Tag Archives: women safety

टॉप 12 वुमन सेफ्टी ऐप्स (Top 12 Women Safety Apps)

मेट्रो सिटीज़ में जहां महिलाओं (Women) को काम के सिलसिले में देर रात तक घर से बाहर रहना पड़ता है. ऐसे में उनकी सुरक्षा एक अहम् मुद्दा है. महिलाओं के साथ होनेवाले दुर्व्यवहार, यौन शोषण और बलात्कार जैसे अपराधों की ब़ढ़ती दर को देखते हुए महिला सुरक्षा चिंता का मुख्य विषय बनता जा रहा है. हालांकि सरकार की ओर से इस दिशा में कठोर क़दम उठाए जा रहे हैं, लेकिन इनके अलावा कुछ सेफ्टी ऐप्स (Safety Apps) भी हैं, जो उन्हें सुरक्षित रहने में मदद करेंगे.

 

  1. सेफ्टीपिन (Safetipin)

महिला सुरक्षा पर बनाए गए अनगिनत ऐप्स में से सबसे बेहतरीन ऐप है सेफ्टीपिन, जिसे ऑपरेट करना बहुत आसान है. इस ऐप की ख़ासियत है कि यह ऐप यूज़र (उपयोगकर्ता) के जीपीएस लोकेशन को लगातार ट्रैक करता है. आपातकाल के दौरान यूज़र को आपातकालीन नंबर पर वन-टच अलर्ट मैसेज देता है, ताकि कोई अनहोनी होने से पहले ही यूज़र सावधान हो जाए. यह ऐप संकट में यूज़र को आसपास के सुरक्षित स्थानों के बारे में अवगत कराता है. अन्य महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यूज़र इस ऐप के ज़रिए सुरक्षित व असुरक्षित स्थानों को पिन कर सकती है. यह ऐप केवल हिंदी या अंग्रेज़ी में ही नहीं, बल्कि स्पैनिश में भी उपलब्ध है.

  1. आयएम शक्ति सेफ्टी ऐप (I’m Shakti Safety App)

इस ऐप की विशेषता है कि आपातकालीन स्थितियों में पावर बटन को 2 सेकंड में 5 बार दबान सेे रजिस्टर्ड नंबर पर मैसेज ऑटोमेटिकली चला जाता है यानी कि इस ऐप के माध्यम से यूज़र संकट की स्थिति में किसी विशेष व्यक्ति को इमर्जेंसी मैसेज भेज सकती है. इसमें लोकेशन डिटेल भी होती है. यदि मोबाइल का जीपीएस ऑन नहीं होगा, तो यह ऐप नज़दीकी सेल फोन टॉवर की लोकेशन को मैसेज भेज देता है.

  1. शेक2सेफ्टी (Shake2Safety)

यह ऐप टॉप 10 वुमेन सेफ्टी ऐप्स में से एक है, जिसे महिलाओं के लिए गंभीर परिस्थितियोें में सहायता प्राप्त करने के लिए बनाया गया है. इस ऐप की ख़ासियत है कि यूज़र फोन को हिलाकर (शेक) या पावर बटन को चार बार दबाकर अपने परिवार और मित्रों को संदेश भेज सकती है. फोन को शेक करने के ऑप्शन को यूज़र कभी भी एक्टिवेट और डीएक्टिवेट कर सकती है. ऐसी स्थिति में जहां यूज़र स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने में असमर्थ है, वहां पर यह ऐप बहुत फ़ायदेमंद है, क्योंकि इमर्जेंसी की स्थिति में ऐप के द्वारा इमर्जेंसी संदेश भेजना बहुत आसान है.

  1. निर्भया: बी फीयरलेस ऐप (Nirbhaya: Be Fearless App)

वर्ष 2012 में हुए निर्भया बलात्कार मामले के बाद महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए निर्भया ऐप बनाया गया. इस ऐप के ज़रिए महिला संकट की स्थिति में सेट कॉन्टैक्ट नंबर पर कॉल या मैसेज भेज सकती है. इसके लिए महिला को एसओएस यानी सेव आवर सोल्स (डर्रींश र्ेीी र्डेीश्री) टाइप करना होता है. घबराहट या जल्दबाज़ी में अगर फोन लॉक हो जाए, तो इमर्जेंसी मैसेज भेजने के लिए मोबाइल को हिलाना होता है. एसओएस नंबर के सेट होने पर अपने आप मैसेज सेंट हो जाता है. यह ऐप यूज़र को असुरक्षित स्थानों के बारे में नोटिफिकेशन भी देता है.

  1. सर्कल ऑफ 6 (Circle of 6 App)

महिला सुरक्षा के हिसाब से यह ऐप बहुत उपयोगी है. इस ऐप में यूज़र को अलग-अलग नोटिफिकेशन्स आते हैं, जिनकी मदद से यूज़र अपने पहचान के सर्कल (नज़दीकी लोगों) को अलर्ट कर सकता है. इस ऐप में महिला हेल्पलाइन, वुमेन राइड डेवोकेसी और इमर्जेंसी नंबर दिए रहते हैं. इन नंबर्स पर एक क्लिक करके यूज़र महिला अपने सर्कल के लोगों को कॉल कर सकती है. इसे ऑपरेट करना बेहद आसान है और इच्छानुसार यूज़र्स अपने सर्कल के लोगों में बदलाव कर सकता है. इस ऐप को हिंदी और अंग्रेज़ी दोनों भाषाओं में उपयोग किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: इन 10 तरीक़ों से अपने स्लो मोबाइल को बनाएं फास्ट (10 Smart Tricks To Speed Up Your Android Phone)

 

  1. बीसेफ (bSafe)

महिलाओं की सुरक्षा के प्रति आश्‍वस्त रहने के लिए यह ऐप एक चैनल का काम करता है. यह ऐप वुमेन यूज़र की लाइव लोकेशन को

जानने में उसके परिवार, गार्जियन और दोस्तों की मदद करता है. यूज़र आपातकालीन स्थितियों में एसओएस मैसेज फीचर का लाभ उठा सकता है. यह फीचर सभी इमर्जेंसी कॉन्टैक्ट को जीपीएस लोकेशन के साथ संदेश भेजता है.

