरे सेट का मैच शुरू कर दिया.

देखिए कैसे काटा कुजनेत्सोवा ने अपने बाल? एक नज़र इस वीडियो पर.

बाल काटते ही जीता मैच
आपको जानकर हैरानी होगी कि बाल काटने के बाद कोर्ट पर वापसी करते हुए कुजनेत्सोवा ने मैच में वापसी की और तीसरा सेट जीतने के साथ ही ट्रॉफी पर अपना हक़ जमाया. लगता है कुजनेत्सोवा को पहले ही अंदर से यह फील हो गया था कि उनके बाल ही उनेक दुश्मन हैं. तभी तो बाल काटते ही वो जीत गईं.

कैंची देखकर क्या डर गई थीं रदवांस्का?
चलते मैच के बीच मेडिकल ट्रीटमेंट लेना, तो सभी जानते हैं, लेकिन जब कुजनेत्सोवा ने अंपायर से कैंची मांगी, तो स़िर्फ अंपायर ही नहीं, बल्कि कुजनेत्सोवा की विरोधी खिलाड़ी रदवांस्का भी हैरान रह गईं. कोर्ट पर मौजूद सभी लोग हैरानी से देख रहे थे. अंपायर ने कैंची मांगने की बात की स्वीकृति रदवांस्का भी ली. रदवांस्का ने हामी भर दी. पोस्ट मैच के बाद दिए गए इंटरव्यू में रदवांस्का ने कहा कि उन्हें डर तो नहीं लगा, लेकिन हां, इस घटना का उन्हें ज़रा भी अंदेशा नहीं था.

बाल काटने के बाद क्या कहा कुजनेत्सोवा ने?
खेल के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में कुजनेत्सोवा ने कहा, हर बार अच्छा शॉट लगाने के बाद मेरी चोटी बार-बार मेरी आंखों पर आ जाती. इससे मुझे परेशानी होने लगी. तब मैंने सोचा कि आख़िर इस समय मेरे लिए क्या ज़रूरी है- मेरे बाल या मैच? तब मैंने निर्णय लिया किया कि बाल तो बढ़ सकते हैं, लेकिन मैच… मैंने बहुत ज़्यादा नहीं सोचा इसके बारे में और अपने बाल काट दिए. मुझे कोर्ट पर अच्छा प्रदर्शन करना था. सच कहूं तो मुझे भी नहीं पता कि मैंने कितने बाल काटे.

कोर्ट पर बाल काटकर कुजनेत्सोवा ने यह तो बता ही दिया है कि खेल के बीच वो किसी ऐसी चीज़ को बर्दाश्त नहीं करेंगी, जो खेल में बाधा सिद्ध होगी. इसके अलावा उन्होंने अपने प्रतिद्वंदियों को यह भी दर्शा दिया है कि उनके लिए खेल ज़्यादा मायने रखता है, न कि खेल के दौरान लुक्स.

 

मोहाली का मोह: विराट-धोनी ने दिलाई शानदार जीत (Mohali affection: Dhoni & Virat were winning key)

Mohali affection

mohali7592
पिछला वनडे हारने के बाद तीसरे वनडे में टीम इंडिया नए जोश के साथ मैदान पर उतरी. टीम के गेंदबाज़ों ने पहले अपना काम किया. कीवियों को बड़ा स्कोर खड़ा करने से रोका. गेंदबाज़ों के काम पूरा करने के बाद बल्लेबाज़ों ने ज़िम्मा संभाला और क्या धुंआधार बल्लेबाज़ी की. मैदान के कोने-कोने में रन बन रहे थे. ऐसा लग रहा था कि गेंद एक मिनट के लिए भी सांस नहीं ले पा रही थी. विराट और धोनी ने धनाधन रन बनाकर टीम को मोहाली वनडे में विजय दिलाई.

India's Virat Kohli raises his bat after scoring a century during their third one-day international cricket match against New Zealand in Mohali, India, Sunday, Oct. 23, 2016. (AP Photo/Tsering Topgyal)

रन मशीन का 26वां शतक
टीम के सीनियर, जूनियर और साथी खिलाड़ी उसे रन मशीन कहते हैं. रन मशीन के नाम से मशहूर टीम के आक्रामक बल्लेबाज़ विराट कोहली ने ताबड़तोड़ रन बनाते हुए करियर का 26वां शतक लगाया. उनके रन बनाने में उनका साथ कोई और नहीं, बल्कि टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी दे रहे थे.

