मन का रिश्ता: दोस्ती से थोड़ा ज़्यादा-प्यार से थोड़ा कम (10 Practical Things You Need To Know About Emotional Affairs)

रिश्तों का दायरों में कुछ रिश्ते (Emotional Affairs) मन के भी होते हैं, जिन्हें कोई नाम तो नहीं दिया जा सकता, लेकिन इनके अस्तित्व को नाकारा भी नहीं जा सकता. इन्हीं रिश्तों में से एक है शादीशुदा स्त्री और पुरुष का ऐसा रिश्ता, जो दोस्ती से एक क़दम आगे होता है, लेकिन इसे प्यार का नाम भी नहीं दिया जा सकता. क्योंकि ऐसे रिश्ते में बंधे लोग किसी बंधन की चाह नहीं करते, वो बस कुछ समय साथ गुजारना चाहते हैं. क्यों, कब और कैसे बनते हैं मन के रिश्ते? आइए, जानते हैं.

Emotional Affairs

इंसान की ये फितरत है कि उसे जो चीज़ नहीं मिलती, वो उसी को पाना चाहता है. प्यार के मामले में तो ये चाहत और भी बढ़ती चली जाती है. जब लाइफ पार्टनर से मनचाहा प्यार नहीं मिलता, तो वो अपनी इस चाहत को अपने रिश्ते के दायरे से बाहर तलाशने लगता है. और तब बनते हैं मन के भावनात्मक रिश्ते, जिन्हें कोई नाम तो नहीं दिया जा सकता, लेकिन उनके होने को नकारा भी नहीं जा सकता. मन के रिश्ते में बंधे ऐसे लोग घर-परिवार, करियर, रिश्तेदार, समाज… अपनी तमाम ज़िम्मेदारियां निभा लेने के बाद जो व़क्त बचता है, उसे अपने उस साथी के साथ बिताना चाहते हैं, जिससे कुछ पल बात करके इन्हें नई ऊर्जा मिलती है, ज़िंदगी ख़ूबसूरत नज़र आने लगती है. क्यों बनते हैं ऐसे मन के रिश्ते? समाज ऐसे रिश्तों को किस नज़र से देखता है? क्या हैं ऐसे रिश्तों के पॉज़िटिव और नेगेटिव इफेक्ट्स? आइए, जानते हैं.

