Tag Archives: World Record

गोल्डन गर्ल हिमा दास को देश का सलाम (Nation Salutes Hima Das)

  • Hima Das

महीने भर में दौड़ में पांचवा गोल्ड मेडल जीतकर हिमा दास ने इतिहास रच दिया. बधाई+कॉन्ग्रैचुलेशन्स हिमा! गोल्डन जर्नी बरकरार है..

Hima Das

आख़िरकार महीनेभर के अंदर हिमा ने 5 वां गोल्ड भी जीत ही लिया. इस तरह भारत की उड़न परी ने जुलाई महीने में एक और गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया. उन्होंने चेक गणराज्य में नोवे मेस्टो नाड मेटुजी ग्रां प्री में महिलाओं की 400 मीटर रेस में 52.09 सेकंड का समय लेते हुए गोल्ड जीता.
भारत की स्टार धाविका हिमा ने अपने मेहनत, लगन व जज़्बे से हर किसी को प्रभावित किया. आज हर कोई खिलाड़ी, नेता, अभिनेता, सिलेब्रिटीज हिमा दास की उपलब्धियों की तारीफ कर रहे हैं और उन्हें बधाई दे रहे हैं. हिमा भी नम्रतापूर्वक सभी को धन्यवाद देते हुए बधाई स्वीकार कर रही हैं. प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति तक, फिल्म स्टार से लेकर स्पोर्ट्स स्टार तक सभी हिमा दास की लगातार स्वर्णिम जीत को सलाम कर रहे हैं.
बिग बी अमिताभ बच्चनजी ने तो यहां तक कह दिया कि हम सबको आप पर गर्व है हिमा दासजी, आपने भारत का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिख दिया!..
ऐक्टर अक्षय कुमार हिमा के प्रदर्शन से इस कदर प्रभावित हुए कि उन्होंने बधाई देते हुए उन पर फिल्म बनाने का प्रस्ताव भी रख दिया. अजय देवगन, तापसी पन्नूू, रवीना टंडन, विवेक ओबेरॉय, प्रीति जिंटा, अर्जुन कपूर, सोनम कपूर आदि फिल्म स्टार्स ने भी हिमा को ढेर सारी बधाइयां दीं.

Hima Das
आज हिमा युवा खिलाड़ियों के लिए एक रोल मॉडल बनकर उभर रही हैं. देश को हिमा दास पर गर्व है. ऐसा लगता है जैसे कल की ही बात हो, जब पिछ्ले साल 2018 में एआईआईएफ वर्ल्ड कप अंडर 20 चैम्पियनशिप के 400 मीटर रेस में उड़न परी हिमा ने गोल्ड जीतकर इतिहास रच दिया था. वे पहली भारतीय खिलाड़ी बनीं, जिन्होंने इस प्रतियोगिता में यह कारनामा कर दिखाया. इसके पहले एथलीट पी. टी. उषा, मिल्खा सिंह इसके क़रीब भर ही पहुंच पाए थे.

Hima Das
मेरी सहेली की तरफ़ से हिमा दास को उनकी तमाम उपलब्धियों के लिए बहुत-बहुत बधाइयां!.. साथ ही जीत का सिलसिला यूं ही बरकरार रहें, इसकी ढेर सारी शुभकामनाएं!…

– ऊषा गुप्ता

Hima Das

यह भी पढ़े: हिमा दास की गोल्डन दौड़… (Hima Das Wins Fourth International Gold Medal In 15 Days)

 

विश्‍व कीर्तिमान- झूलन गोस्वामी ने रचा इतिहास- 200 विकेट लेनेवाली विश्‍व की पहली महिला क्रिकेटर बनीं (Jhulan Goswami Creates History, Becomes First Woman Cricketer To Take 200 Wickets)

Jhulan Goswami, History, First Woman Cricketer To Take 200 Wickets

 

आईसीसी महिला चैंपियनशिप के तहत साउथ अफ्रीका के साथ खेली जा रही तीन वन डे की सीरीज़ में झूलन गोस्वामी (Jhulan Goswami) ने रिकॉर्ड बना दिया. साउथ अफ्रीका में चल रहे चैंपियनशिप के दूसरे वन डे में उन्होंने इतिहास के सुनहरे पन्नों में अपना नाम दर्ज कर दिया. जी हां, उन्होंने किंबर्ले में हुए दूसरे वन डे में साउथ अफ्रीका की लारा वूलवार्ट को अपना 200 वां शिकार बनाया. 35 वर्षीया झूलन ने उम्र को पीछे छोड़ते हुए न केवल वुमन पावर दिखाया, बल्कि वुमन क्रिकेट में भारत के दबदबे को भी साबित किया. 

ग़ौर करनेवाली बात है कि साउथ अफ्रीका में भारतीय मेल-फीमेल दोनों ही क्रिकेटरों का बल्ला व गेंद ख़ूब चल रहा है. एक ओर जहां विराट कोहली की टीम 3-0 से सीरीज़ में बढ़त बनाए हुए हैं. वहीं मिताली राज की टीम भी 2-0 से अजेय बढ़त बनाए हुए है.

