अपने रिश्ते से दूर करेंगे स्ट्रे...

अपने रिश्ते से दूर करेंगे स्ट्रेस, तो रिश्ता बनेगा बेस्ट (Smart & Simple Ways To De-Stress Your Relationship)

रिश्ते हमारी ताक़त होते हैं लेकिन कई बार यही हमारी कमजोरी भी बन जाते हैं. फिर भी रिश्ते कहीं न कहीं हमें सहारा देतेहैं और ख़ासतौर से पति-पत्नी का रिश्ता तो उम्र भर का साथ और सहारा होता है, लेकिन अक्सर वक़्त के साथ रिश्तों कीडोर ढीली पड़ जाती है, क्योंकि हम खुद ही अपने रिश्तों के प्रति बेपरवाह हो जाते हैं और उनको तनावपूर्ण बना लेते हैं. बेहतर होगा कि अपने रिश्ते से ये तनाव और स्ट्रेस दूर करें ताकि आपका रिश्ता हमेशा मज़बूत और फ्रेश बना रहे. आइएजानते हैं रिश्ते में क्या और कैसे स्ट्रेस होते हैं और उनको कैसे दूर किया जाए…

परफेक्ट बने रहने का स्ट्रेस: हम सभी चाहते हैं कि हम परफेक्ट बनें और हर काम परफेक्शन के साथ करें लेकिन हम येक्यों भूल जाते हैं कि आख़िर हम सब इंसान ही तो हैं और कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं होता. सबकी कुछ कमज़ोरियांहोती ही हैं, इसलिए न आप खुद से और न ही अपने पार्टनर से परफेक्ट होने की उम्मीद करें, क्योंकि परफेक्शन का येस्ट्रेस आप दोनों पर ही भारी पड़ेगा. 

सारे काम खुद करने का स्ट्रेस: अक्सर हमारे समाज में लिंग के आधार पर काम को बांटा जाता है कि ये काम महिलाओंका ही है और ये पुरुषों का, लेकिन अब जब लाइफ़स्टाइल इतनी बदल चुकी है तो ये नियम क्यों न बदला जाए?  बेहतरतो यही होगा कि आप अपनी-अपनी सुविधानुसार अपने काम और जिम्मेदारियां बांट लें. चाहे बच्चों की पढ़ाई हो या खानाबनाने से लेकर घर के अन्य काम, सभी सदस्य मिलकर एक टाइम टेबल बना लें और मिल-जुलकर काम करें. 

हमेशा अट्रैक्टिव दिखने का स्ट्रेस: उम्र और हालात के अनुसार शरीर बदलता और ढलता है लेकिन कोशिश ये होनी चाहिएकि आकर्षक दिखने की बजाय हेल्दी और फिट बने रहने का प्रयास करें. ग्रेसफुली खुद को और अपने रिश्ते को हैंडल करें. अपने पार्टनर को कभी इस तरह की बातें न कहें कि उसे देखो इस उम्र में भी कितनी अट्रैक्टिव है… इसकी बजाय आप दोनोंएक-दूसरे को फिट बने रहने के लिए प्रोत्साहित करें. न तो अपनी पत्नी से ये उम्मीद करें कि वो हमेशा नई-नवेली दुल्हनकी तरह सजी-धजी रहे और न पत्नी ये उम्मीद करे कि उनके पति हमेशा फ्रेश और रोमांटिक नज़र आएं. अपने पार्टनर्स केकैज़ुअल लुक्स को भी ऐक्सेप्ट करें. क्योंकि आप दोनों का रिश्ता एक वक़्त के बाद उस स्तर पर खुद ब खुद पहुंच जानाचाहिए जहां शरीर और लुक्स मायने ही न रखे बल्कि आप दोनों एक-दूसरे के साथ हर तरह से सहज महसूस करें.