  1. स्मार्ट24×7 (Smart (24×7)

स्मार्ट24×7 की मदद से महिलाएं संदिग्ध परिस्थितियों में एसओएस मैसेज को चुनिंदा लोगों को भेज सकती हैं. इस ऐप में संदिग्ध परिस्थितियों के लिए एक पैनिक बटन दिया गया है, जब महिलाएं किसी संकट में फंस जाती हैं, तो इस पैनिक बटन को दबाने पर तुरंत मैसेज संपर्क सूत्रों (परिवार, रिश्तेदारों और दोस्तों) को भेज सकती हैं.

  1. वुमेन फाइट बैक ऐप (Women Fight Back app)

सुरक्षा के लिहाज़ से यह ऐप भी महिलाओं के लिए बहुत फ़ायदेमंद है. इस ऐप के द्वारा संकट की स्थिति में अपने क़रीबी लोगों, परिवार व मित्रों के पास एसओएस मैसेज भेजकर जीपीएस ट्रैकिंग के ज़रिए इमर्जेंसी कॉल भी किया जा सकता है. इस ऐप में रजिस्टे्रशन और लॉग इन करने के बाद इसमें दिए गए फीचर को अपनी इच्छा से चुनना होता है. इस ऐप में पैनिक बटन भी होता है, जिसका इस्तेमाल एसएमएस भेजने के लिए किया जाता है. जब यह मैसेज रिसीवर के पास पहुंचता है, तो महिला की मदद के लिए चिल्लाने की आवाज़ में बीप करता है.

  1. वुमन्स सिक्योरिटी (Women’s Security)

बहुत सारे सेफ्टी ऐप्स यूज़र्स को इंस्टेंट मैसेज भेजने के लिए इमर्जेंसी नंबर की सुविधा प्रदान करते हैं, जबकि इस ऐप में एक और सेफ्टी फीचर है. इसमें जाकर यूज़र 45 सेकंड्स तक आवाज़ रिकॉर्ड करके आपातकालीन नंबर्स पर संदेश भेज सकता है.

  1. वॉच ओवर मी ऐप (Watch Over Me App)

महिलाओं की सुरक्षा को सुनिश्‍चित करने के लिए ज़रूरी है कि उनके लोकेशन को ट्रैक किया जाए. इस ऐप के द्वारा यूज़र के लोकेशन को आसानी से ट्रैक किया जा सकता है.

  1. सिक्योर हर ऐप (Secure Her App)

इस ऐप के द्वारा महिला मुश्किल घड़ी में अपने परिवार व क़रीबी लोगों को संदेश भेेज सकती है. महिला को बस दो बार ही ऐप आइकन को टैप करना होता है, फिर एसओएस मैसेज महिला के संपर्क-सूत्रों तक पहुंच जाता है.

  1. स्टे सिक्योर (Stay Secure)

अन्य सेफ्टी ऐप्स की तरह स्टे सिक्योर ऐप में महिला उपयोगकर्ता संकट की स्थिति में आपातकालीन संदेश भेज सकती है. इस ऐप का इस्तेमाल करने के लिए महिला को 5 बार पावर बटन दबाना होता है. इसके बाद इमर्जेंसी नंबर्स पर संदेश पहुंच जाता है. इस ऐप में एसओएस मैसेज की सुविधा भी है, जिसे वह 5 लोगों को भेज सकती है. इंटरनेट न होने पर भी महिला उपयोगकर्ता इस ऐप का इस्तेमाल कर सकती है.

उपरोक्त वुमेन सेफ्टी ऐप्स के अलावा और भी बहुत सारे ऐप्स हैं, जिनका इस्तेमाल वह आपातकालीन स्थितियों में कर सकती हैं.

–     लाइफ360फैमिली लोकेटर ऐप (Life360   Family Life360   Family  Locator App)

–     वुमेन सेफ्टी ऐप (Women safety App)

–     रक्षा वुमेन सेफ्टी अलर्ट (Raksha WomenRaksha Women Safety Alert)

–     विदयू ऐप (VithU App)

–     टैक्सीपिक्सी (TaxiPixi)

–     चिल्ला (Chilla)

 – पूनम नागेंद्र शर्मा

यह भी पढ़ें: पढ़ाई को रोचक बना रहे हैं एजुकेशनल ऐप्स (Best Educational Apps For Android)

यह भी पढ़ें: स्मार्ट महिलाओं के लिए मोबाइल वॉलेट टिप्स (Mobile Wallet Tips For Smart Women)

हर महिला के फोन में होने चाहिए ये 5 सेप्टी ऐप्स (5 Safety Apps Every Woman Should Download)

Safety Apps For Women

Safetipin (सेफ्टीपिन)

