ये उम्मीदें, जो हर पत्नी अपने पति से रखती है (Things wife expect from husband)

रिश्ता ताउम्र साथ निभाने का… सुख-दुख में साथ-साथ चलने का… एक-दूसरे से अपेक्षाओं का… जी हां, ऐसा ही होता है पति-पत्नी का रिश्ता, जिसमें जाने कितनी ख़्वाहिशें, ख़्वाब, उम्मीदें होती हैं. इसी फेहरिस्त में एक पत्नी की भी अपने पति से बहुत-सी उम्मीदें (wife expect from husband) रहती हैं. वे क्या हैं? आइए, जानते हैं.

भावनात्मक रूप से हमेशा साथ देंः शादी के अटूट बंधन में बंधने के साथ ही पत्नी सबसे अधिक जिस बात की उम्मीद(wife expect from husband) पति से रखती है, वो है भावनात्मक साथ की. हर छोटी-बड़ी बात पर, सुख-दुख में, विपरीत व कठिन परिस्थितियों में वो पति से आशा करती है कि वो उसे इमोशनल सपोर्ट दें. उनका भावनात्मक साथ पत्नी को परिस्थितियों के तनाव-अवसाद से जल्दी उबार देता है.

रिलेशनशिप अलर्टः कई बार पत्नी को भावनात्मक सहयोग न मिलने के कारण रिश्तों में दूरियां व मतभेद बढ़ने लगते हैं. लेकिन पति का भावनात्मक सहारा पत्नी को ख़ुश रखने में बेहद मददगार होता है.

जन्मदिन-शादी की सालगिरह याद रखेंः हर पत्नी की यह ख़्वाहिश रहती है कि पति महोदय उसके बर्थडे व एनीवर्सरी की तारीख़ ज़रूर याद रखें, क्योंकि पत्नियां इनसे काफ़ी इमोशनली जुड़ी होती हैं. इसके अलावा उन्हें यह जानकर भी बेहद ख़ुशी होती है कि पति को उनके साथ की पहली मुलाक़ात, पहली बार दिया गया तोहफ़ा, बीते हुए यादगार लम्हे शादी के काफ़ी समय बीत जाने के बाद भी आज तक याद हैं.

रिलेशनशिप अलर्टः पत्नी को ख़ास मौक़ों पर सरप्राइज़ देते रहें. इससे रिश्तों में ताउम्र ताज़गी बनी रहती है.

तारीफ़ करेंः कहते हैं, प्रशंसा सुनना महिलाओं की सबसे बड़ी कमज़ोरी होती है, उस पर पत्नी हो, तो मामला और भी संवेदनशील हो जाता है. इसलिए जब कभी पत्नी ने आपके लिए प्यार से लज़ीज़ भोजन बनाया हो, घर-परिवार से जुड़ा उल्लेखनीय कार्य किया हो, किसी भी छोटे-मोटे, पर ख़ास काम को अच्छी तरह से पूरा किया हो, तो उसकी प्रशंसा ज़रूर करें. इससे पत्नी को न केवल ख़ुशी होगी, बल्कि उसका आत्मविश्‍वास भी बढ़ेगा.

रिलेशनशिप अलर्टः सोसायटी में ऐसे लोगों की कमी नहीं, जो बेवजह पत्नी में ग़लतियां ढ़ूंढ़ते रहते हैं और ग़लती न होने पर भी उसके हर कार्य में मीन-मेख निकालते रहते हैं. ऐसा न करें. प्रशंसा-सराहना जहां पत्नी के आत्मविश्‍वास को बढ़ाती है, वहीं वैवाहिक जीवन को भी ख़ुशहाल बनाती है.