बड़ी-बड़ी अपेक्षाओं का स्ट्रेस: सपनों को नींदों में ही रहने दें तो बेहतर होगा क्योंकि न तो सारे सपने पूरे होते हैं और न हीसारी हसरतें मुकम्मल हो पाती हैं. इस अधूरेपन को स्ट्रेस न बनाकर ज़िंदगी की हक़ीक़त के तौर पर स्वीकार लें और एंजॉयकरें. फ़िल्मी दुनिया में जीना छोड़कर यथार्थ को बेहतर बनाने पर ध्यान दें. बड़ी गाड़ी, महंगे शौक़, दूसरों की देखा-देखीवैसी ही लाइफ़ स्टाइल जीने की हसरत को अपने रिश्ते पर हावी न होने दें. 

इमेज कॉन्शियस यानी अच्छी इमेज बनाए रखने का स्ट्रेस: एक अच्छी बहू, अच्छी मां, अच्छी बीवी या एक बेस्ट पति, बातफादर, बेस्ट सन बने रहने का प्रेशर आपको बेस्ट से कहीं वर्स्ट न बना दे. आपसे भी ग़लतियां हो सकती हैं. आपको भीकभी-कभी ग़ुस्सा आ सकता है, आप भी कभी-कभार ओवर रिएक्ट कर सकते हैं… ये सब मानव सुलभ कमज़ोरियां यास्वभाव है. आप हमेशा हंसते हुए ही दिखें ये ज़रूरी नहीं, लेकिन अक्सर लोग अपनी तकलीफ़ों को छिपाने की कोशिशकरते हैं. बेहतर होगा उनको बांट लें, शेयर करें, ऑफ़िस में कुछ हुआ हो तो घर पर शेयर करके ग़ुबार निकाल लें.

स्ट्रॉन्ग बने या दिखने का स्ट्रेस: आप पुरुष हो, आप कभी कमजोर नहीं पड़ सकते, आप कभी रो नहीं सकते या आप कभीटूट नहीं सकते… इन बातों का बोझ अपने ऊपर और अपने रिश्तों पर न पड़ने दें. आप भी कमजोर पड़ सकते हैं… अपनों सेअपने दिल की बातें छिपाएं नहीं ये सोचकर कि वो क्या सोचेंगे, बल्कि उनके सामने अपना दिल खोलकर रख दें ताकि वोआपका साथ भी दें और आप भी और भरोसा भी करें… इसी तरह आप पत्नी हो, बहू हो या बेटी हो इसलिए आप कभीकिसी को ना नाहीं कह सकतीं, इस सोच के साथ कभी आगे न बढ़ें. अगर आप थकी हुई हैं, आपका मन नहीं है या आपअस्वस्थ महसूस कर रही हैं तो आप पति को सेक्स के लिए ना बोल सकती हैं, आप घरवालों को अपनी तबियत बताकरघर के कुछ काम या खाना बनाने के लिए ना कह सकती हैं, आप आराम करना चाहती हैं ये कह सकती हैं… विनम्रतापूर्वकऔर प्यार व भरोसे से कहेंगी तो सब आपका साथ देंगे. हां, काम से बचने का बहाना करेंगी तो वो भी सब समझ जाएंगे. रिश्तों में सच्चाई और ईमानदारी बेहद ज़रूरी है.

पैसों को लेकर स्ट्रेस: रिश्तों में आपका प्यार और विश्वास ही आपकी सबसे बड़ी बचत है इसलिए पैसों को लेकर सतर्कज़रूर रहें पर स्वार्थी न बनें. घर की ज़िम्मेदारियों में सहयोग करें और अपने भविष्य के लिए भी निवेश ज़रूर करें लेकिनअपना सारा पैसा बचाने की तरकीबें करेंगे तो सिर्फ़ स्ट्रेस ही हाथ आएगा और हाथ से जाएगा वो होगा रिश्तों का प्यार, विश्वास और अपनों का साथ. बेहतर होगा कि इन तमाम तरह के स्ट्रेस से अपने रिश्ते को बचाएं और उसे बेस्ट बनाएं. 

  • परी शर्मा 

×