ग़ज़ल- इक दुआ बनती गई मेरे लिए… (Gazal- Ek Dua Banti Gai Mere Liye…)

काग़जी फूलों की हैं यह बस्तियां ढूंढ़ते फिरते हैं बच्चे तितलियां और बढ़ती जा रही हैं लौ मेरी तेज़ जितनी हो रही है आंधिया अब…

काग़जी फूलों की हैं यह बस्तियां
ढूंढ़ते फिरते हैं बच्चे तितलियां
और बढ़ती जा रही हैं लौ मेरी
तेज़ जितनी हो रही है आंधिया
अब भी लहरों में हैं देखो तैरती
याद के सागर में कितनी मछलियां?
आस्मां से काले बादल छट गए
घोंसले फूकेंगी कैसे बिजलियां?
यह मिली हम को निशानी प्यार में
फासले और सिसकती मजबूरियां
रोशनी को आज़माने के लिए
फिर पतंगों ने मिटा ली हस्तियां
चांद तक तुम को ले जा सकती नहीं
कश्तियां यह चांदनी की कश्तियां
कल्पना हो या हक़ीक़त हो मगर
दूरियां होती हैं फिर भी दूरियां
इक दुआ बनती गई मेरे लिए
जब भी गैरों ने उड़ाई फब्तियां
बिछुड़ते लम्हों में जो तुम ने भरी
याद हैं अब भी मुझे वो सुबकियां
रात काली है तो ‘बालम’ क्या हुआ?
इसके आंचल में सुबह की पंक्तियां

– बलविन्दर ‘बालम’

यह भी पढ़े: Shayeri

Photo Courtesy: Freepik

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

लघुकथा- लोभ का कुआं (Short Story- Lobh Ka Kuan)

पंडित का अहंकार सामने आ गया- 'मैं राज पंडित एक गडरिए का शिष्य बनूं?' पर…

इस कदर ज्योतिष में विश्वास रखती हैं एकता कपूर कि जानकर दंग रह जाएंगे आप (Ekta Kapoor Believes In Astrology So Much That You Will Be Stunned To Know)

टीवी और बॉलीवुड इंडस्ट्री की जानी मानी हस्ती एकता कपूर के बारे में ऐसे तो…

तेनाली रामा की कहानी: बेशकीमती फूलदान (Tenali Rama Story: Can A Flower Vase Take Life)

राजा कृष्णदेव राय के विजयनगर में हर साल वार्षिक उत्सव बहुत ही धूमधाम से बनाया…

© Merisaheli