India-vs-Kiwi-3rd-ODI-3-600x330

केदार की गेंद नहीं उदार
केदार का दिल जैसे बल्लेबाज़ों को अपना दुश्मन मानती है. कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से जब पोस्ट मैच प्रेज़ेंटेशन केदार के बारे में पूछा गया, तो कैप्टन कूल के चेहरे पर स्माइल छा गई और उन्होंने बोला कि केदार की हर गेंद विकेट के लिए थी. हमें केदार के रूप में अच्छा बॉलर मिला है. केदार जाधव को न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ वनडे सीरीज़ में मौक़ा दिया गया और उन्होंने अपने चयन की सही ठहराया. मोहाली में उन्होंने तीन कीवी बल्लेबाज़ों को पवेलियन भेजा. जाधव ने पांच ओवर गेंदबाज़ी की और 5.80 की इकॉनमी से तीन विकेट झटके. तीन वनडे मुकाबलों में वो 7.66 की औसत के साथ छह विकेट झटक चुके हैं.

dhoni-and-virat_102316103901

मौदान पर दिखे विराट धोनी
मोहाली वनडे का एक भी मोमेंट छोड़ने लायक नहीं था. टीम के कप्तान और सलामी बल्लेबाज़ विराट कोहली का मेल मोहाली स्टेडियम में बैठे दर्शकों और टीवी पर मैच देखनेवालों का दिल मोह रहे थे. टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली के बीच तीसरे विकेट के लिए 151 रनों की बेहतरीन साझेदारी हुई. सलामी बल्लेबाज़ों के जल्दी आउट हो जाने के बाद कोहली और धोनी ने भारतीय पारी को संभाला और जीत की तरफ़ ले गए. दोनों खिलाड़ियों की बल्लेबाज़ी कुछ ऐसी लग रही थी कि जैसे दिवाली के पहले ही स्टेडियम में पटाखे फोड़े जा रहे हों. दोनों खिलाड़ियों ने जमकर कीवी गेंदबाज़ों की धुनाई की.

9 हज़ार की ऊंचाई पर पहुंचे धोनी
कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 91 गेंदों पर शानदार 80 रन बनाए. अपनी इस पारी में छह चौके और तीन छक्के लगाए. बेहतरीन पारी खेलने के साथ ही धोनी वनडे में 9000 रन के मुकाम तक पहुंचने वाले पांचवें भारतीय बल्लेबाज़ हैं. वहीं वर्ल्ड क्रिकेट में ये उपलब्धि हासिल करने वाले वे तीसरे विकेटकीपर बल्लेबाज़ हैं.

गेंदबाज़ों का दमदार रोल
टेस्ट मैचों की सीरीज़ के बाद भारतीय गेंदबाज़ लगातार कीवियों को अपनी बॉलिंग से परेशान कर रहे हैं. अब तक तीनों वनडे में गेंदबाज़ों ने शानदार बॉलिंग करते हुए टीम को नई दिशा दी है. शुरुआती ओवर हों या फिर स्लॉग ओवर उमेश यादव एंड कंपनी पूरी तरह से कसौटी पर खरी उतरी है. टेस्ट से लेकर वनडे तक भारतीय गेंदबाज़ अपनी चमक बिखेर रहे हैं. रफ़्तार के सौदागर उमेश यादव अपना रोल बखूबी निभा रहे हैं. तीसरे वनडे मैच में उन्होंने बेहतरीन तीन विकेट झटके. उमेश यादव ने तीन वनडे मैच में 24.66 की औसत से छह विकेट झटक चुके हैं. उमेश खए अलावा अमित मिश्रा ने भी ज़ोरदार गेंदबाज़ी की. अमित मिश्रा और जसप्रीत बुमराह को दो-दो विकेट मिले.

– श्वेता सिंह

Sakshi Malik-रियो ओलिंपिक… जीत की साक्षी… महिला कुश्ती में भारत को मिला कांस्य पदक!

 2
छा गईं साक्षी मलिक!
  • फ्री स्टाइल महिला कुश्ती में 58 किलोग्राम की वेट केटेगरी में भारत की साक्षी मलिक ने बाज़ी मार ली और इस तरह से रियो ओलिंपिक में भारत को पहला पदक भी मिल गया.(Sakshi Malik)
  • 23 वर्षीय साक्षी(Sakshi Malik) ने बुधवार को हुए कुश्ती के मुकाबले में कज़ाकिस्तान की अइसुलू टाइबेकोवा के पराजित कर कांस्य पदक हासिल किया.

1

  • एक समय था जब साक्षी इस मुकाबले में 0-5 से पिछड़ रही थीं, लेकिन साक्षी ने दूसरे राउंड में 8-5 से यह मुकाबला जीत लिया.
  • प्रेस कॉन्फ्रेंस में साक्षी ने कहा कि उनके मन में एक बार भी यह ख़्याल नहीं आया कि वो हार जाएंगी.
  • साक्षी का कहना था, “भले ही मैं पिछड़ रही थी, लेकिन मेरे मन में नकारात्मक ख़्याल नहीं आए. मुझे यही लग रहा था कि यह मेडल मेरा है और देखिए मेरे हाथ में मेडल आ गया. मेरे सपना था कि मैं अपने देश का झंडा लेकर ग्राउंड में सबके सामने गर्व से सिर ऊंचा करके दौड़ सकूं और आज मेरा यह सपना पूरा हो गया.”
  • साक्षी ओलिंपिक में कुश्ती में पदक हासिल करनेवाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं. हमें गर्व है देश की बेटी साक्षी पर!!!