रिलेशनशिप को हेल्दी रखने के लिए ज़रूरी है फिट रहना (Making Fitness A Priority Benefits Your Relationship)

फिटनेस को अब तक हेल्थ से ही जोड़कर देखा जाता रहा है, लेकिन सच तो यह है कि आपकी फिटनेस (Making Fitness A Priority) आपके रिश्ते को भी प्रभावित कर सकती है. आप फिट रहेंगे, तो आपका रिश्ता भी हेल्दी और फिट बना रहेगा. यक़ीन न हो, तो यहां दी गई बातों पर ग़ौर करें और फिटनेस व रिश्ते से जुड़े कुछ पहलुओं पर अपना नज़रिया बदलें.

Making Fitness A Priority

अगर आप भी अपने रिश्ते को हेल्दी रखना चाहते हैं, तो आज से ही अपनी फिटनेस पर ध्यान देना शुरू कर दें. शादी से पहले ही नहीं, शादी के बाद भी फिट रहना बेहद ज़रूरी है. तो आज और अभी से ही अपने रिश्ते को बनाएं हेल्दी.

– हेल्थ और फिटनेस को पर्सनल फिटनेस से न जोड़ें, बल्कि इसका प्रभाव आपके पार्टनर व आपके रिश्ते पर भी पड़ता है.

– एक अध्ययन से यह बात सामने आई कि कुछ कपल्स ने यह महसूस किया कि फिटनेस से उनके व्यक्तित्व व रिश्ते पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा.

– अपने अनुभव के बारे में बताते हुए एक शख़्स ने कहा- पहले मुझे लगता था कि एक्सरसाइज़ और फिटनेस स़िर्फ पर्सनल केयर के अंतर्गत आता है, लेकिन मुझे किसी ने सलाह दी कि इसे इस तरह से देखो कि तुम्हें अपनी फैमिली, अपने पार्टनर के लिए भी फिट रहना है. इस सोच के साथ जब मैंने वर्कआउट और डायट वगैरह पर ध्यान देना शुरू किया, तो वाकई मेरा कॉन्फिडेंस भी बढ़ा और जब-जब मैंने अपनी बेटी और पत्नी को कहा कि मुझे तुम्हारे लिए फिट रहना है, ताकि मैं भी तुम्हारी तरह यंग और फिट नज़र आऊं. यह सुनकर मेरी फैमिली भी बेहद ख़ुश हुई और हमारी बॉन्डिंग और स्ट्रॉन्ग हुई.

– शादी के बाद फिटनेस का ख़्याल रखना और भी ज़रूरी हो जाता है, क्योंकि इससे आप में और आपके पार्टनर दोनों में यह एहसास बढ़ता है कि आप एक-दूसरे के लिए हेल्दी और आकर्षक नज़र आना चाहते है. इसके अलावा आप अधिक उत्साह व उमंग का अनुभव भी करते हैं.

– अमूमन लोगों की, ख़ासतौर से भारतीय लोगों की यह सोच रहती है कि जब तक शादी न हो जाए, तक तक ही आपको फिट और अट्रैक्टिव लगना है, लेकिन शादी के बाद वो इस पहलू को इस कदर नज़र अंदाज़ कर देते हैं कि उनमें न स़िर्फ बेहिसाब मोटापा बढ़ जाता है, बल्कि कई बीमरियों के भी शिकार होने लगते हैं. जिस वजह से रिलेशनशिप और यहां तक कि सेक्स लाइफ भी प्रभावित होती है.

– मुंबई में रहनेवाले एक कपल- ज्योत्सना (40) व हरी (45) ने रिलेशनशिप में फिटनेस के महत्व को बताते हुए कहा- “हमारी लव मैरिज हुई थी. शादी के दो साल बाद एक बेटा हुआ और फिर तीन साल बाद दूसरा बच्चा. बच्चों की देखभाल और अपनी प्रोफेशनल लाइफ ने हमारी ज़िंदगी को बोरिंग बना दिया था. हम इतने थक जाते थे कि एक-दूसरे से बात करने की भी एनर्जी नहीं होती थी. इस बीच हम दोनों का ही वज़न भी तेज़ी से बढ़ रहा था. वीकेंड पर एक दिन हम यूं ही अपने पुराने फोटोग्राफ्स देख रहे थे और तब हमें एहसास हुआ कि हमने इस क़दर ख़ुद को नज़रअंदाज़ किया हुआ है कि हमारी लाइफ में अब रोमांस, हेल्थ और एनर्जी है ही नहीं. स़िर्फ बच्चों का भविष्य और पैसा कमाना ही हमारी ज़िंदगी का उद्देश्य बन गया. तब हमने डिसाइड किया कि चाहे जो हो हम अपनी अगली एनीवर्सरी तक फिट और एनर्जेटिक बनने की कोशिश करेंगे, यही हमारा एक-दूसरे को गिफ्ट भी होगा. अब इस निर्णय के कितने फ़ायदे हुए, यह भी जान लें-

– हम रोज़ सुबह जल्दी उठते, साथ-साथ जॉगिंग, एक्सरसाइज़ और योग करते. इससे हम अधिक समय एक-दूसरे के साथ बिताते.

– हम एक-दूसरे को चैलेंज भी करते और मोटिवेट भी, जिससे और भी जोश और उत्साह महसूस करते.

– हमारा खाना हेल्दी बनने लगा था अब.

