नेपोटिज़्म पर छलका ‘आश्रम ...

नेपोटिज़्म पर छलका ‘आश्रम 3’ एक्ट्रेस ईशा गुप्ता का दर्द, बोलीं -स्टार किड फ्लॉप फ़िल्में देकर भी चलते हैं, आउटसाइडर के पास रोने के लिए कंधा भी नहीं होता (Aashram 3 star Esha Gupta talks about nepotism, Says- Star kids are in demand inspite of flop films, but outsiders don’t get a shoulder to cry on)

अपने हॉट और बोल्ड अदाओं से सोशल मीडिया पर आग लगा देनेवाली ईशा गुप्ता (Esha Gupta) लगातार डिमांड में बनी हुई हैं. हाल ही में रिलीज हुई वेब सीरीज ‘आश्रम 3’ (Aashram 3) में हॉटनेस का तड़का लगाने के बाद वो लोगों के दिलोदिमाग़ पर छा गई हैं. इस वेब सीरीज में लोगों को ईशा गुप्ता का रोल बहुत पसंद आया है और इन दिनों ईशा हॉट केक बनी हुई हैं.

ईशा को बॉलीवुड में आए 10 साल हो चुके हैं, लेकिन ये 10 साल का सफर उनके लिए आसान नहीं था, जिसका दर्द हाल ही में छलका. हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने नेपोटिज़्म (nepotism) पर बात की और बताया कि स्टार किड और आउटसाइडर होने में कितना फर्क है.

हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान अपने स्ट्रगल को याद करते हुए ईशा गुप्ता ने स्टार्स किड्स पर बेझिझक और खुलकर बोला और बताया कि स्टार किड होने के फायदे हैं. वो बुरे एक्टर हों, फ्लॉप फ़िल्में दें तब भी उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि उनके पास पहले से ही और फ़िल्में होती हैं. वो किसी को नाराज़ कर दें तो भी उनके पास ओपोर्चूनिटीज होती हैं, लेकिन आउटसाइडर्स के लिए तो हर कदम नया सफर होता है. अगर आप इंडस्ट्री से नहीं हो, तो आपका स्ट्रगल बढ़ जाता है. आप अगर दुखी हैं तो कोई आपको संभालने नहीं आएगा, आप कंफ्यूज हैं, तो कोई आपको गाइड करने नहीं आएगा.”

ईशा का कहना है कि अब तक वो जितने लोगों से मिली हैं. उनमें बहुत कम लोग रियल हैं. इंडस्ट्री में गिनती के ही लोग हैं, जो आपको गाइड करते हैं, आपको आगे बढ़ने में मदद करते हैं.”

आगे बात करते हुए उन्होंने कहा कि एक समय था जब मुझे भी लगने लगा था कि काश मैं भी इंडस्ट्री से होती तो मुझे इतना स्ट्रगल ना करना पड़ता. जब मेरी पहली फिल्म फ्लॉप हुई थी तो मैं बहुत डर गई थी. लेकिन मैंने किसी तरह खुद को संभाला. काम किया. पैसे कमाए और अब बहुत काम कर रही हूं.

फिलहाल ईशा गुप्ता ‘आश्रम 3’ की सक्सेस को एन्जॉय कर रही हैं और सोशल मीडिया पर अपनी बोल्ड अदाओं से लोगों के होश उड़ा रही हैं.

×