कैसे बनाएं बाथरूम को हाइजीनिक? (How to maintain bathroom hygiene)

How to maintain bathroom hygiene

घर के बाकी हिस्सों की तरह ही बाथरूम का साफ़-सुथरा वो जर्म फ्री (How to maintain bathroom hygiene) होना ज़रूरी है. बाथरूम की सफ़ाई के लिए ट्राई करें ये आसान क्लीनिंग टिप्स.

– बाथरूम व टॉयलेट में कीटाणु फैलने की संभावना बहुत अधिक होती है, अत: इनकी नियमित सफ़ाई ज़रूरी है. टॉयलेट बाउल को डिसइंफेक्टेड क्लीनर से साफ़ करें. टॉयलेट ब्रश को इस्तेमाल करने के बाद अच्छी तरह से धोकर किसी साफ़ और सूखे स्थान पर रखें.

– बाथरूम शॉवर, सिंक इत्यादि को भी इस्तेमाल करने के बाद धो दें. शॉवर के अंदर भी जर्म्स पनपने के चांसेस होते हैं. अत: यदि आप उसका इस्तेमाल नहीं कर रही हैं, तो भी समय-समय पर उसे थोड़ी देर के लिए चलाती रहें.

– टूथब्रश को इस्तेमाल करने के बाद अच्छी तरह धो कर सूखे स्थान पर रखें. इसे हर तीन महीने में बदलती रहें.

– गीले तौलिए में भी बैक्टीरिया पनपने की संभावना होती है. अत: टॉवल को हर दूसरे दिन धोएं. बीमार व्यक्ति के लिए अलग से टॉवल रखें. अपना टॉवल किसी के साथ शेयर न करें और एक बार इस्तेमाल के बाद अच्छी तरह से सूखने के बाद ही दुबारा इसका इस्तेमाल करें.

– बाथरूम आपके घर का सबसे छोटा कमरा है, फिर भी यही वह जगह है, जहां सबसे ़ज़्यादा टॉक्सिक केमिकल्स और जर्म्स होते हैं. दीवारों से पानी का रिसाव (लीकेज) और सिलिंग पर जमी मिट्टी घातक माइक्रो ऑर्गेऩिज़्म हैं. ये बैक्टीरिया व वायरस को पनपने में मदद करते हैं. इससे निकलने वाले केमिकल्स से अस्थमा व एलर्जी हो सकती है.

– बाथरूम को जहां तक हो सके, सूखा रखने की कोशिश करें. बाथरूम का इस्तेमाल करने के बाद एग्जॉस्ट फैन चलाएं.

– सोप केस यानी साबुनदानी में सबसे ज़्यादा बैक्टीरिया जमा होते हैं. इन्हें गरम पानी व डिटर्जेंट से साफ़ करें और सुखाकर रखें. बाथरूम का दरवाज़ा इस्तेमाल के बाद खोल दें ताकि हवा आती रहे.

– बाथरूम में ऐसी टाइल्स लगाएं, जिनमें फिसलने का डर न रहे. इसके लिए रबर मैट का इस्तेमाल करें.

– एयर फ्रेशनर, सेंटेड कैंडल्स, अगरबत्ती आदि बाथरूम में न रखें, इनसे एयर पॉल्यूशन होता है.

– नल के टैप, रिम को रोज़ाना डिसइंफेक्टेड लिक्विड से साफ़ करें.

– बाथरूम व टॉयलेट के नालों को उबले हुए पानी में 2 टेबलस्पून बेकिंग सोडा डालकर साफ़ करें. नाले में नैपथलीन की गोलियां डालें, इससे कॉकरोच नहीं आते, लेकिन कई लोगों को इन गोलियों से एलर्जी हो सकती है.

– यदि फर्श बहुत गंदा है, तो ब्लीचिंग पाउडर छिड़कें और रगड़कर साफ़ करें.

– खिड़कियां साफ़ करने के लिए पुराने टूथब्रश का इस्तेमाल करें. टूथब्रश को साबुन के घोल में डुबोकर उससे खिड़कियां साफ़ करें.

– 500 मि.ली. सिरके में नींबू का रस और नमक मिलाकर कमोड में डालें. सारी गंदगी साफ़ हो जाएगी और कमोड चमकने लगेगा.

– टॉयलेट सीट साफ़ करने के लिए सीट पर पहले बेकिंग सोडा छिड़कें. फिर सिरके की कुछ बूंदें डालकर 1 घंटे के लिए छोड़ दें. अब पानी की तेज़ धार से सीट साफ़ कर दें. सारे कीटाणु और बदबू दूर हो जाएगी.

– बाथरूम में फ़ालतू का कचरा जमा न करें. शैम्पू व फेसवॉश की खाली बोतल, साबुन का रैपर आदि फेंक दें. सोप केस (साबुनदानी) और ब्रश रखने वाले बास्केट की भी नियमित सफ़ाई करें.

– बाथरूम के बेसिन को साफ़ करने के लिए नींबू काटकर उसमें ढेर सारा नमक लगाएं और इसे बेसिन पर एक बार रगड़ें. 15 मिनट बाद गुनगुने पानी से धो लीजिए, बेसिन चमकने लगेगा.

– शायद ही आपने नल की सफ़ाई पर ध्यान दिया हो. लगातार इस्तेमाल के कारण नल की चमक फीकी पड़ गई है, तो रूई को सिरके में डुबोकर नल को साफ़ करें. हफ़्ते में दो बार ऐसा करने पर नल चमकने लगेगा.

– यदि बाथरूम के टाइल्स पर कोई दाग़ लगा है, तो वहां कटा आलू रगड़ें और 15 मिनट बाद गरम पानी से धो दें.

 

23 ईज़ी फर्नीचर क्लीनिंग सोल्यूशन (23 Easy Furniture Cleaning Solution)