काव्य- अपने-अपने क्षितिज… (Kavay- Apne-Apne Kshitij…)

तुमने मुझे लिखा
मैंने तुमको
आपस में कविताएं बदलकर भी
हम स्वयं को पढ़ सकते हैं

अधूरे तुम भी रहे
पूरा मैं भी कहां हो सकी
सजा करके अपने-अपने अधूरेपन
हम पूर्ण हो सकते हैं

तुमने स्वीकारा चुप रहना
मैंने कुछ भी न बोलना
अपने मौन कवच में भी
हम बहुत कुछ कह सकते हैं

तुम्हारी अपनी व्यस्तताएं
मेरी अपनी रही
यूं उलझे हुए से हम
एक-दूसरे को सुलझा सकते हैं

कहीं तुम उदास दिखे
मैं भी थोड़ी अनमनी
हज़ारों तरीक़े हैं
अपनी-अपनी शिकायतें बांट सकते हैं

तुम्हारी अपनी सीमाएं
मेरे भी कुछ दायरे
अपने-अपने वृत्तों में हम
कोई नया सिरा खोज सकते हैं

तुमने अपनी तरह सोचा
मैंने अपनी तरह
कल्पनाओं का एक नया क्षितिज गढ़कर
हम दोनों वहां मिल सकते हैं

हां माना, क्षितिज एक भ्रम है
तो भ्रम ही सही
अपने-अपने क्षितिज में हम
धरती-आसमान बन सकते हैं

इतना तो कर ही सकते हैं
हैं न!!

नमिता गुप्ता ‘मनसी’

यह भी पढ़े: Shayeri


Photo Courtesy: Freepik

Usha Gupta

Share
Published by
Usha Gupta

Recent Posts

गरोदरपणात दीपिका पादुकोणला काय खावंसं वाटतंय? तिच्या मते डाएट म्हणजे काय? (Pregnant Deepika Padukone Is Eating This In Seventh Month Of Pregnancy)

बॉलिवूड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण लवकरच आई होणार आहे. तिच्या प्रेग्नेंसीमुळे सध्या ती चांगलीच चर्चेत आहे.…

July 19, 2024

रवीना टंडनच्या सवतीने तिच्याबद्दल काय म्हटलेलं? (When Raveena Tandon’s Soutan Said This for Her, Actress Reacted Like This)

बॉलीवूडची हॉट गर्ल रवीना टंडन 90 च्या दशकातील सर्वात यशस्वी अभिनेत्रींपैकी एक होती, परंतु आजही…

July 19, 2024

कहानी- वनस्थली (Short Story- Vanasthali)

''इस वनस्थली का ध्यान रखना लल्ला!'' सुधा काकी के वे शब्द कानों में फिर से…

July 19, 2024
© Merisaheli