क्यों बनते हैं मन के रिश्ते?
काउंसलिंग साइकोलॉजिस्ट डॉ. माधवी सेठ के अनुसार, ज़्यादातर इमोशल या एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स चालीस की उम्र के बाद होते हैं. इसकी वजह यह है कि इसके पहले इंसान अपनी पढ़ाई, करियर, शादी, बच्चों की ज़िम्मेदारियों में उलझा रहता है. फिर जब उसकी ज़िंदगी में ठहराव आने लगता है, जिसे एमटी नेस्ट सिंड्रोम भी कहते हैं, तो उस खालीपन को भरने के लिए वो किसी ऐसे इंसान से जुड़ जाता है, जिसके साथ व़क्त गुज़ारना उसे अच्छा लगता है.
ऐसा रिश्ता दोस्ती से बढ़कर होता है, क्योंकि बार-बार मिलने, बात करने का मन करता है, लेकिन सेक्स की चाह नहीं होती. ऐसे रिश्ते को प्यार इसलिए नहीं कहा जा सकता, क्योंकि ऐसे लोग स़िर्फ कुछ समय साथ रहना चाहते हैं, उन्हें एक साथ दुनिया बसाने की कोई चाह नहीं होती. इमोशनल अफेयर कोई जानबूझकर नहीं करता, इसके होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे-
* शादीशुदा ज़िंदगी में अच्छे अनुभव भी होते हैं और बुरे भी. पार्टनर भले बुरा न हो, लेकिन उसके साथ गुज़रे बुरे अनुभवों के कारण कई बार रिश्ते में कड़ुवाहट आ जाती है और ऐसा दोनों पार्टनर के साथ होता है. इसके चलते रिश्ते से रोमांस ग़ायब हो जाता है. फिर जब किसी के साथ उनका जुड़ाव होने लगता है, तो वो उस रिश्ते में रोमांस तलाशने लगते हैं.
* शादी के बाद कई महिलाएं अपना ध्यान नहीं रखतीं, ख़ुद को ग्रूम नहीं करतीं, तो पति को उनमें रुचि कम होने लगती है, फिर जब उसे अपने जैसी कोई मिलती है, तो वो उसके प्रति आकर्षित हो जाता है.
* कई कपल ऐसे होते हैं, जो दुनिया के सामने तो ऐसा दिखाते हैं जैसे उनके बीच सबकुछ नॉर्मल है, लेकिन ऐसा होता नहीं. ऐसे में दोनों अपनी-अपनी अलग दुनिया बसा लेते हैं और दोनों अपनी दुनिया में ख़ुश रहते हैं.
* शादी के शुरुआती वर्षों को छोड़ दिया जाए, तो इंसान पूरी ज़िंदगी इस आस में गुज़ार देता है कि कभी तो उसकी ज़िंदगी में रोमांस के पल लौटकर आएंगे, लेकिन जब ऐसा नहीं हो पाता, तो जहां भी उसे अपने लिए प्यार महसूस होता है, वो उसी तरफ़ झुकता चला जाता है.
* चालीस की उम्र के बाद कई महिलाएं एमटी नेस्ट सिंड्रोम की शिकार हो जाती हैं, जब बच्चे अपनी दुनिया में बिज़ी हो जाते हैं और पति अपने काम में, ऐसे में महिलाएं अकेलापन महसूस करने लगती हैं. उन्हें लगने लगता है कि किसी को उनकी परवाह नहीं है. ऐसे में जब कोई उन्हें एहमियत देता है, तो वो उसकी तरफ खिंचती चली जाती हैं.
* जब शादीशुदा रिश्ते में कहीं कोई कमी रह जाती है, हम वैसी ज़िंदगी नहीं जी पाते जैसा हम जीना चाहते हैं, तो ज़िंदगी में एक अजीब-सा खालीपन आ जाता है. फिर जब किसी से मिलने पर वो खालीपन भरने लगता है, तो मन ऐसे रिश्ते से जुड़ता चला जाता है.
* घर-ऑफिस का स्ट्रेस, पारिवारिक कलह, विचारों का मतभेद कई बार पति-पत्नी के बीच इतनी दूरियां ला देता है कि एक छत के नीचे रहते हुए भी वो एक-दूसरे से बहुत दूर होते चले जाते हैं. ऐसे में वो घर में मिलने वाली ख़ुशियां बाहर तलाशने लगते हैं. फिर जब कोई थोड़ा भी सहारा देता है, तो वो उसकी तरफ़ खिंचते चले जाते हैं.
* कई बार ऐसा भी होता है कि कहने को तो रिश्ता तय हो जाता है, शादी भी हो जाती है, लेकिन कपल के विचार आपस में कभी नहीं मिलते. ऐसे में रिश्ता तोड़कर दो परिवारों को दुखी करने की बजाय वो ऐसे रिश्ता तलाश लेते हैं, जो उन्हें समझता हो, जिसका साथ उन्हें अच्छा लगता हो. ऐसे रिश्ते में वो अपनी ख़ुशियां तलाश लेते हैं. घर-परिवार की ज़िम्मेदारियों के साथ-साथ वो अपने इस रिश्ते को भी जीते हैं.
* काम के बढ़ते घंटे कलीग को एक-दूसरे के इतने करीब ले आते हैं कि वो एक-दूसरे से अपनी हर बात शेयर करने लगते हैं. रोज़ाना घंटों साथ रहते हुए उन्हें ये पता ही नहीं चलता कि वो कब एक-दूसरे के बहुत करीब आ गए हैं.
* आज की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में काम की आपाधापी के चलते पति-पत्नी के पास एक-दूसरे के लिए टाइम ही नहीं रहता, ऐसे में उनके बीच संवाद की कड़ियां ढीली पड़ने लगती हैं, शरीरिक ज़रूरत से ज़्यादा ऐसे समय में उन्हें इमोशनल सपोर्ट चाहिए होता है और जहां इसकी पूर्ति होती दिखाई देती है, वो उसी तरफ़ मुड़ जाते हैं.
* आजकल एक्सपोज़र इतना बढ़ गया है कि ज़िंदगी की ज़रूरतें भी जैसे बदलती जा रही हैं. अब लोग एक रिश्ते में घुट-घुटकर जीने की बजाय दूसरा रिश्ता तलाशकर अपना सुकून ढूंढ़ लेते हैं और ऐसा करते समय उन्हें कोई अपराधबोध भी नहीं होता.
* कई बार हमें एक ऐसे साथी की तलाश होती है, जिसके पास जाकर हम दुनिया की तमाम तकली़फें, शिकायतें भूल जाते हैं. उस व़क्त हमारे हैप्पी हार्मोन्स पीक पर होते हैं और हमें ज़िंदगी अच्छी लगने लगती है.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: दरमियान

