उम्मीद ख़ुद से करें, दूसरों से नहीं (Believe in yourself, do not expect from others)

believe in yourself

‘उम्मीद पर दुनिया क़ायम है’ इस जुमले से परे एक सच्चाई ये भी है कि दूसरों से की गई ज़रूरत से ज़्यादा उम्मीदें सामने वाले के साथ ही हमारे लिए भी दुखदायी होती हैं. कई बार इन उम्मीदों का बोझ इतना बढ़ जाता है कि उस बोझ तले हमारे कई रिश्ते दबकर दम तोड़ देते हैं, इसलिए दूसरों से उम्मीदें बांधने से अच्छा है कि आप ख़ुद से उम्मीद करें.

वर्तमान में तलाशें ख़ुशी
आज मैं बेटे की देखभाल करूंगा तभी तो वो बुढ़ापे में मेरा सहारा बनेगा… इस तरह की उम्मीद करना बहुत आम है, मगर आप यदि जीवन में ख़ुशी चाहते हैं, तो दूसरों से उम्मीदें रखना छोड़ दीजिए. अपनी क्षमताओं के बल पर ज़िंदगी जीना सीखिए. जब हम बिना किसी उम्मीद के निःस्वार्थ होकर अपना काम और ज़िम्मेदारियां निभाते रहेंगे, तो हमें किसी तरह का दुख भी नहीं होगा. आज मैं इसकी मदद कर रहा हूं ताकि आगे ये भी मेरी मदद करे, इस सोच के साथ यदि आप सामने वाले की मदद कर रहे हैं, तो भविष्य में जब वो आपसे मुंह फेर लेगा या ज़रूरत के व़क्त साथ नहीं देगा, तो आपके दिल को ठेस पहुंचेगी, लेकिन आप बिना कोई उम्मीद लगाए किसी की मदद स़िर्फ इसलिए कर रहे हैं कि आप ऐसा करने में सक्षम हैं, तो उस व्यक्ति द्वारा नकारे जाने पर भी आपको कोई दुख नहीं होगा. अपने बच्चों की परवरिश में हर पैरेंट्स को ख़ुशी मिलती है, तो आप उस व़क्त मिलने वाली ख़ुशियों का आनंद लें, वो भविष्य में आपके लिए कुछ करेगा इसकी उम्मीद करने की क्या ज़रूरत है?

यह भी पढ़ें: सीखें ग़लतियां स्वीकारना

दूसरों से उम्मीदें दुख देती हैं

आज मैंने किसी काम को अच्छी तरह किया है, लेकिन कल मैं इसे और बेहतर तरी़के से करूंगा या फिर मैंने 1 महीने में 2 किलो वज़न घटाया है, तो अगले महीने तक 5 किलो घटा लूंगा… किसी ने तारीफ़ नहीं की तो क्या हुआ आज खाना अच्छा बनाया था, कल मैं और वैरायटी बनाऊंगी, उसकी तो झूठ बोलने की आदत ही है, मैं उसे बदल नहीं सकता, मगर मैं अब हमेशा सच बोलूंगा/बोलूंगी… ख़ुद से की गई ऐसी उम्मीदें हमें हमेशा ख़ुश और ज़िंदगी के प्रति सकारात्मक रखती हैं. अतः आप भी दूसरों से तारीफ़ पाने, उन्हें अपने मुताबिक़ बदलने या फिर उनसे कुछ बेहतर पाने की उम्मीद करने की बजाय अपने आप से ही उम्मीद रखें कि कल आप और बेहतर करेंगे. माना ऑफिस में आपने पूरी मेहनत और लगन से कोई प्रोजेक्ट कंप्लीट किया और ये सोचकर बॉस के सामने सीना तान कर खड़े थे कि बॉस तो बस अब आपकी तारीफ़ों के पुल बांध देगा, मगर तारीफ़ करना तो दूर बॉस उल्टा आपके प्रोजेक्ट की ख़ामियां गिनाने लगा, ज़ाहिर है आपको बहुत बुरा लगेगा… लेकिन आप यदि ख़ुद को थोड़ा बदल दें, तो इस दुख से बच सकते हैं. अपना काम ईमानदारी से करें. भले ही बॉस ने आपके काम में ग़लतियां निकाली हों, लेकिन आपने तो ईमानदारी से काम किया था, इसलिए ख़ुद को इसके लिए शाबाशी दें. साथ ही बॉस की बताई ग़लतियों पर ग़ौर करें और ख़ुद से प्रॉमिस करें कि अगली बार आप और अच्छा परफॉर्म करेंगे, मगर ये मत सोचिए कि शायद अगली बार बॉस आपकी तारीफ़ करेंगे.

काम मुश्किल ज़रूर है, मगर…
अपने परिवार, हमसफ़र, दोस्तों से उम्मीदें लगाना हमारी आदत है, जिसे बदलना आसान नहीं है, मगर ये काम नामुमक़िन भी नहीं है. इसके लिए
आपको थोड़ी मेहनत करके ख़ुद को बदलना होगा. इसके लिए हर दिन अपने लिए कोई टारगेट रखें और उसे पूरा करने की कोशिश करें. घर-ऑफिस के प्रति अपनी ज़िम्मेदारियों को निभाने के साथ ही थोड़ा समय ख़ुद के लिए भी निकालें. ज़िंदगी में आगे बढ़ने के लिए उम्मीद ज़रूर करें, मगर अपने आप से न कि हालात और दूसरे व्यक्तियों से, क्योंकि आप ख़ुद से की गई उम्मीदों को तो अपने बल पर पूरा करने की कोशिश कर सकते हैं, मगर दूसरों को इसके लिए विवश नहीं कर सकते.

– कंचन सिंह

अधिक जीने की कला के लिए यहां क्लिक करें: JEENE KI KALA