बात जब महिलाओं (Women) की सेफ्टी (Safety) और सुरक्षा की हो, तो सेफ्टीपिन एक बेहतरीन ऑप्शन है. महिलाओं की पर्सनल सेफ्टी को ध्यान में रखकर यह ऐप बनाया गया है. इसमें उनकी सुरक्षा से जुड़ी सभी ज़रूरी बातों को शामिल किया गया है. इसमें जीपीएस ट्रैकिंग, इमर्जेंसी कॉन्टैक्ट नंबर्स, सेफ लोकेशन के डायरेक्शन्स आदि की सुविधा है. इस ऐप में सभी सुरक्षित जगहों को पिन किया गया है, ताकि ज़रूरत के व़क्त आप सुरक्षित स्थान पर पहुंच सको. इसके अलावा यूज़र्स अनसेफ लोकेशन्स को भी पिन कर सकते हैं, ताकि बाकी के लोग सतर्क रहें. यह ऐप हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषाओं में उपलब्ध है.

Raksha – women safety alert (रक्षा- वुमेन सेफ्टी अलर्ट)

यह ऐप भी ख़ासतौर से महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है. इस ऐप में एक बटन है, जिसे प्रेस करने से आपके अपनों को आपका लोकेशन मिल जाएगा, इमर्जेंसी के व़क्त आप इसका इस्तेमाल कर सकती हैं. इस ऐप की एक ख़ास बात और है कि अगर इमर्जेंसी के व़क्त आपका मोबाइल स्विचऑफ हो गया हो, तो भी आप वॉल्यूम बटन को 3 सेकंड तक प्रेस करके रखने पर ऐप अलर्ट भेज देता है. अगर आप नो इंटरनेट एरिया में चली जाएं, तो यह ऐप आपके इमर्जेंसी कॉन्टैक्ट्स को एसएमएस भेजता है.

Himmat (हिम्मत)

दिल्ली पुलिस का महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाया गया यह एक और फ्री मोबाइल ऐप है. ऐप को इस्तेमाल करने के लिए यूज़र को दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर जाकर रजिस्टर करना होगा. रजिस्ट्रेशन पूरा होते ही आपको ओटीपी मिलेगी, जिसे फीड करके आप ऐप को इंस्टॉल कर पाएंगी. अगर कभी इमर्जेंसी के हालात बनें, तो आप एसओएस एलर्ट के ज़रिए पुलिस को इतल्ला कर सकती है. जैसे ही आप एसओएस एलर्ट जारी करेंगे, दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम में आपकी लोकेशन, ऑडियो और वीडियो अपनेआप पहुंच जाएंगे, जिसकी मदद से पुलिस आपकी लोकेशन पर जलद से जल्द पहुंच जाएगी.

Women safety (वुमन सेफ्टी)

वुमन सेफ्टी के लिए यह एक और उपयोगी ऐप है. बाकी ऐप्स की ही तरह यह भी ज़रूरत के व़क्त आपके बारे में आपके करीबी लोगों को जानकारी देगा. आपको स़िर्फ एक बटन दबाना होगा और आपके लोकेशन की पूरी जानकारी आपके करीबियों के पास पहुंच जाएगी. एसएमएस के साथ-साथ गूगल मैक के ज़रिए आपकी लोकेशन का लिंक भी आपके आपनों के पास पहुंच जाएगा. आपके मोबाइल का फ्रंट कैमरा आपका सेफ्टी डिवाइस बन जाता है, यह पिक्चर्स क्लिक करके तुरंत सर्वर को भेज देता है. इसमें तीन कलर के बटन्स हैं, आप अपनी सुविधानुसार और हालात की गंभीरता के मुताबिक बटन प्रेस कर सकती हैं.

VithU (विदयू)

यह चैनल वी के प्रोग्राम गुमराह द्वारा शुरू किया गया ऐप है. बाकी ऐप्स की तरह इसे भी डाउनलोड करके एक्टिवेट करें. ज़रूरत के व़क्त मदद के लिए एक्टिवेट बटन पर दो बार क्लिक करें. एक्टिवेट होते ही ऐप आपके सेव किए हुए कॉन्टैक्ट्स को ऑटोमैटिकली मदद के लिए मैसेज और लोकेशन भेजना शुरू कर देता है और जब तक स्टॉप न किया जाए, हर दो मिनट में मैसेज भेजता रहता है. इसके अलावा इस ऐप में कई सेफ्टी टिप्स भी दिए गए हैं, जो महिलाओं के लिए काफ़ी उपयोगी सिद्ध होंगे.

– अनीता सिंह

यह भी पढ़ें: स्मार्ट महिलाओं के लिए मोबाइल वॉलेट टिप्स (Mobile Wallet Tips For Smart Women)

यह भी पढ़ें: 7 कुकिंग ऐप्स जो बनाएंगे कुकिंग को आसान (7 Apps To Make Cooking Easy)

Women’s Day Special: देश की पहली महिला ब्लैक बेल्ट (ताइक्वांडो) किरण उपाध्या से सीखें सेल्फ डिफेंस की टॉप १० टेक्नीक्स (Top 10 Self Defense Techniques Every Woman Should Know)

Top Self Defense Techniques, Woman Should Know

देश की पहली महिला ब्लैक बेल्ट (ताइक्वांडो) किरण उपाध्या से सीखें सेल्फ डिफेंस की टॉप १० टेक्नीक्स
किरण उपाध्या देश की पहली महिला ब्लैक बेल्ट (ताइक्वांडो) हैं और उनका नाम लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है. बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ शाहरुख खान, ऋतिक रोशन, फरहार अख़्तर, करिश्मा कपूर, संजय दत्त आदि के बच्चों को ताइक्वांडो का प्रशिक्षण देने वाली किरण उपाध्या से आप भी सीखें सेल्फ डिफेंस की टॉप १० टेक्नीक्स.