हां, मैं अपने रिश्ते से ख़ुश हूं!
सुरीली (परिवर्तित नाम) कहती हैं. “मैं अमन से चार साल पहले मिली थी जब मैंने अपना नया ऑफिस ज्वाइन किया था. अमन मेरे सीनियर थे इसलिए काम के सिलसिले में उनसे बातें होती रहती थीं. धीरे-धीरे हमें एक दूसरे का साथ इतना अच्छा लगने लगा कि हम घर पहुंचते ही अगले दिन ऑफिस जाने का इंतज़ार करते रहते थे. हमारे बीच एक अनकहा रिश्ता जन्म लेने लगा था. बिना कुछ कहे-सुने हमने एक-दूसरे को अपना सहारा बना लिया. सच कहूं, तो जब से अमन मेरी ज़िंदगी में आए हैं, तब से जैसे मेरी ज़िंदगी ही बदल गई है. अमन का साथ मुझे एक अजीब-सी ख़ुशी और संतुष्टि देता है, जो मैंने अपने पति के साथ कभी महसूस नहीं की. मैं जब कभी अपसेट रहती हूं तो मेरे पति को तो इसकी ख़बर भी नहीं रहती, लेकिन अमन जानते हैं कि आज रात मुझे नींद नहीं आएगी. वो मुझे 2-3 बजे रात में भी मैसेज करते हैं कि अब सो भी जाओ, कल ऑफिस में काम कैसे करोगी. अमन का इस कदर केयर करना मुझे बहुत तसल्ली देता है. अमन के साथ मैं ख़ुद को प्रोटेक्टेड महसूस करती हूं. हमने कभी एक-दूसरे को छुआ भी नहीं है, लेकिन हमारी रूह एक-दूसरे में बसती है. समझ नहीं आता इस रिश्ते को क्या नाम दूं- प्यार, दोस्ती, अफेयर, हमसफर… जो भी है, मेरे लिए हमारा रिश्ता बहुत ख़ास है.”

Emotional Affairs

इस रिश्ते को क्या नाम दें?
प्राइवेट लंच डेट्स, सीक्रेट मीटिंग्स, उत्तेजक वार्तालाप… पार्टनर के होते हुए जब ये बातें किसी और के साथ शेयर की जाती हैं, तो ऐसे रिश्ते को क्या नाम दिया जाए? कई लोग ख़ुद को समझाते हैं कि जब तक उनके बीच सेक्स नहीं होता, उसे अफेयर का नाम नहीं दिया जा सकता, लेकिन ये सच नहीं है. जिस रिश्ते को आप अपने पार्टनर और दुनिया से छुपाकर रखते हैं, जिसे आप अपना बिल्कुल निजी मामला समझते हैं, उसे अफेयर ही कहा जा सकता है. आप अपनी ढेर सारी इमोशनल एनर्जी अपने अफेयर पर ख़र्च करते हैं, जबकि इस पर आपके पार्टनर का अधिकार है. ऐसे रिश्तों का जब खुलासा होता है, तो सबसे पहले विश्‍वास की दीवार ढहती है और फिर आप गिल्ट में जीते हैं और आपका पार्टनर नफ़रत की आग में.

यह भी पढ़ें: लाइफस्टाइल ने कितने बदले रिश्ते?

 

इमोशनल अफेयर के साइड इफेक्ट्स
* आप हर समय इस गिल्ट में रहते हैं कि आप अपने पार्टनर को धोखा दे रहे हैं.
* जाने-अनजाने पार्टनर और परिवार की अनदेखी करने लगते हैं.
* एक अनरियलिस्टिक दुनिया में जीने लगते हैं, जिसके परिणाम घातक हो सकते हैं.
* अपने अफेयर से मिलने के लिए पार्टनर से झूठ बोलते हैं.
* पति और परिवार का समय उस शख़्स को देने लगते हैं यानी अपना बेस्ट टाइम उसके साथ गुज़ारते हैं.
* पार्टनर की बजाय अपनी हर बात उस शख़्स के साथ शेयर करने लगते हैं.
* स़िर्फ कुछ समय की मुलाक़ात में सबकुछ अच्छा तो लगता है, लेकिन जब अफेयर की बात खुलती है, तो असल रिश्ते दूर हो जाते हैं.

– कमला बडोनी