रिश्तों को बेहतर बनाएं हेल्दी हैबिट्स से (Make relationships better by healthy habits)

रिश्तों की मिठास एक तरफ़ जहां पति-पत्नी के व्यक्तित्व को संवारती है, वहीं दूसरी तरफ़ जब रिश्ते (Make relationships healthy) में कड़वाहट आने लगती है, तो ऐसा लगने लगता है कि जीवन का संतुलन बिगड़ गया है. इससे फिज़िकली तो स्त्री-पुरुष आहत होते ही हैं, कई बार मानसिक संतुलन भी बिगड़ जाता है. ऐसे में उन्हें डिप्रेशन घेर लेता है. कई बार पार्टनर की ग़लत आदतें या व्यवहार इसके लिए ज़िम्मेदार होता है. इसलिए रिश्ते को बेहतर बनाने के लिए ज़रूरी है हेल्दी हैबिट्स अपनाना. हेल्दी हैबिट्स का मतलब सेहत से नहीं है, बल्कि हमारी बेसिक हैबिट्स से है.

Make relationships healthy

ईगो न रखें

– तुमने ऐसा क्यों किया, मुझसे पूछा क्यों नहीं, क्या मेरी कोई वैल्यू नहीं है या तुम मुझे इस क़ाबिल नहीं समझते, असल में तुम्हें तो मुझसे प्यार ही नहीं है आदि जैसे सवाल जब हम अपने साथी से करते हैं, तो इसकी वजह होता है हमारा ईगो.

– ईगो को पाले रखना धीरे-धीरे हमारी आदत बन जाती है.

– हेल्दी रिलेशन(Make relationships healthy) में इसकी कोई जगह नहीं होती है.

– ईगो को दूर फेंक दें और रिश्ते को बेहतर बनाएं.

अपने साथी का सम्मान करें

– यदि आप एक हेल्दी मैरिड लाइफ चाहते हैं, तो आपको अपने पार्टनर को यह एहसास कराना होगा कि वह आपके समान ही महत्वपूर्ण है. ऐसे में कोई भी ज़रूरी निर्णय लेते समय उनकी भी राय ज़रूर लें.

– यदि आप अपने जीवनसाथी से ऐसा व्यवहार करते हैं कि उनकी सलाह से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता या हमेशा अंतिम निर्णय आपका ही होगा, तो निश्‍चित रूप से आपके शादीशुदा जीवन में असंतुलन पैदा होगा.

– जीवनसाथी के विचारों को भी उतनी ही गंभीरता से लें, जितना आप स्वयं के विचारों को लेते हैं.

– जीवनसाथी की बात सुनने के लिए समय निकालें और उन्हें एहसास कराएं कि आप उनकी परवाह करते हैं.

पार्टनर की बात सुनें

– अपने साथी की बात सुनना एक हेल्दी हैबिट है.

– जब आपका पार्टनर अपनी दिनचर्या के बारे में बात कर रहा हो, तो कुछ और न सोचते रहें.

– उस समय इस बात का इंतज़ार न करें कि कब वो अपनी बात ख़त्म करे, ताकि आप वो कह सकें, जो आप कहना चाहते हैं.

– पार्टनर को सचमुच सुनने का प्रयास करें और वो आपको जो बता रहा है, उसे भी रिस्पेक्ट दें.

– जब आप बातचीत कर रहे हों, तो मोबाइल को दूर रख दें.

– कभी-कभी एक मुश्किलभरे दिन के बाद आपके पार्टनर को स़िर्फ किसी सुननेवाले की ज़रूरत होती है.

हंसने में दें पार्टनर का साथ

– इससे आपका रिश्ता और भी मज़बूत होगा.

– पार्टनर के हंसने में उसका साथ दें.

– नॉर्थ कैरोलिना यूनिवर्सिटी के सायकोलॉजिस्ट लाउरा कुर्ट्ज ने पहली बार एक रिसर्च से रिश्तों में हंसी की भूमिका को जानने की कोशिश की है.

– कुर्ट्ज की स्टडी के अनुसार, रिश्ते की बेहतरी में एकल हंसी की बजाय साझा हंसी कहीं अधिक फ़ायदेमंद है.

– यदि आपका पार्टनर हंस रहा हो और उसके साथ आप भी हंसते हों, तो इससे वह संबंधों के बारे में बेहतर महसूस करता है.

– रिसर्चर्स ने पाया कि एक साथ हंसनेवाले कपल्स एक-दूसरे के प्रति अधिक समर्पित रहते हैं और अधिक संतुष्ट महसूस करते हैं.

– जबकि पार्टनर की हंसी में खुलकर साथ नहीं देनेवाले जोड़ों के मामले में ऐसा नहीं होता.

– नए रिसर्च से साबित हुआ है कि पार्टनर के साथ हंसना रिश्तों की गहराई व अपनापन बढ़ाने के लिए एक कारगर टॉनिक है.

Make relationships healthy

आई लव यू कहना ना भूलें

– ऐसा कभी भी ना सोचें कि आपको ‘आई लव यू’ कहने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि आपके साथी को पहले से पता होना चाहिए कि आप क्या महसूस करते हैं.