 

जानें किरण उपाध्या के बारे में
* देश की पहली महिला ब्लैक बेल्ट (ताइक्वांडो) किरण उपाध्या बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ शाहरुख खान, ऋतिक रोशन, फरहार अख़्तर, करिश्मा कपूर, संजय दत्त आदि के बच्चों को किरण ताइक्वांडो का प्रशिक्षण दे रही हैं.
* बॉलीवुड से जुड़े लोगों लिए फिट रहना ज़रूरी होता है, इसलिए बॉलीवुड से जुड़े कई सेलिब्रिटीज़ भी किरण से ट्रेनिंग ले रहे हैं.
* किरण उपाध्या का नाम लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है.
* किरण उपाध्या का जन्म मुंबई के एक सामान्य मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ है.
* किरण की मां हेमलता उपाध्या डॉक्टर और पिता गजेन्द्र इंजीनियर हैं.
* किरण ने 10 वर्ष की उम्र से ही ताइक्वांडो का प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया था.
* 1984 में किरण देश की पहली महिला ताइक्वांडो ब्लैक बेल्ट होल्डर बनीं.
* किरण ये मानती हैं कि आत्मरक्षा के लिए हर लड़की को मार्शल आर्ट सीखना चाहिए.
* मुंबई ‘किरण ताइक्वांडो ट्रेनिंग अकादमी’ वह स्थान है जहां अनेक सेलेब्रिटीज़ के बच्चे प्रशिक्षित होने के लिए आते हैं.

यह भी पढ़ें: Women’s Day Special: हमें नाज़ है इन पर!

Top Self Defense Techniques, Woman Should Know

 

सेल्फ डिफेंस की 10 टेक्नीक्स हर महिला को जाननी ज़रूरी हैं (देखें वीडियो):

* जब कोई आपका बैग छीनने की कोशिश करें
* बैग में रखी चाबी, कंघी, फोन, मैगज़ीन को बनाएं हथियार
* कैसे करें पेपर स्प्रे (मिर्च का स्प्रे, बाज़ार में उपलब्ध) का इस्तेमाल
* जब कोई आपका हाथ पकड़े
* जब कोई आपका गला पकड़े
* जब कोई आपको बलपूर्वक जकड़ ले
* चौकन्ने रहें, तैयार रहें, कॉन्फिडेंट रहें
* जब कोई मोबाइल पर बात करते समय आपको छेड़े
* जब ऑटो/टैक्सी वाला ग़लत रास्ते से ले जाए
* जानें ऑटो/टैक्सी में बैठने का सही तरीक़ा

– कमला बडोनी

महिलाएं डर को कहें नाः अपनाएं ये सेल्फ डिफेंस रूल्स (Safety Rules: Women’s Self Defence Tips)

Women's Self Defence Tips
तमाम एहतियात और शोर-शराबे के बावजूद महिलाओं के साथ अपराध और यौन शोषण की घटनाएं कम नहीं हो रहीं. लेकिन डर के साथ तो जीया नहीं जा सकता ना, ना ही दुर्घटना होने का इंतज़ार किया जा सकता है. इसलिए बेहतर होगा कि हर महिला अपनी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी ख़ुद ले. हमेशा सतर्क रहे और हर स्थिति से लड़ने के लिए तैयार भी.

Women's Self Defence Tips

अलर्ट रहें

  • हमेशा अलर्ट रहें. ये सोचकर लापरवाह न बनी रहें कि मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता.
  • अजनबी लोगों पर कभी भरोसा न करें. ऐसे लोगों के साथ ट्रैवल भी न करें. ये आपके लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं.
  • जब भी अकेली हों, सावधान रहें. आपकी बॉडी लैंग्वेज और चाल में भी कॉन्फ़िडेंस होना चाहिए.
  • रात में अकेले बाहर जाना रिस्की है, इसलिए हमेशा ग्रुप में ही बाहर जाएं.
  • शॉर्टकट के चक्कर में सुनसान रास्ते पर जाने से बचें. यहां दुर्घटना होने का ख़तरा ज़्यादा होता है.
  • अगर रात में लिफ्ट में जाना सेफ नहीं लग रहा, तो बेहतर है सीढ़ियों का ही इस्तेमाल करें.
  • अगर आपको लगे कि कोई आपका पीछा कर रहा है, तो फ़ौरन रास्ता बदल दें. किसी भीड़भाड़वाले रास्ते पर मुड़ जाएं.
  • किसी अजनबी से लिफ्ट लेना भी रिस्की हो सकता है. ऐसा न करें.
  • रास्ते में मोबाइल पर बातें करते हुए या म्यूज़िक सुनते हुए न चलें. आपके आसपास कौन क्या बातें कर रहा है, उसके प्रति अलर्ट रहें.
  • ख़ुद ही अपने को प्रोटेक्ट करें. भीड़ से बचने के लिए अपना बैग, बुक्स या फोल्डर को शील्ड के तौर पर इस्तेमाल करें.
  • ज़्यादातर अपराधी अपराध करने के पहले कुछ दिनों या कुछ महीनों तक अपने टारगेट पर नज़र रखते हैं, ताकि उसका रूटीन जान सकें. इसलिए किसी भी अनहोनी से बचने के लिए बेहतर होगा कि अपना रूटीन थोड़े-थोड़े दिनों में बदलते रहें. स्कूल-कॉलेज जाने का रास्ता हो, जिम-ऑफिस का या फिर शॉपिंग का- हमेशा एक ही रास्ते पर न जाएं. थोड़े-थोड़े दिनों में अपना रूट और टाइम बदलती रहें.
  • कभी-कभी अपने फ्रेंड्स या ग्रुप को भी साथ ले जाएं, ताकि किसी को ये न लगे कि आप अकेली हैं.

अगर अकेले ट्रैवल कर रही हैं

  • अपना ट्रिप एडवांस में ही प्लान कर लें और जहां जा रही हैं, जिस होटल में रुक रही हैं, वहां की सेफ्टी के प्रति पूरी तरह आश्‍वस्त हो जाने के बाद ही ट्रिप फाइनल करें.
  • आजकल कई टूऱिज़्म कंपनियां अकेली महिलाओं के लिए अलग से टूर पैकेज देती हैं, जिसमें उनकी सुरक्षा की एक्स्ट्रा केयर की जाती है. बेहतर होगा कि आप भी ऐसा ही कोई पैकेज लें.
  • ट्रैवलिंग के दौरान किसी अजनबी या सहयात्री से अपना फोन नंबर या कोई और डिटेल शेयर न करें, भले ही आपकी उससे कितनी भी अच्छी दोस्ती क्यों न हो गई हो. ये कई बार रिस्की भी हो सकता है.
  • हमेशा एक्स्ट्रा पैसे साथ में ज़रूर रखें. ये इमर्जेंसी में आपके बहुत काम आएंगे.
  • इमर्जेंसी कॉन्टैक्ट नंबर्स की एक लिस्ट अपने पास रखें. मोबाइल फोन के अलावा इसे एक या दो जगह और नोट करके रखें, ताकि ज़रूरत पड़ने पर आप इसका इस्तेमाल कर सकें.
  • बहुत ज़्यादा एडवेंचर के चक्कर में न पड़ें. रात में अकेले अनजान जगह पर घूमने का साहस न दिखाएं. जहां भी घूमना चाहती हैं, दिन में ही घूम लें. आपकी सेफ्टी के लिए ये ज़रूरी है.

ऑफिस से लेट नाइट निकल रही हों

  • अगर कोई पिकअप करने आ रहा है या आपने कोई गाड़ी बुक की है, तो उसके पहुंचने तक इनडोर ही इंतज़ार करें. ऑफिस गेट से बाहर इंतज़ार न करें.
  • सिक्योरिटी गार्ड से कहें कि वो सारी लाइट्स ऑन ही रखे.
  • अगर कोई घूरते हुए या संदेहास्पद स्थिति में नज़र आए, तो फ़ौरन एक्शन लें. पर्स में पेपर स्प्रे भी साथ रखें.
  • ऑफिस के किसी कलीग का बर्ताव भी ठीक न लगे, तो चुप बैठने की ग़लती न करें. तुरंत उसकी शिकायत टॉप ऑथोरिटीज़ से करें. ऐसा करके आप दूसरी महिलाओं की सेफ्टी भी सुनिश्‍चित कर सकेंगी.

रात में अकेले टैक्सी या ऑटो से सफ़र कर रही हों

  • सबसे पहले परिवार के किसी सदस्य या फ्रेंड को बता दें कि आप कहां जा रही हैं और कब तक लौटेंगी.
  • गाड़ी में बैठने से पहले ही टैक्सी ड्राइवर और टैक्सी के नंबर प्लेट की फोटो क्लिक कर लेें और उसे परिवार या फ्रेंड को भेज दें. ध्यान रखें कि ड्राइवर को पता चलना चाहिए कि आप ऐसा कर रही हैं.
  • फोन पर ज़ोर से बात करते हुए बताएं कि आप कहां पहुंची हैं, कैसे ट्रैवल कर रही हैं आदि. इससे ड्राइवर आपको किसी भी तरह का कोई नुक़सान पहुंचाने की हिम्मत नहीं करेगा.
  • जिस रास्ते से परिचित हों, ड्राइवर से वही रूट अपनाने को कहें. किसी शॉर्टकट के चक्कर में न पड़ें. अगर आपको रास्ता नहीं पता है तो किसी ऐप की सहायता लें. जीपीएस ऑन रखें. ये आपको एकदम सही रूट की ओर गाइड करेगा.

यह भी पढ़ें: सोशल मीडिया पर एक्टिव लड़कियों को बहू बनाने से क्यों कतराते हैं लोग?

यह भी पढ़ें: गोरी लड़कियां आज भी हैं शादी के बाज़ार की पहली पसंद…

अगर अकेली रहती हों

कभी करियर की चाह, तो कभी पढ़ाई के लिए कई बार अकेले रहना मजबूरी बन जाता है. ऐसी स्थिति में बड़ी चुनौती है अपनी सेफ्टी यानी आत्मरक्षा. ये उतना मुश्किल भी नहीं बशर्ते आप कुछ एहतियात बरतें.

