Movie Review उरीः द सर्जिकल स्ट्राइक (Uri: The Surgical Strike Movie Review)

कलाकारः विकी कौशल, कीर्ति कुल्हारी, यामी गौतम, परेश रावल, मोहित रैना
निर्देशकः आदित्य धर
रेटिंगः 3.5 स्टार

Uri Movie

साल 2016 में जम्मू और कश्मीर के उरी सेक्टर में एलओसी के पास स्थित भारतीय सेना के स्थानीय मुख्यालय पर आतंकवादियों ने हमला किया था. इस हमले में सेना के क़रीब 18 जवान शहीद हुए थे. इसके 11 दिनों के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी और आतंकवादियों के कई ठिकानों को तहस नहस कर दिया था. इस फिल्म में भारतीय सेना के इसी मिशन को दिखाया गया है.  युवा डायरेक्टर आदित्य धर की तारीफ़ करनी होगी कि उन्होंने फिल्म को पूरी तरह से ट्रैक पर रखते हुए अंत तक दर्शकों को बांधकर रखा है.

कहानी 
उरी की कहानी आर्मी के जांबाज जवान विहान शेरगिल (विक्की कौशल) के इर्द गिर्द ही घूमती है. आतंकी हमले के बाद सीमा पार जाकर कैसे दुश्मनों के छक्के छुड़ाने हैं और कैसे सर्जिकल स्ट्राइक करनी है, इसकी पूरी प्लानिंग विहान के जिम्मे है. विहान मिशन के लिए की जाने वाली प्लानिंग और फुल प्रूफ रणनीति के लिए फेमस हैं, इसलिए उन्हें इस मिशन के लिए चुना गया है. इस फिल्म का सेकेंड हाफ सर्जिकल स्ट्राइक की प्लानिंग और ऐक्शन पर फोकस करता है और यही इस फिल्म की यूएसपी है. फिल्म का क्लाइमैक्स इतने जबर्दस्त ढंग से पेश किया गया है कि हॉल में बैठा हर दर्शक क्लाइमैक्स से पूरी तरह वाकिफ़ होने के बावजूद अपनी कुर्सी से बंधा रहता है.

The Surgical Strike Movie

एक्टिंग
विक्की कौशल एक ऐसे आर्मी ऑफिसर के किरदार में नज़र आते हैं जो देश के लिए और अपने साथियों के लिए कुछ भी दांव पर लगा सकता है. विक्की ने इस फिल्म के लिए खास मेहनत की है. उनकी डायलॉग डिलीवरी परफेक्ट है. कीर्ति कुल्हारी के हिस्से में ज़्यादा सीन्स नहीं आए हैं लेकिन अपने किरदार को कीर्ति ने अच्छे ढंग से निभाया है. वहीं यामी गौतम की बात करे तो वह कीर्ति पर भारी पड़ी हैं. टीवी स्टार मोहित रैना ने अपने किरदार में जान डाली है. परेश रावल और प्रधानमंत्री के किरदार में रजित कपूर ने भी अच्छा काम किया है.

निर्देशन
निर्देशक आदित्य धर ने फिल्म को कहीं भी धीमा या सौम्य नहीं किया है., ये पूरी तरह से एक बदले की कहानी है. फिल्म में बंदूक की गोलियां है, जमकर लड़ाई है और ड्रोन हमले हैं. निर्देशक दर्शकों को बांधे रखने में कामयाब रहते हैं.

क्या है ख़ास?
फिल्म को मुख्य तौर में चार भागों में बांटा गया है. जहां पहले तीन भाग में भारतीय सेना पर हुए अलग अलग आतंकी हमलों को दिखाया गया है. वहीं, चौथा भाग सर्जिकल स्ट्राइकल पर केंद्रित है. फर्स्ट हॉफ में जहां कुछ सीन आपको भावुक कर जाएंगे, वहीं कुछ सीन देशभक्ति का ऐसा जज्बा जगाती है जो ख़ून खौला दे. फिल्म के सेकेंड हॉफ में भरपूर थ्रिल है. भारतीय सेना के जवान किस तरह सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देते हैं, यह दर्शक बिना पलक झपकाए देखना चाहेंगे. फिल्म के एक्शन सीन्स को उम्दा तरीके से फिल्माया गया है.

क्यों देखें?
अगर आप वॉर और लीक से हटकर फिल्में देखने के शौकीन हैं तो इस फिल्म को मिस न करें.

ये भी पढ़ेंः रणवीर सिंह ने दी मोदीजी को जादू की झप्पी, अन्य स्टार्स ने भी की मुलाकात (Ranveer Singh’s ‘Jadoo Ki Jhappi’ To PM Modi Is Adorable!)