अकबर-बीरबल की कहानी: सबसे खूबसूर...

अकबर-बीरबल की कहानी: सबसे खूबसूरत बच्चा (Akbar-Birbal Story: The Most Beautiful Child)

एक बार बादशाह अकबर अपने शहजादे के साथ दरबार में पहुंचे. उनका शहज़ादा उनकी गोद में खेल रहा था जिसे देख दरबार में मौजूद हर कोई कह रहा था कि शहजादा दुनिया का सबसे खूबसूरत बच्चा है. सभी की बात सुनकर बादशाह अकबर ने भी कहा कि उनका शहजादा दुनिया का सबसे सुंदर बच्चा है. अकबर की इस बात पर सभी हामी भरते हैं, सिवा बीरबल के, तभी अकबर बीरबल से पूछते हैं कि तुम्हारा इस बारे में क्या कहना है, तुम चुप क्यों हो?

बीरबल: जहांपनाह शहजादा सुंदर है, लेकिन मेरे ख्याल से वो पूरी दुनिया का सबसे सुंदर बच्चा नहीं है.

अकबर: तो तुम्हारे कहने का क्या मतलब है कि शहजादा सुंदर नहीं है?

बीरबल: महाराज, मेरा कहने का मतलब ये नहीं कि शहज़ादा सुंदर नहीं, लेकिन दुनिया में और भी सुंदर बच्चे होंगे.

अकबर: बीरबल अगर ऐसी बात है तो तुम उसे हमारे समक्ष लेकर आओ, जो दुनिया में सबसे सुंदर बच्चा है.

बादशाह की बात सुनकर बीरबल कुछ दिन तक बच्चे की खोज करके दरबार में आते हैं. बीरबल को दरबार में अकेले देख अकबर खुश होकर कहते हैं, तुम अकेले क्यों आए हो, क्या इसका ये मतलब है कि तुम्हें शहजादे से ज़्यादा खूबसूरत बच्चा नहीं मिला? यही सच है ना?

बीरबल: जहांपनाह, मैंने सबसे सुंदर बच्चा खोज लिया है.

अकबर: अगर बच्चा मिल गया है, तो तुम उसे दरबार में क्यों नहीं लाए?

बीरबल: महाराज, मैं उसे दरबार में लेकर नहीं आ सकता, पर मैं आपको उस तक लेकर जा सकता हूं. लेकिन हमें वेष बदलना होगा.

Akbar Birbal Story

अकबर: ठीक है, जब तुम इतने आश्वस्त हो तो हम कल सुबह वेष बदलकर उस बच्चे को देखने जाएंगे.

अगले दिन सुबह बीरबल बादशाह अकबर को एक झोपड़ी के पास लेकर जाता है, जहां एक छोटा-सा बच्चा मिट्टी में खेल रहा होता है.

बीरबल: जहांपनाह वो रहा सबसे सुंदर बच्चा.

अकबर: बीरबल, तुम्हारी यह हिम्मत कि तुमने एक बदसूरत और झोपड़ी में रहने वाले बच्चे को संसार का सबसे सुंदर बच्चा बता दिया. इस बदसूरत बच्चे का हमारे शहज़ादे से क्या मुक़ाबला?

बादशाह की बातें सुनकर बच्चा जोर-जोर से रोने लगता है, जिसे सुनकर उसकी मां झोपड़ी से आती है और गुस्से में कहती है, तुम लोगों की इतनी हिम्मत? मेरे बच्चे को बदसूरत कैसे कह दिया? मेरा बच्चा दुनिया का सबसे सुंदर बच्चा है. अगर दोबारा मेरे बच्चे को बदसूरत कहा, तो मैं तुम दोनों की हड्डी-पसली एक कर दूंगी.

उसके बाद वो मां अपने बच्चे को चुप कराकर खिलाने लगती है और कहती है, मेरा राजा बेटा… मेरा बच्चा दुनिया का सबसे सुंदर बच्चा है. मेरा बेटा सबसे प्यारा और सुंदर है.

बीरबल: महाराज अब आपको सब समझ में आ गया होगा कि मैं क्या कहना चाहता था.

अकबर: बीरबल मैं अच्छे से समझ गया हूं कि तुम्हारा क्या मतलब था.

Akbar-Birbal Story

बीरबल: महाराज, हर बच्चा उनके माता-पिता के लिए दुनिया का का सबसे सुंदर बच्चा ही होता है. जहांपनाह, मैं बस इतना चाहता हूं कि आप शहजादे को अच्छी तालीम दें और उन्हें चापलूसों से दूर रखें.

अकबर: बीरबल, तुम वाक़ई मेरे सच्चे मित्र और हितैषी हो, तुमने बेबाक़ होकर बिना डरे सच कहा और मेरी आंखें खोल दीं. तुमने फिर साबित कर दिया कि तुम वफ़ादार हो और हमारा व राज्य का भला चाहते हो.

सीख: चापलूसों से बचकर रहना चाहिए और सच बोलने वाले पर भरोसा करना चाहिए. इतनी समझ रखो कि कौन चापलूस है और कौन हितैषी. इसके अलावा, कभी अपने औहदे या किसी चीज का घमंड नहीं करना चाहिए.

Photo Courtesy: YouTube (All Photos)

यह भी पढ़ें: पंचतंत्र की कहानी: दो सिर वाला जुलाहा (Panchatantra Story: The Two Headed Weaver)

×