  • अकेली रहने के लिए सबसे पहले तो जिस एरिया में घर लेने जा रही हैं या रह रही हैं, उसका सुरक्षित होना ज़रूरी है. अच्छी तरह तहक़ीक़ात करने के बाद ही घर फाइनल करें.
  • ये भी सुनिश्‍चित कर लें कि आपकी सोसाइटी द्वारा अपॉइंट किए गए सिक्योरिटी गार्ड्स का बैकग्राउंड वगैरह चेक करने के बाद ही उन्हें अपॉइंट किया गया है या आपकी सोसाइटी ने लाइसेंस्ड सिक्योरिटी सर्विस की ही सेवा ली है.
  • घर के कामों के लिए मेड रखते समय उसकी भी ठीक से जांच-पड़ताल कर लें और उससे संबंधित सारी जानकारी पुलिस में रजिस्टर कर दें.
  • सेफ्टी डोर ज़रूर लगवाएं.
  • किसी अजनबी को घर में न आने दें, ख़ासकर तब जब आप घर पर अकेली हों.
  • पड़ोसियों से मधुर संबंध बनाकर रखें. कुछ इमर्जेंसी पड़ने पर सबसे पहले पड़ोसी ही सहायता के लिए पहुंचते हैं.
  • सोसाइटी में सीसीटीवी कैमरे लगवाएं. इसमें थोड़ा ख़र्च ज़रूर लगेगा, लेकिन आपकी सेफ्टी के लिए ये ज़रूरी है.

सीखें सेल्फ डिफेंस

  • सेल्फ डिफेंस यानी आत्मरक्षा के कुछ तरी़के सीख लें.
  • किसी हमले की हालत में अटैकर की आंखों में उंगलियों से वार करें.
  • हथेली का कप बनाकर कानों पर मारें या उसके घुटनों पर किक करें.
  • कभी किसी के चेहरे पर मुक्के से न मारें. उसके दांतों से आप ख़ुद घायल हो सकती हैं. इसकी बजाय कुहनी का इस्तेमाल करें.
  • इन ट्रिक्स को आज़माएंगी, तो आपको इतना टाइम मिल जाएगा कि आप वहां से बच निकलें.

सहायता के लिए फोन करें

  • मोबाइल फोन हमेशा चार्ज रखें. किसी भी इमर्जेंसी की स्थिति में आप फोन करके सहायता मांग सकती हैं.
  • कुछ इमर्जेंसी कॉन्टैक्ट को स्पीड डायल में सेव करके रखें, ताकि ज़रूरत पड़ने पर तुरंत फोन कर सकें.
  • 100 नंबर पर कॉल करें. कई हेल्पलाइन भी ख़ास आपकी मदद के लिए बनाए गए हैं. इन्हें अपने मोबाइल में सेव करके रखें.

चुप न रहें, आवाज़ उठाएं

अगर कोई आपको परेशान कर रहा हो, तो चुप न बैठें, न ही ये सोचें कि चुप बैठने या कोई एक्शन न लेने से मामला ख़ुद सुलझ जाएगा. ये भी न सोचें कि आप उसे अकेली हैंडल कर लेंगी. ऐसी स्थिति में अपनी सोसाइटी, टीचर्स, पैरेंट्स, फैमिली, ऑफिस और आवश्यक हो, तो पुलिस में शिकायत दर्ज़ कराएं. किसी अनहोनी के होने का इंतज़ार न करें. फ़ौरन एक्शन लें.

लें सेल्फ डिफेंस टेस्ट

आप अपनी सुरक्षा को लेकर कितनी जागरूक हैं और मुसीबत के समय हालात से लड़ने के लिए कितनी तैयार,  ये जानने के लिए इस क्विज़ में हिस्सा लें.

  • क्या आप अपने साथ हमेशा पेपर स्प्रे, स्विस नाइफ या कोई और सेल्फ डिफेंस टूल कैरी करती हैं?
  • क्या आपको कोई ऐसा वुमन हेल्पलाइन नंबर याद है या आपके फोन में सेव है, जिसका इमर्जेंसी के समय आप इस्तेमाल कर सकती हैं?
  • क्या आपके मोबाइल फोन में कोई लेटेस्ट सेफ्टी ऐप इंस्टॉल है?
  • आप अपने घर के दरवाज़े का लॉक हमेशा बदलती रहती हैं या आप बेहतर लॉकिंग सिस्टम लगाने की सोच रही हैं?
  • घर में अकेली होने पर आप सेल्समैन, इलेक्ट्रिशियन, प्लंबर या किसी अजनबी को घर में आने की इजाज़त नहीं देतीं.

जानें अपना स्कोर- अगर आपके तीन या उससे ज़्यादा के जवाब ‘हां’ हैं, तो आप अपनी सेफ्टी को लेकर काफ़ी अलर्ट हैं. अगर तीन से कम ‘हां’ है, तो अब भी देरी नहीं हुई है. आपको अपनी सेफ्टी को लेकर एक्स्ट्रा केयरफुल होने की ज़रूरत है और इसकी शुरुआत आपको आज से ही करनी होगी.

महिला सुरक्षा पर रिपोर्ट: कौन-से राज्य सबसे सुरक्षित, कौन सबसे असुरक्षित? (Women Safety Report: Goa Safest, Delhi, Bihar Vulnerbale)

Women Safety Report india
क्या आप जानते हैं कि महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से देश का कौन-सा राज्य कितना सुरक्षित और कौन सबसे असुरक्षित है? नहीं, तो हम आपको बताते हैं, ये रिपोर्ट. 1 नवंबर, 2017 को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने प्लान इंडिया की वह रिपोर्ट सार्वजनिक की, जो उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा पर सर्वे के आधार पर बनाई है, जिसमें महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से गोवा देश में अव्वल है और दिल्ली, बिहार सबसे बदतर. 