– दिन में कम-से-कम एक या दो बार अपने पार्टनर से यह कहने की कोशिश करें कि आप उससे कितना प्यार करते हैं.

– अपने पार्टनर को यह समझाने का समय निकालें कि वो सचमुच आपके लिए कितना मायने रखता/रखती है.

ओपिनियन न देना

– यदि आपका पार्टनर हमेशा आपकी हां में हां मिलाता है और अपनी बात नहीं रखता है, तो यह हेल्दी हैबिट नहीं है.

– एक ही बात पर दोनों का अपना ओपिनियन यानी राय रखना ज़रूरी है.

– हर बात पर दोनों का एक ही पक्ष होना अच्छी बात है, पर केवल एक की ही हुकूमत चलना रिश्ते में बढ़ती दूरियों का प्रतीक है.

– लेकिन हर बात में बहस करना भी ठीक नहीं है और केवल इसलिए कि आपकी बात सुनी जाए, बेवजह साथी की बात काटने की हैबिट से बचें.

फ्लर्ट करें

– आपका विवाह हुए कितना ही समय क्यों न हो गया हो, पार्टनर के साथ फ्लर्ट करें.

– उसे यह याद दिलाते रहें कि आपको वह अभी भी बहुत अट्रैक्टिव लगता है और उसमें अभी भी आकर्षण है.

– फ्लर्ट करने का अपना एक अलग ही एहसास होता है और फ्लर्टिंग से कुछ हेल्दी फ़ायदे भी होने लगें, तो इसका मज़ा दोगुना हो जाता है.

– मनोवैज्ञानिक रीमा सहगल का मानना है कि फ्लर्टिंग एक ऐसा टूल है, जिससे आप दूसरों को अपने बारे में अच्छा महसूस करवा सकते हैं.

– यही नहीं, फ्लर्टिंग से आपकी सेक्स लाइफ रिवाइव होती है.

– बेहतरीन रिलेशनशिप के लिए लिखी गई क़िताब के लेखक स्यू ऑस्टर कहते हैं, “फ्लर्टिंग से न स़िर्फ किसी इंसान को अच्छा महसूस होता है, बल्कि उसका स्ट्रेस भी कम होता है. ज़ाहिर है, आजकल की बिज़ी व तनावभरी ज़िंदगी में इस तरह की स्ट्रेस भगानेवाली चीज़ों की बेहद ज़रूरत है.”

– मैरिड कपल जब एक-दूसरे के साथ फ्लर्टिंग करते हैं, तो उनकी बोरिंग हो चुकी मैरिड लाइफ को ख़ुशगवार बनाने में मदद मिलती है.

साथ खाना बनाएं

– दांपत्य जीवन में पति-पत्नी एक ही गाड़ी के दो ऐसे पहिए होते हैं, जिसमें अगर एक भी नीरस हो, तो जीवन की मिठास कम होती जाती है.

– इसलिए अपनी व्यस्त ज़िंदगी में से कुछ लम्हे एक-दूसरे के लिए चुराएं.

– इसके लिए कभी-कभी किचन में पार्टनर के साथ मिलकर खाना बनाएं.

– खाना बनाते समय बीच-बीच में थोड़ी-सी शरारत करते रहें, जैसे- कभी अचानक साथी की गर्दन पर प्यारभरा किस करना या फिर कभी उन्हें अचानक पीछे से जाकर छू लेना.

– इसके बाद किचन में बहुत सारे प्यार के साथ जो कुछ भी पकेगा, उसे साथ बैठकर खाने का मज़ा ही कुछ और होगा.

कुछ रोमांचक करें

– किसी भी रिश्ते को लंबे समय तक बरक़रार रखने के लिए यह ज़रूरी है कि उसमें नीरसता न आने दी जाए.

– इसके लिए ज़रूरी है कि समय-समय पर रिश्तोें में रोमांच लाया जाए.

– कभी-कभी अचानक बाहर जाने का प्लान बनाएं.

– अचानक से आप ऑफिस से घर जल्दी पहुंचकर न स़िर्फ अपने साथी को चौंका सकते हैं, बल्कि बाहर घूमने की प्लानिंग कर पार्टनर को ख़ुश कर सकते हैं.

– बोरियत को दूर कर बातचीत को दिलचस्प बनाएं, जिससे आपका साथी आपकी बातों में रुचि ले व उत्साह से बातचीत में अपनी भागीदारी भी दिखाए.

– कोई रोमांटिक मूवी देखने की प्लानिंग करें.

– संबंधों को रोमांटिक बनाने के लिए कभी कैंडल लाइट डिनर भी कर सकते हैं.

पर्सनल हाइजीन का रखें ख़्याल

– रिश्ते को अगर बेहतर बनाना चाहते हैं, तो पर्सनल हाइजीन की हैबिट को अपनाना बहुत ज़रूरी है, ख़ासकर सेक्स संबंधों में.

– हो सकता है हाइजीन का ख़्याल न रखने की वजह से साथी आपके पास आने से कतराए या अपना प्यार ठीक से आपसे व्यक्त न कर पाए.

– सुमन बाजपेयी