* झूलन गोस्वामी ने इस सीरीज़ के पहले मैच में 4 विकेट चटकाए थे, तब वे 199 विकेट ले चुकी थीं.

* सभी को दूसरे मैच में उनके 200 वें विकेट का इंतज़ार था, जो उन्होंने पूरा करके इतिहास रच दिया.

* उन्होंने अपने करियर के 166 वें मैच में यह उपलब्धि हासिल की.

* विकेट लेने में उनका इकॉनामी रेट 3.2 रहा है.

* झूलन ने साल 2002 में क्रिकेट करियर शुरू किया था.

* 2007 में वे आईसीसी की सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी भी चुनी गई थीं.

* 1991 में वेस्ट इंडीज़ के कपिल देव ने भी 200 विकेट लेकर, ऐसा करनेवाले पहले पुरुष क्रिकेटर बने थे.

यह भी पढ़े: वुमन पावर- मिताली राज का वुमन क्रिकेट पर राज

अधिक विकेट लेनेवाली महिला गेंदबाज

झूलन गोस्वामी (भारत) 200

फिट्जपैट्रिक (ऑस्ट्रेलिया) 188

लीसा स्टालकर (ऑस्ट्रेलिया) 146

एनिसा मोहम्मद (वेस्ट विंडीज) 145

नीतू डेविड (भारत)141

यह भी पढ़े: वैलडन मैरी कॉम! एशियन चैंपियनशिप में पांचवी बार गोल्ड जीतकर रचा इतिहास! 

इस कामयाबी के लिए झूलन गोस्वामी को बहुत-बहुत बधाई! वैलडन टीम इंडिया!

ऊषा गुप्ता

[amazon_link asins=’B00L7KYIB4,B0725BMTT6,B0777L9VFY,B06ZY8672V’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’21aefd7a-0caa-11e8-b18a-0ffff4527742′]

 

 

अंशु ने 5 बार माउंट एवरेस्ट फतह कर रचा इतिहास (Anshu Makes India Proud Climbs Everest Twice In Five Days)

AntsuJamsenpaMountaineer

भारत की अंशु जामसेन्पा ने पांच दिन में दो बार और छह साल में पांच बार माउंट एवरेस्ट के शिखर पर पहुंच विश्‍व कीर्तिमान बनाया. उनकी इच्छा इस सीज़न में माउंट एवरेस्ट की चोटी पर दो बार तिरंगा लहराने की और भगवान बुद्ध को नमन करने की थी, जो पूरी हुई.
अरुणाचल प्रदेश के बोमडिया शहर की दो बच्चों की मां पर्वतारोही अंशु ने मात्र 5 दिन में 2 बार माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई चढ़कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया. इसके पहले 3 बार और अब 2 बार यानी ऐसा 5 बार करके उन्होंने इतिहास रच दिया. वे रिकॉर्ड 5 बार एवरेस्ट पर चढ़नेवाली देश की पहली महिला बन गई हैं. इसकी आधिकारिक रूप से घोषणा एवरेस्ट शिखर असोसिएशन के महासचिव लाखपा रांगडू शेरपा ने की. अंशु के पति सेरिंग वांग के अनुसार, इस मुक़ाम पर पहुंचने के लिए उन्होंने शुक्रवार सुबह चढ़ाई शुरू की थी और नेपाली पर्वतारोही फूरी शेरपा के साथ रविवार की सुबह एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचीं.
अंशु ने पिछले साल मई महीने में हिमालय की 3 चोटियों को मात्र 6 दिन में फतह करने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया था. ये चोटियां थीं- आइलैंड (6189), लोबचे (6119 मीटर) और पोकल्दे (5896 मीटर).
अब उन्होंने 6 साल में 5 बार एवरेस्ट के शिखर पर पहुंचने का रिकॉर्ड बनाया.
– 2011 में मई महीने में ही 10 दिनों में 2 बार एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचीं.
– 18 मई, 2013 को तीसरी बार.
– 16 मई, 2017 को सुबह 9 बजे चौथी बार.
– 21 मई, 2017 को सुबह क़रीब आठ बजे पांचवी बार पहुंच इतिहास रच दिया.