Women Safety Report india

गोवा सबसे सुरक्षित राज्य

रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से गोवा देश में अव्वल है. इस बात का पता लगाने के लिए जेंडर वल्नरेबिलिटी इंडेक्स यानी जीवीआई का इस्तेमाल किया गया है. राज्यों को 0 से 1 के बीच में नंबर दिए गए यानी जो राज्य 1 नंबर के क़रीब है, वो सबसे सुरक्षित और जो 0 के क़रीब वो सबसे असुरक्षित. इस रिपोर्ट में गोवा का जीवीआई 0.656 है, जो देश के औसत जीवीआई 0.5314 से ज़्यादा है. लोगों की सुरक्षा के मामले में भी गोवा देश का नंबर 1 राज्य है. सुरक्षा के अलावा इसमें शिक्षा, स्वास्थ्य, जीविका कमाने और गरीबी के भी आंकड़े जारी किए गए. गोवा शिक्षा के मामले में पांचवे, स्वास्थ्य में छठे, जीविका कमाने में छठे और गरीबी के मामले में पांचवे नंबर पर है.

केरल दूसरे नंबर पर

महिलाओं की सुरक्षा के मामले में केरल दूसरे नंबर पर है. इसका जीवीआई 0.634 है. रिपोर्ट में इस बात पर भी ज़ोर दिया गया है कि केरल ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफ़ी सुधार करके नई ऊंचाइयां छुई हैं. इसके बाद मिज़ोरम, सिक्किम और मणिपुर का नंबर आता है. यानी ग़ौर करें, तो पूर्वोत्तर भारत के ये राज्य राजधानी दिल्ली और मेट्रो शहरों के मुकाबले महिलाओं के लिए काफ़ी सुरक्षित हैं.

राजधानी दिल्ली महिलाओं के लिए असुरक्षित

देश की राजधानी दिल्ली महिलाओं के लिए बेहद असुरक्षित है. 30 राज्यों की इस रिपोर्ट में दिल्ली 28वें नंबर पर है यानी बिहार से स़िर्फ दो पायदान ऊपर. दिल्ली का जीवीआई स्कोर 0.436 है.

बिहार सबसे नीचे

बिहार का नंबर इस लिस्ट में सबसे नीचे है यानी बिहार देश में महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित राज्य है. इसका जीवीआई स्कोर 0.410 है. सुरक्षा के अलावा लड़कियों की शिक्षा व स्वास्थ्य के मामले में भी सबसे पीछे हैं. बिहार को सबसे नीचे रखने का कारण कम उम्र में लड़कियों की शादी और उनका मां बनना है. राज्य के आंकड़ों पर नज़र डालें, तो बिहार में 39 फ़ीसदी लड़कियों की शादी 18 साल से कम उम्र में कर दी जाती है, जिससे वो जल्द ही मां बन जाती हैं और मां और बच्चे दोनों का ही स्वास्थ्य बहुत कमज़ोर होता है. 15-19 साल की उम्र की 12.2 लड़कियां गर्भवती थीं या मां बन चुकी थीं.

इस लिस्ट में जहां झारखंड 27वें नंबर पर है, वहीं उत्तर प्रदेश 29वें नंबर पर. यानी देखा जाए, तो देश के किसी अन्य राज्यों के मुकाबले, बिहार, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और झारखंड सबसे असुरक्षित हैं.

यह भी पढ़ें: आज़ाद भारत की आधी आबादी का सच

यह भी पढ़ें: विमेन सेफ्टीः ख़ुद करें अपनी सुरक्षा

[amazon_link asins=’B00YMY3PX4,B01N1IIOUC,B00IKPRLHM,B00JG534KS,B00PAPJ3HG’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’d3f04527-bfa4-11e7-8445-2fe6f0ff6388′]

महिलाओं के लिए ख़ास सेफ्टी ऐप्स

shutterstock_175661117
हाल ही में महिलाओं के ख़िलाफ़ बढ़ रहे आपराधिक मामलों से निपटने और उनकी सुरक्षा के लिए कई मोबाइल और सॉफ्टवेयर कंपनियों ने सेफ्टी ऐप्स लॉन्च किए हैं. सावधानी और सुरक्षा के ज़रिए ही हम किसी भी अनजाने ख़तरे से ख़ुद को बचा सकते हैं. इसीलिए हम अपने पाठकों के लिए ख़ासतौर पर कुछ चुनिंदा सेफ्टी ऐप्स लेकर आए हैं, जिन्हें ऑपरेट करना बेहद आसान है. आइए, जानें ऐसे ही कुछ लेटेस्ट सेफ्टी ऐप्स के बारे में.

 

निर्भया

दिसंबर, 2012 में दिल्ली में दिल दहला देनेवाली घटना के बाद स्मार्टक्लाउड इंफोटेक ने निर्भया नामक सेफ्टी ऐप बनाया. यह एक एन्ड्रॉइड ऐप है यानी जिनके फोन में एंड्रॉइड है, वो ही इसे डाउनलोड कर सकते हैं. इसे आप बड़ी ही आसानी से स्टेप-बाई-स्टेप फॉलो करके डाउनलोड कर सकते हैं. एक बार ऐप आपके मोबाइल में इंस्टॉल हो गया, तो किसी भी आपातकालीन स्थिति में निर्भया शॉर्ट कट हॉट की पर एक बार क्लिक करने मात्र से यह हॉट की में स्टोर कॉन्टैक्ट्स को मदद के लिए मैसेज और आपकी लोकेशन भेज देता है, ताकि जल्द से जल्द आप तक मदद पहुंच सके.