शॉपिंग के लिए साथ जाएंः ऐसी शायद ही कोई महिला होगी, जिसे शॉपिंग का शौक़ न हो. एक सर्वे के अनुसार, अधिकतर महिलाएं अपनी टेंशन व परेशानी को दूर करने के लिए शॉपिंग करना अधिक पसंद करती हैं. वैसे भी हर पत्नी की यह इच्छा होती है कि वो पति की पसंद की चीज़ें पहनें, फिर चाहे वो ज्वेलरी हो या ड्रेस.

wife expect from husband

रिलेशनशिप अलर्टः पतियों को शॉपिंग करना कम ही पसंद आता है, पर जब आप अपनी पत्नी के साथ शॉपिंग करते हैं, तो इससे आपसी लगाव और भी बढ़ जाता है.

बिहेवियर को ड्रामा न समझेंः अमूमन कई पतियों की आदत होती है कि वे अपनी पत्नी की स्वाभाविक क्रिया-प्रतिक्रिया, मांगों आदि को ड्रामा बताकर मज़ाक उड़ाते हैं, जबकि पत्नी उम्मीद करती है कि कोई समझे न समझे, पर पति उनकी हर बात-व्यवहार को ज़रूर जानें-समझें.

रिलेशनशिप अलर्टः यदि आप भी इस तरह के पतियों में से हैं, तो संभल जाएं. क्योंकि पति के उपेक्षित व ग़लत व्यवहार से भी पत्नी ग़ुस्सैल व झगड़ालू प्रवृत्ति की बन जाती है. इसलिए पत्नी की बात को अनदेखा करने, उसका मखौल उड़ाने की बजाय शांति व धैर्य से स्थिति को समझने की कोशिश करें.

मायके की आलोचना न करेंः मायका पत्नी का वो ख़ास भावनात्मक पहलू होता है, जिसके बारे में वो कभी भी बात कर सकती है. साथ ही वो आशा करती है कि पतिदेव मायकेवाले की तारीफ़ भले ही न कर सकें, पर आलोचना या व्यंग्य बिल्कुल न करें.

रिलेशनशिप अलर्टः पत्नी के मायकेवालों की उपेक्षा या उलाहना वैवाहिक जीवन को तनावपूर्ण बना सकती है. इसलिए बेहतर यही होगा कि पत्नी को सदा ख़ुश रखने के लिए उसके मायकेवालों की तारीफ़ करें, जैसे- माता-पिता, भाई-बहन या फिर जीजाजी ही क्यों न हों.

प्यार-मनुहार करनाः महिलाओं को प्यार से गले लगाना, रूठना, मान-मनुहार करना बहुत अच्छा लगता है. इससे यह भी पता चलता है कि आप अपने पार्टनर को कितना प्यार करते हैं. पार्टनर को प्यार से गले लगाने पर दोनों एक-दूसरे के साथ भावनात्मक रूप से भी जुड़ते हैं.

रिलेशनशिप अलर्टः प्यार करना केवल सेक्सुअल रिलेशन ही नहीं होता है, बल्कि पति पत्नी को गले लगाकर, किस करके, लाड़-दुलार दिखाकर भी अपने संबंधों में अधिक मिठास व मज़बूती ला सकते हैं.

कुछ बातें, जो पत्नी पति से छिपाती हैं या नहीं बताना चाहतीं-

* पत्नियां अपने पहले प्यार को शायद ही भूल पाती हैं. उनके मन में वो पहला प्यार, वो एहसास हमेशा रहता है, पर इस बारे में वे अपने पति को कभी नहीं बतातीं.

* पत्नियां हमेशा अपने घर ख़र्च से थोड़ा-बहुत सेविंग करती रहती हैं. उनके इस सीक्रेट मनी से पति अनजान ही रहते हैं और कई बार आर्थिक परेशानियों के समय ये सेविंग्स बहुत काम आती हैं.

* पत्नी अपने पति को कभी भी ये नहीं बताती है कि उसे उन ख़ास पलों (सेक्स) में कैसा लगा. यदि कुछ बताती भी हैं, तो वो पूरा सच नहीं होता है.

* ज़रूरी नहीं कि पत्नी पति की हर बात से सहमत हो. अक्सर मनमुटाव-झगड़े आदि से बचने के लिए पति के निर्णय से असहमत होने के बावजूद पत्नी उनकी हां में हां मिला देती है.

– ऊषा पन्नालाल गुप्ता