विशेष
* 32 साल अंशु दो बच्चों की मां हैं.
* उन्होंने 5 दिनों के अंदर 2 बार हिमालय चढ़ने का विश्‍व रिकॉर्ड बनाया.
* यह कारनामा करनेवाली वे पहली भारतीय महिला पर्वतारोही बन गई हैं.
* अंशु ने 2 सीज़न में 4 बार एवरेस्ट पर चढ़ाई का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है.
* वे 6 साल में 5 बार इस शिखर पर पहुंच चुकी हैं.
* अंशु ने नेपाल की चुरिम शेरपा के 1 सीजन में 7 दिन में 2 बार एवरेस्ट फतह करने का भी रिकॉर्ड तोड़ा.
नेपाल स्थित माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई 8848 मीटर है.
* हर साल माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई के लिए अप्रैल/मई का महीना उपयुक्त रहता है.
anita kundu (2)
* हरियाणा के हिसार के फरीदपुर की अनिता कुंडू चीन की तरफ़ से एवरेस्ट को फतह करनेवाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं. इसके पहले वे नेपाल की तरफ़ से भी एवरेस्ट की चोटी पर पहुंची थीं. वे पहली महिला हैं, जिन्होंने नेपाल व चीन दोनों ही तरफ़ से विश्‍व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर पहुंचने का कीर्तिमान बनाया.

 

– ऊषा गुप्ता

विमेन्स क्रिकेट- दीप्ति-पूनम ने रचा इतिहास (Indian Women Set New ODI World Record With 320 Runs)

Dipti-Poonam

पोशेफस्ट्रूम के सेनवेस पार्क में हुए विमेन्स वनडे इंटरनेशनल मैच में भारतीय महिला क्रिकेटर दीप्ति शर्मा और पूनम राउत ने ओपनिंग विकेट के लिए 320 रन की रिकॉर्ड साझेदारी की. साउथ अफ्रीका में हो रहे 4 देशों की वनडे सीरीज़ में आयरलैंड के ख़िलाफ़ उन्होंने यह कमाल दिखाया. दीप्ति शर्मा महज़ 12 रन से अपना दोहरा शतक बनाने से चूक गईं, वे 188 रन बनाकर आउट हुईं. वहीं पूनम 109 रन बनाकर रिटायर्ड हर्ट हुईं. इन दोनों की मैराथन पारी के बदौलत भारत ने आयरलैंड के सामने तीन विकेट पर 358 रन की चुनौती रखी. लेकिन आयरलैंड की टीम केवल 109 रन पर ऑलआउट हो गई और भारत ने 249 रन के विशाल अंतर से यह मैच जीत लिया. इस सीरीज़ में भारत ने अब तक के अपने तीनों ही मैच जीते हैं. दीप्ति और पूनम ने महिला क्रिकेट ही नहीं, पुरुष क्रिकेट को भी पीछे छोड़ते हुए क्रिकेट में ओपनिंग पार्टनरशिप में रिकॉर्ड साझेदारी करके इतिहास रच दिया है.
विशेष
* 19 साल की दीप्ति शर्मा, पहली भारतीय महिला क्रिकेटर हैं, जिन्होंने इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट में 188 का स्कोर बनाया. उन्होंने 160 गेंदों में 27 चौके और 2 छक्के की मदद से 188 रन बनाएं.
* इसी सीरीज़ में भारत की झूलन गोस्वामी द्वारा महिला क्रिकेटर के रूप 153 मैच खेलते हुए अधिकतम 181 विकेट लेने का भी रिकॉर्ड बना.
* 1997 के वर्ल्ड कप में आस्ट्रेलिया की बेलिंडा क्लार्क ने डेनमार्क के विरुद्ध डबल सेंचुरी (229 रन) बनाई थी.
* पुरुष क्रिकेट में सबसे बड़ी ओपनिंग पार्टनरशिप श्रीलंका के उपुल थारंगा और सनथ जयसूर्या द्वारा इंग्लैंड के ख़िलाफ़ साल 2006 में 286 रन की थी.
– ऊषा गुप्ता

इसरो ने एक साथ 104 सैटलाइट्स लॉन्च कर रचा इतिहास (ISRO creates history, launches 104 satellites in one day)

ISRO

ISRO

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा से सुबह एकसाथ 104 सैटलाइट्स को अंतरिक्ष में भेजकर इतिहास रच दिया है. इसके साथ ही भारत ने एक बार में सबसे ज़्यादा सैटलाइट लॉन्च करने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है. अब तक रूस के नाम एक बार में 37 सैटलाइट्स अंतरिक्ष में भेजने का रिकॉर्ड था. इससे पहले जून 2016 में इसरो ने 20 सैटलाइट्स लॉन्च किए थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो की इस शानदार सफलता पर बधाई दी है.

क्या है खासियत? पीएसएलवी रॉकेट की यह 39वीं उड़ान है. इसका वजन 320 टन और ऊंचाई 44.2 मीटर है. इसमें इसरो के 2 नैनो सैटलाइट भी भेजे गए हैं. यह रॉकेट 15 मंजिल इमारत जितना ऊंचा है. प्रक्षेपित किए जाने वाले सभी सैटेलाइट का वज़न क़रीब 1378 किलोग्राम है.

इन देशों के रॉकेट जाएंगे स्पेस में : भारत के दो नैनो सैटेलाइट के अलावा इजरायल, कजाकस्तान, द नीदरलैंड्स, स्विट्जरलैंड व संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के एक-एक और अमेरिका के 96 उपग्रह इसमें शामिल हैं.