फाइट बैक

यह ऐप जीपीएस यानी ग्लोबल पोज़ीशनिंग सिस्टम के माध्यम से मोबाइल यूज़र को ट्रैक करता है और किसी भी आपातकालीन स्थिति में पैनिक बटन प्रेस करने पर आपकी लोकेशन को आपके कॉन्टैक्ट्स को एसएमएस या ईमेल के ज़रिए भेज देता है. साथ ही यह गूगल मैप पर भी आपकी लोकेशन भेज देता है. इस ऐप के लिए आपका मोबाइल ऑनलाइन मोड पर होना चाहिए. साथ ही इसमें वैलिड सिमकार्ड व जीपीआरएस कनेक्शन होना चाहिए.

यह भी पढ़ें: 5 ईज़ी स्टेप्स में अनलॉक करें लॉक्ड स्मार्टफोन

हेल्प अलर्ट

इमर्जेंसी में यह आपके कॉन्टैक्ट्स पर आपकी लोकेशन के साथ-साथ आपकी वॉइस रिकॉर्डिंग भी भेजता है. साथ ही एक क्लिक के साथ यह आपके फेसबुक स्टेटस को मदद के लिए अपडेट कर देता है. अलर्ट मैसेजेस आपके कॉन्टैक्ट्स को तब तक जाते रहेंगे, जब तक कि मोबाइल यूज़र ख़ुद कोड डालकर उसे बंद न कर दे.

गो सुरक्षित

इस ऐप की ख़ास बात यह है कि इसमें आप 10 लोगों को एक साथ मैसेज भेज सकते हैं. मुसीबत के व़क्त पावर बटन को 4 बार दबाने से यह ऐप एक्टीवेट हो जाएगा और आपके कॉन्टैक्ट्स पर एसएमएस भेजने लगेगा. एसएमएस में आपकी लोकेशन के साथ-साथ मैसेज और लिंक के ज़रिए मैप पर एक्ज़ैक्ट लोकेशन भी जाएगा. इसमें मौजूद लाउड अलार्म के ज़रिए आप शोर मचाकर आस-पास से मदद भी मांग सकती हैं.

दामिनी

इस ऐप की ख़ास बात है इसके वीडियोज़. ऐप एक्टीवेट करने पर मोबाइल का कैमरा भी अपने आप ऑन हो जाता है, जो वीडियो रिकॉर्डिंग शुरू कर देता है. मैसेज के साथ-साथ यह आपके कॉन्टैक्ट्स को वीडियो लिंक्स भी भेजता रहता है. इस ऐप में आप अपना अलर्ट ग्रुप भी बना सकते हैं.

यह भी पढ़ें: डिलीट हो चुकी फाइल्स को यूं करें रिकवर

स्क्रीम अलार्म

जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि यह औरत की चिल्लाने की ऊंची आवाज़वाला ऐप है. इसके लिए आपको स़िर्फ ऐप का बटन प्रेस करना होगा और किसी के कान के पास लगा देना है. इससे उसका कान डैमेज हो जाएगा. साथ ही इतना शोर होगा कि अगल-बगल के लोगों को इसकी ख़बर हो जाएगी. इसकी मदद से आप किसी भी ख़तरे को ख़ुद से दूर कर सकती हैं.

विद यू

यह चैनल वी के प्रोग्राम गुमराह द्वारा शुरू किया गया ऐप है. बाकी ऐप्स की तरह इसे भी डाउनलोड करके एक्टिवेट करें. ज़रूरत के व़क्त मदद के लिए एक्टिवेट बटन पर दो बार क्लिक करें. एक्टिवेट होते ही ऐप आपके सेव किए हुए कॉन्टैक्ट्स को ऑटोमैटिकली मदद के लिए मैसेज और लोकेशन भेजना शुरू कर देता है और जब तक स्टॉप न किया जाए, हर दो मिनट में मैसेज भेजता रहता है. इसके अलावा इस ऐप में कई सेफ्टी टिप्स भी दिए गए हैं, जो महिलाओं के लिए काफ़ी उपयोगी सिद्ध होंगे.

आईफॉलो

यह ऐप एक्टिवेट करने के बाद अपने प्राइम कॉन्टैक्ट्स को कॉल करने के लिए आपको अपने मोबाइल को स़िर्फ हिलाना होगा और आपका कॉल लग जाएगा. प्राइम कॉन्टैक्ट्स में आप तीन लोगों के नंबर ऐड कर सकती हैं. अगर कभी
किसी मुसीबत में फंस जाएं, तो आपको स़िर्फ अपने मोबाइल को 5 सेकंड के भीतर तीन बार हिलाना होगा और आपके पहले कॉन्टैक्ट को कॉल जाएगा, अगर उन्होंने तुरंत रिस्पॉन्स नहीं दिया, तो ऐप तीनों कॉन्टैक्ट्स पर मैसेज और लोकेशन भेज देगा. इसके साथ ही जैसे-जैसे आपका लोकेशन बदलेगा, हर 10 मीटर पर आपके कॉन्टैक्ट्स को मैसेज जाता रहेगा.

– संतारा सिंह

लेटेस्ट ऐप्स और टेक्नोलॉजी से जुड़े आर्टिकल्स पढ़ें