चाहते हैं बच्चों की तरक्क़ी ...

चाहते हैं बच्चों की तरक्क़ी तो वास्तु के अनुसार सजाएं कमरा (Vastu tips for kids room)

Vastu Tips

बच्चों के बहुमुखी विकास के लिए सही खानपान, मार्गदर्शन व शिक्षा के अलावा एक स्वस्थ वातावरण की भी ज़रूरत होती है. ऐसे में क्यों न, वास्तु के अनुसार बच्चों का कमरा सजाया-संवारा जाए, ताकि एकाग्रता के साथ-साथ उनका बौद्धिक विकास भी हो सके. आइए, वास्तु के अनुसार बच्चों का कमरा किस तरह होना चाहिए, इसके बारे में जानते हैं.

* सबसे पहले कमरे के बीच में खड़े होकर कम्पास की मदद से दिशा का ज्ञान करें. यह स्थान साफ़-सुथरा, प्रकाशमय व शांतिपूर्ण होना चाहिए, ताकि  बच्चे का मन एकाग्र हो सके.

* बच्चों का कमरा घर के पश्‍चिम, उत्तर व पूर्व दिशा में होना चाहिए.

* कमरे का प्रवेश द्वार उत्तर तथा पूर्व में होना चाहिए.

* पढ़ते समय अपना मुख पूर्व अथवा उत्तर की तरफ़ होना चाहिए. इस बात को ध्यान में रखकर टेबल-कुर्सी की व्यवस्था करें.

* मां सरस्वती व गणपति भगवान की स्थापना ईशान कोण में होनी चाहिए.

* पलंग का सिरहाना पूर्व दिशा की तरफ़ हो.

* टाइम टेबल, पेंटिंग, फोेटो पिनअप बोर्ड 4 फ़ीट पर उत्तर या पश्‍चिम में लगाएं.

* जीवन में कामयाब व प्रभावशाली व्यक्तियों, पौधों आदि की तस्वीर लगाएं.

यह भी पढ़ें: फेंगशुई के इन लकी चार्म से दूर करें निगेटिव एनर्जी

lovely-best-kids-bedroom-interior-design

* हरा, गुलाबी, स़फेद व पीला रंग उपयुक्त है.

* प्लग प्वाइंट कमरे के दाहिनी तरफ़ हो.

* सोने का बिस्तर नैऋत्य कोण में हो.

* टेबल लैम्प (60 वॉल्ट) इस तरह हो कि प्रकाश पीछे की तरफ़ से आए.

* पीठ पीछे दीवार हो, तो अति उत्तम. यदि न हो, तो भी परेशानी की बात नहीं.

* उत्तर-पूर्व में खिड़की उत्तम है.

* कमरे का मध्य खाली हो.

* खिलौने, कपड़े, जूते दक्षिण या पश्‍चिम दिशा में रखें.

* आईना उत्तर और पूर्व दीवार पर हो और कॉपी-क़िताबें सुविधानुसार रखें.

* घड़ी पूर्वी दीवार पर हो और कम्प्यूटर आग्नेय कोण में हो.

* हर रोज़ ॐ ऐं सरस्वत्यै नमः की एक माला का जाप करें.

* बच्चों का शयन-कक्ष पूर्व अथवा ईशान क्षेत्र में होना शुभ है. अध्ययन भवन, सभा और पठन-पाठन के लिए यह क्षेत्र शुभ है.

वास्तु और फेंगशुई के आर्टिकल्स पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें