फैमिली मैनेजमेंट की कला कितना जानती हैं आप ? (Art of family management)

परिवार चलाना जितना आसान नज़र आता है, उतना होता नहीं है और आज के दौर में, जब महिलाएं बाहर भी काम करती हैं, तो यह किसी चुनौती से कम नहीं. दरअसल, फैमिली मैनेजमेंट (Art of family management) भी एक कला है, जिसे आप जितना जल्दी समझ लेंगी, उतना ही आपके लिए आसान होगा.

Art of family management

फैमिली मैनेजमेंट के अंतर्गत क्या आता है: (Art of family management)

– फैमिली मेंबर्स को क़रीब लाना.
– आपसी सामंजस्य बैठाना.
– काम की सही प्लानिंग और स्ट्रेस कम करना.
– टाइम मैनेजमेंट.
– बजट प्लानिंग.
– बच्चों की सही परवरिश व उनके विकास की बेहतर संभावनाएं पैदा करना.
– अपनी व अन्य सदस्यों की सेहत पर नज़र रखना.

फैमिली मैनेजमेंट के बेसिक आइडियाज़ (Art of family management)

कम्यूनिकेशन: परिवार से संबंधित हर विषय पर हर सदस्य से बात ज़रूर करें, यहां तक कि बच्चों से भी. इससे आपको उनकी परेशानियों व उम्मीदों के बारे में ठीक से पता चल सकेगा और आप अपनी बात भी उनको बेहतर तरी़के से समझा सकेंगी.
अटेंशन और टाइम: परिवार को समय और अटेंशन देना सबसे ज़रूरी है. इससे उन्हें यह महसूस होगा कि वो आपकी ज़िंदगी का अहम् हिस्सा हैं. उन्हें प्रोत्साहित करना, बात करना और उनकी बात सुनना बेहद ज़रूरी है.

रूटीन और टाइमटेबल: टाइमटेबल बनाकर एक रूटीन सेट करने से काम आसान हो जाता है. न स़िर्फ आपके लिए, बल्कि घर के अन्य सदस्यों के लिए भी. उन्हें पता होता है कि किस समय पर क्या करना है और किस काम को कितना समय देना है. बच्चों से लेकर सभी सदस्यों के सोने, उठने, खाना खाने आदि का समय फिक्स कर दें, इससे सभी का स्ट्रेस कम होगा और काम आसान होगा.

काम व ज़िम्मेदारियों का बंटवारा: काम का बंटवारा करने से आपका भी काम हल्का हो जाएगा और सभी को अपनी ज़िम्मेदारियों का एहसास भी होगा. यहां तक कि बच्चों को भी इसमें शामिल करें. यह ज़रूर ध्यान रहे कि सभी को उनकी क्षमता व पसंद-नापसंद के अनुसार ही काम दें.

सोशल गैदरिंग, गेट-टुगेदर: भले ही आप सब साथ में रहते हों, लेकिन रूटीन लाइफ में बहुत कुछ खो जाता है. कभी-कभार पार्टी या कोई फंक्शन या फिर यूं ही गेट-टुगेदर करें, जिससे आप सब एक साथ एंजॉय कर सकें और हल्के-फुल्के लम्हों को जी सकें.

प्रॉब्लम एरिया को समझें: किस चीज़ को लेकर आजकल आप अधिक परेशान हैं, उस पर विचार करें- चाहे फाइनेंस हो या कोई घर की ज़िम्मेदारी. आपस में बात करें और मिलकर समाधान निकालें. सभी की राय लें, इससे हर चीज़ अच्छे से मैनेज होगी और स्ट्रेस भी कम होगा.

Art of family management

स्मार्ट टिप्स
  • बजट प्लान करें. अपने परिवार की फाइनेंशियल ज़रूरतों पर चर्चा करके सेविंग्स और ख़र्च का बजट तैयार करें.
  • किचन मैनेज करें. हेल्दी स्नैक्स स्टोर करें और हफ़्ते भर का मील भी संडे को ही प्लान कर लें.
  • घर की क्लीनिंग के लिए भी दिन व ड्यूटी तय करें.
  • अगर आप वर्किंग हैं, तो फैमिली और वर्क लाइफ में बैलेंस रखना ज़रूरी है.
  • अपनी क्षमताओं और अपेक्षाओं के प्रति सतर्क रहें. ऐसी अपेक्षाएं न पालें, जिन्हें पूरा करना आपके बस में नहीं या फिर जिसके लिए आपको बहुत कुछ दांव पर लगाना हो.
  • परिवार की भी इतनी उम्मीदें न बढ़ा दें, जिन्हें आप हमेशा पूरा न कर सकें, वरना बाद में आप पर ही बोझ बढ़ेगा.
  • फैमिली मैनेज करना स़िर्फ आपकी अकेली की ज़िम्मेदारी नहीं है, यह बात बाकी के सदस्यों तक सही तरी़के से पहुंचानी ज़रूरी है.
  • सभी अपनी ज़िम्मेदारी निभाएंगे, तो फैमिली मैनेज करना भी आसान होगा.
  • लिस्ट, डायरी या एक कैलेंडर तैयार करें, जिसमें सभी काम का बंटवारा, प्राथमिकताएं, इमर्जेंसी फंड, बजट, शॉपिंग, फ्री टाइम, हॉलीडे प्लान आदि लिखें. इससे आपका काम बहुत आसान होगा और आप कुछ भूलेंगी भी नहीं.
  • सबकी एनीवर्सरी, डेट ऑफ बर्थ और स्पेशल ओकेज़न डायरी में नोट करके रखें, फोन पर रिमाइंडर भी लगा सकती हैं, इससे आप उनके लिए सरप्राइज़ प्लान कर सकती हैं.
  • आपका थोड़ा-सा एक्स्ट्रा एफर्ट और थोड़ी-सी एक्स्ट्रा केयर घरवालों को न स़िर्फ ख़ुशी देगी, बल्कि आप सबको और क़रीब लाएगी.
  • घर में अगर कोई बीमार है या कोई अन्य रिश्तेदार बीमार है, तो उनका हालचाल जानने के लिए भी व़क्त ज़रूर निकालें.
  • दूर रहनेवाले रिश्तेदारों से हफ़्ते या पंद्रह दिन में एक बार बात करने के लिए टाइम व दिन फिक्स कर लें.
  • हो सके तो उनके भी बर्थ डे और एनीवर्सरीज़ लिख कर रखें और समय पर विश करें. ये छोटी-छोटी बातें ब़ड़ी मायने रखती हैं.
–  मनजीत

 

 

कैसे करें मैनेज जब हो सिंगल इंकम? (How to Manage With Single Income?)