– सुबह जल्दी उठने के लिए रात को जल्दी सोने की भी आदत पड़ने लगी थी.

– हमारे साथ-साथ हमारे बच्चे भी हेल्दी हैबिट्स सीख रहे थे.

– अगली एनीवर्सरी तक हम सच में ख़ुद को बेहतर और फिट महसूस कर रहे थे और इसका हेल्दी प्रभाव हमारे रिश्ते पर भी पड़ा.”

36 वर्षीया कंचन ने भी अपना अनुभव बताया, “मेरे पति अपनी फिटनेस पर बहुत ज़्यादा ध्यान देते हैं, जबकि मैं थोड़ी आलसी हूं. लेकिन मुझे इसका एहसास तब हुआ, जब मेरी बेटी स्कूल के किसी भी फंक्शन या मीटिंग में हमेशा पापा के साथ जाने की बात कहते थी और मुझे बोलती थी कि मम्मी आप मुझे स्कूल में लेने मत आया करो. जब हमने उससे इसका कारण पूछा, तो उसने कहा कि पापा जब भी आते हैं, तो हर कोई कहता है कि तेरे पापा कितने फिट और हैंडसम हैं. मम्मी तो उनकी आंटी लगती हैं. मुझे पहले तो कुछ समझ में ही नहीं आया, लेकिन इस अनुभव ने मेरी आंखें खोल दीं. अब मैं भी अपने पति के साथ रोज़ सुबह योगा क्लास जाती हूं और हेल्दी डायट भी लेती हूं. मैं काफ़ी हद तक फिट और स्मार्ट हो गई हूं. अपने बेटी को मैं थैंक्स भी कहती हूं कि सही व़क्त पर उसने अंजाने व मासूमियत में ही सही, पर मुझे फिटनेस का महत्व समझा दिया. अब तो मैं अपने पति के साथ पार्टीज़ में भी कॉन्फिडेंस के साथ जाती हूं और मुझे काफ़ी कॉम्प्लीमेंट्स भी मिलते हैं. हम सच में पहले से और क़रीब आए हैं.”

अगर एक्सपर्ट्स की बात करें, तो उनके अनुसार-

– शादी और फिटनेस में बहुत गहरा संबंध है. फिट और हेल्दी रहने से आप अधिक ऊर्जा व उत्साह का अनुभव करते हैं, जिससे आप अपने रिश्ते में भी अधिक उत्साह का अनुभव करते हैं.

– फिटनेस से आपका कॉन्फिडेंस बढ़ता है, जिससे सीधा-सीधा असर आपके रिश्ते पर भी पड़ता है.

– एक साथ वर्कआउट करने से आप अपने साथी के क़रीब आते हैं. आप दोनों में आपसी समन्वय व सामंजस्य बेहतर होता है. शेयरिंग की भावना बढ़ती है.

– सेक्स लाइफ भी बेहतर होती है. बढ़ी हुई ऊर्जा और बेहतर बॉडी इमेज आपसी आकर्षण को बढ़ाते हैं.

– तनाव कम होता है. हेल्दी रहने और रेग्यूलर एक्सरसाइज़ से आपका स्ट्रेस लेवल कम होता है. एक्सपर्ट्स यह बताते हैं कि तनाव आपको शारीरिक व भावनात्मक रूप से कमज़ोर बनाकर रिश्तों की आत्मीयता को धीरे-धीरे ख़त्म करता है. यहां तक कि सेक्स लाइफ को स्पॉइल करने में सबसे बड़ा रोल स्ट्रेस यानी तनाव का ही होता है. जहां सेक्स लाइफ अच्छी नहीं होगी, वहां रिश्ता अपने आप कमज़ोर होता चला जाएगा. ऐसे में जब तनाव कम होगा, तो आपका रिश्ता भी तनाव से मुक्त होगा.

– आप जब अपने पार्टनर के साथ मिलकर फिटनेस गोल डिसाइड करते हैं, तो और भी उत्साह के साथ अपना लक्ष्य पाने की कोशिश करते हैं. फिटनेस से यदि आप दोनों और क़रीब आएं, तो इससे बेहतर और क्या हो सकता है?

– इसे सीधे तौर पर कहा जाए, तो जब आप ख़ुद अच्छा महसूस करते हो, तो आप एक बेहतर पति/पत्नी बन सकते हो.

– यदि आपको जिम की मेंबरशिप या योगा क्लासेस की टाइमिंग्स सूट नहीं करती या महंगी लगती है, तो दूसरे तरी़के से फिटनेस प्रोग्राम प्लान किया जा सकता है, जैसे- आप दोनों सुबह जल्दी उठकर वॉक पर जाएं या टेरेस पर स्किपिंग व स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज़ करें.

– शाम को ऑफिस से आते समय या घर आने के बाद ही साथ में बाहर वॉक करते हुए मार्केट जाएं और सब्ज़ी व ज़रूरी सामान साथ लाएं.

– लिफ्ट का इस्तेमाल न करें. सीढ़ियों से जाएं.

– घर के काम में साथ-साथ हाथ बंटाएं.

– कपड़ों को लॉन्ड्री में देने की बजाय उनकी इस्तरी ख़ुद करें. एक दिन आप करें और एक दिन आपका पार्टनर- इस तरह से काम बांट लें.

– इन सबके अलावा नियमित रूप से अपना ब्लड शुगर लेवल, बीपी, कोलेस्ट्रॉल व अन्य टेस्ट्स करवाएं.

– ब्रह्मानंद