बच्चों के लिए किस तरह बनाएं सेफ होम? (Home Safety Tips For Kids)

 

dreamstime_l_29951490
अक्सर पैरेंट्स प्यार-दुलार में बच्चों को ऐसी चीज़ें मुहैया कराने में लगे रहते हैं, जिनका उनकी सुरक्षा और मनोरंजन से कोई लेना-देना नहीं होता. घर में बच्चों की सुरक्षा का किस तरह से ख़्याल रखें, आइए, इसके बारे में जानते हैं.

 

क्या आपने इस बात की तसल्ली कर ली है कि वो घर जिसे आपने ज़रूरत के हर समान से सजाया है, वह घर के सबसे छोटे सदस्य यानी बच्चे के लिए भी अनुकूल है? या फिर घर में बच्चों की सुरक्षा का भी ख़्याल रखा गया है. इसलिए एक बार घर को बच्चों की नज़र से भी देख लें. कहीं कोई अनजान ख़तरा बच्चों की तरफ़ क़दम तो नहीं बढ़ा रहा? आइए, इन्हीं बातों पर नज़र डालें.

* बच्चों के लिए घर तैयार करने से पहले उनकी तीन बातों को समझना ज़रूरी है- पहला उनका खेलना, दूसरा उनके खाने-पीने, सोने आदि रोज़मर्रा की दिनचर्या और तीसरा चोट व अन्य बीमारियों सेउनकी सुरक्षा.
* कम ऊंचाई और कोनों से गोलाई लिए फर्नीचर को घर में रखना अपनी प्राथमिकताओं में शामिल करें.
* दीवारों पर नॉन टॉक्सिक पेंट्स लगाएं.
* दरअसल, सोते हुए बच्चों का पलटी मारना, चलना-गिरना स्वाभाविक क्रिया है, इसलिए कमरे में अधिक ऊंचाई का फर्नीचर न रखें. यानी जब बच्चे बहुत छोटे हों, तब कमरे में रखा बेड और सोफा छह इंच से अधिक ऊंचा न रखें, क्योंकि अनजाने में यदि बच्चा पलंग से गिरे भी, तो उसे अधिक चोट न आए.
* परदे की डोरी कई बार छोटे बच्चों के लिए ख़तरा बन जाती है, क्योंकि इससे खेल-खेल में गला घुटने की संभावना रहती है.
* किचन में गैस के क़रीब छोटे स्टूल/कुर्सी न रखें. कभी भी बच्चा इस पर चढ़कर गैस के बटन से छेड़छाड़ कर सकता है.
* यदि बच्चा बहुत छोटा है, तो घर की खिड़कियों में जाली और सीढ़ियों के पास हो सके, तो बेबी गेट लगवाएं.
* ज़मीन पर पानी गिरा हुआ न रहने दें. असावधानीवश बच्चे के फिसलने से चोट लगने या फ्रैक्चर होने का डर रहता है.
* टेबल या स्टैंड फैन न रखें. बच्चा बटन दबाकर फैन ऑन कर सकता है या उसकी उंगलियां पंखे में आ सकती हैं.
* ड्रेसिंग टेबल पर बाहर की तरफ़ क्रीम, पाउडर, सिंदूर आदि न रखें. बच्चा इन्हें मुंह में डाल सकता है, जो कभी-कभी जोख़िमभरा हो सकता है.
* मेनडोर खुला न रखें. बच्चे का हाथ दरवाज़े में आ सकता है या फिर बच्चा घर के बाहर निकलकर सीढ़ियों से नीचे गिर सकता है.
* इलेक्ट्रिक स्विच बोर्ड दीवारों पर नीचे की तरफ़ न लगाएं, बच्चे उनके बटन से खेलते हैं या फिर प्लग के साथ छेड़खानी करते हैं.
* किसी भी प्लग के ऊपर प्लास्टिक का आउटलेट लगाना एक सस्ता तरीक़ा है, पर यह ध्यान रहना चाहिए कि प्लग के यूज़ के बाद कवर को वापस लगा दें.
* यदि बालकनी है, तो रेलिंग में ग्रिल/जाली ज़रूर लगाएं, वरना बच्चे के गिरने का डर रहता है.
* आयरन, टोस्टर आदि ज़मीन पर ऑन करके इधर-उधर न जाएं, अनजाने में बच्चा जल सकता है.
* तमाम चीज़ें तभी आपको सुकून देंगी, जब घर में साफ़-सफ़ाई की उचित व्यवस्था होगी. हाइजीन का अच्छा स्तर बच्चों को कई तरह के इंफेक्शन से बचाता है.
* बाथरूम को हमेशा साफ़-सुथरा रखें.
* मोबाइल फोन, टेबलेट, आई पैड आदि छोटे बच्चों की पहुंच से दूर रखें. वे इनसे छेड़छाड़ करते हुए ख़ुद को नुक़सान पहुंचा सकते हैं.
* छोटे बच्चे किसी भी चीज़ को अपने मुंह में रख लेते हैं और इसका प्रभाव काफ़ी बुरा हो सकता है.
* इस बात का ध्यान रखें कि इस्तेमाल की हुई दवाइयां या ख़तरनाक केमिकल को कूड़े में डालकर उस पर कसकर ढक्कन लगा दें.
* इन्हें किचन या बाथरूम के डस्ट बिन में न डालें, जहां आपका बच्चा आसानी से पहुंच सकता है.

– ऊषा गुप्ता