क्रिएटिव राइटिंग: कल्पनाओं को दें उड़ान (Creative Writing: Art of Self Expression)

बचपन से लेकर आज तक हम सभी कहानियां सुनते और सुनाते आए हैं. कहानी सुनना सबको भाता है. ऐसे में इसकी डिमांड आजकल तेज़ी से बढ़ रही है. क्रिएटिव राइटिंग में अपना भविष्य आज़माने के लिए आपको धैर्य से काम लेना होता है. कहानी लेखन, धारावाहिक, फिल्म किसी में भी आप करियर बना सकते हैं. क्रिएटिव राइटर वो होता है, जो अपनी कल्पना से कुछ नया बनाता है और फिर उस नई सोच, विचार और भाव को काग़ज़ पर उतारता है. किसी के चोरी किए हुए विचारों को छपवाना क्रिएटिव राइटर का काम नहीं है. 

क्रिएटिव राइटिंग के प्रकार 

1. फिक्शन राइटिंग: इसके तहत प्ले राइटिंग, स्क्रीन राइटिंग, चिल्ड्रेन्स बुक, बुक रिव्यू और फिल्म क्रिटीसिज़म (आलोचना) शामिल है.

2. नॉन फिक्शन राइटिंग: इसके अंतर्गत कविता, लेख, जीवनी, रहस्यवादी लेख, रोमांस, साक्षात्कार और आर्ट क्रिटीसिज़म (आलोचना) शामिल है.

3. नॉवेल राइटिंग: इसके अंतर्गत स्क्रिप्ट राइटिंग, टीवी सीरीयल राइटिंग, ट्रैवल राइटिंग, लिरिक्स राइटिंग के साथ बिज़नेस कम्यूनिकेशन शामिल है.

शैक्षणिक योग्यता

क्रिएटिव राइटर बनने के लिए सबसे ज़रूरी है लिखने के प्रति आपका रुझान. रचनात्मकता, नई और अलग चीज़ें सोचने की क्षमता. लोगों के दिमाग़ को पढ़ने और उनकी पसंद जानने की योग्यता भी आप में होनी चाहिए.

और भी पढ़ें: कहीं काम के बोझ तले दब न जाए आपका स्वास्थ्य

प्रमुख संस्थान

  • जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली.प दिल्ली यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली.
  • इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली.
  • ब्रिटिश काउंसिल ऑफ इंडिया, नई दिल्ली.
  • मुंंबई यूनिवर्सिटी, मुंबई.प यूनिवर्सिटी ऑफ कोलकाता, कोलकाता.
  • कर्नाटक स्टेट ओपन यूनिवर्सिटी, कर्नाटक.
  • द आई.सी.एफ़.ए.आई. यूनिवर्सिटी, हैदराबाद.
  • सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियन लैंग्वेजेज़, कर्नाटक.
  • यू.पी. राजश्री टंडन ओपन यूनिवर्सिटी, इलाहाबाद.

रोज़गार के अवसर

इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए संभावनाएं बहुत हैं. इसमें पैसे बहुत हैं. बस, ज़रूरत है, तो लगन की. एक बार इस क्षेत्र में आपकी राइटिंग जम गई, तो फिर आपको कोई नहीं रोक सकता.

करियर संबंधी आर्टिकल्स के लिए यहां क्लिक करें: Career-Education