शरीर को डिटॉक्स करने से वज़न तो घ...

शरीर को डिटॉक्स करने से वज़न तो घटेगा ही साथ में स्वस्थ भी रहेंगे (Detoxing the body will not only reduce weight but will also be healthy)

फिट यानी हेल्दी रहने के लिए एक्सरसाइज़ व योग के अलावा डिटॉक्स सबसे उत्तम उपाय है. इससे आपका पाचन तंत्र ठीक रहेगा. शादी-ब्याह के मौसम में मिठाई, पनीर, तंदूरी आदि तरह-तरह के भारी खाना खाकर शरीर को डिटॉक्स करके ख़ुद को हल्का अनुभव कर सकती हैं. जानें शरीर को डिटॉक्स करने के क्या लाभ हैं और किस तरह करना है.
वेट लाॅस जर्नी का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है डिटॉक्स. हमेशा हर तरह के डायट प्लान में अब डिटॉक्स का समावेश किया जाता है. तली और मसालेदार खुराक, जंक फूड आपकी पाचन क्रिया को कमज़ोर कर देते हैं. इससे स्वस्थ रहने और मेटाबोलिज्म को हेल्दी बनाए रखने के लिए नियमित रूप से डिटॉक्स करना ज़रूरी है.

डिटॉक्स से होनेवाले स्वास्थ्य लाभ

ऊर्जा का स्तर बढ़ता है
सुस्ती, ऊर्जा की कमी और थकान ये तीनों लक्षण भोजन द्वारा ज़रूरी पोषक तत्व न मिलने के संकेत हो सकते हैं. जब आपका शरीर इन पोषक तत्वों को एब्जॉर्ब करने में असमर्थ होता है, तब आपके शरीर में डिटॉक्स पदार्थ जमा हो जाते हैं. इसके कारण शरीर की सेल्युलर एनर्जी में कमी अनुभव होती है. इससे ऊर्जा के स्तर में वृद्धि करने के लिए एक अच्छा डिटॉक्स रूटीन आपके अच्छे पाचन को शुरू करने में सहायक हो सकता है. शरीर की सफ़ाई की यह अवधि आपकी ऊर्जा में वृद्धि करती है.

यह भी पढ़ें: ब्राह्मी के चमत्कारी फ़ायदे (Miraculous Benefits Of Brahmi)

लीवर को सक्रिय बनाता है
आपका लीवर एक प्राकृतिक डिटॉक्स मशीन है. वह नियमित रूप से हमेशा आपके शरीर के गंदे पदार्थ को बाहर निकालने में मदद करता है, जबकि आपके लीवर को भी डिटॉक्स से लाभ हो सकता है, क्योंकि इससे आपके लीवर को ओवरटाइम करने से ब्रेक यानी राहत मिलती है. इसके कारण लीवर का स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है. लीवर का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा, तो चयापचय और डिटॉक्स का काम अच्छा करेगा.

त्वचा साफ़ और सुंदर होती है
त्वचा मनुष्य के शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग तो है ही, साथ ही साथ यह डिटॉक्स पदार्थों को दूर करनेवाले अंगों में से एक है. शरीर में कोई भी डिटॉक्स पदार्थ इकट्ठा होता है या असंतुलन पैदा करता है, तो वह हमारी त्वचा द्वारा पता चल जाता है. वह रूखी, पीले रंग की दिखाई देने लगती है. इससे रेशेज़ होने का भी ख़तरा रहता है. क्लोजिंग डिटॉक्स से गुज़रने के बाद आप त्वचा को साफ़, सुंदर और स्वस्थ होने का अनुभव कर सकते हैं.

वेट लाॅस के लिए लाभदायक
डिटॉक्स आपकी आंतों और पाचन दोनों की कार्यक्षमता को बढ़ाने में मदद करता है. एक बार जब उचित चयापचय क्रिया स्थापित हो जाती है और पोषक तत्वों का अवशोषण होने लगता है, तो वह वज़न को नियंत्रित करने में मदद करता है.

इम्युनिटी मज़बूत करता है
शरीर में एकत्र हुए टॉक्सिक पदार्थ आपके शरीर को अंदर से खोखला कर सकते हैं. इससे आपकी इम्युनिटी पर असर पड़ता है. कम इम्युनिटी का अर्थ है संक्रमण और बीमारी के लिए अधिक संवेदनशील होना. ख़राब इम्युनिटी एक संकेत है कि आपके शरीर की सफ़ाई ज़रूरी है. एक डिटॉक्स अवधि के बाद इम्युनिटी बहुत अच्छी तरह काम करती है.

शरीर को डिटॉक्स करने के श्रेष्ठ और सरल उपाय

नींबू और अदरक का डिटॉक्स ड्रिंक- यह सचमुच बहुत अच्छा ड्रिंक है, जो वज़न घटाने के लिए बहुत उत्तम है. एक ग्लास गुनगुने पानी में आधा नींबू निचोड़कर उसमें एक इंच अदरक का टुकड़ा डालें. इसे रोज़ सवेरे पीएं और एकाध महीने बाद अपना वज़न चेक करें. अदरक में जिंजरोल होता है, जो पेट की समस्याओं को रोकने में तथा पाचन में सहायक होता है. नींबू विटामिन सी से भरपूर होता ही है, साथ ही एंटीऑक्सीडेंट्स भी होता है, जो शरीर में फ्री रेडिकल्स (मुक्त कणों) के उत्पादन से लड़ता है.

खीरा और पुदीना डिटॉक्स ड्रिंक- खीरा (ककड़ी) और पुदीना का मिश्रण शरीर से टॉक्सिक (ज़हरीले) पदार्थों को बाहर निकालने में तो सहायक है ही, साथ ही स्वाद में भी अच्छा लगता है. खीरा और पुदीना जब पानी में डालकर पिया जाता है, तो यह पाचन के लिए भी बहुत उत्तम है. एक बड़ा जग या घड़ा लें और उसमें ताज़े पुदीने की पत्ते तथा खीरे के टुकड़े डालकर रात को रख दें. रातभर उसे वैसे ही रहने दें और अगले पूरे दिन थोड़ी-थोड़ी देर पर उसी पानी का सेवन करते रहें. खीरा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स से लड़ने में मदद करते हैं और अपने हाइड्रेटिंग प्रभाव के कारण यह शरीर से टॉक्सिक पदार्थों को बाहर करने में मदद करता है.

संतरा, गाजर और अदरक का डिटॉक्स ड्रिंक- संतरा एंटीआक्सीडेंट और विटामिन सी का पावर हाउस है. गाजर बीटा-केरोटीन और फाइबर से भरपूर होती है, जो वज़न घटाने और पाचन में सहायक होती है. अदरक पाचन, सूजन, पेट में जमा कचरा दूर करने का सबसे पुराना घरेलू उपाय है और यह एंटीइन्फेमेटरी के गुणों से भी भरपूर होती है. इसे बनाने के लिए संतरा और गाजर को मिक्सर में पीस कर उसका रस निकालें. साथ ही उसमें अदरक का एक छोटा टुकड़ा डालें या फिर एक चम्मच अदरक का रस मिला कर पिएं.

सेब और नींबू का डिटॉक्स ड्रिंक- एक सेब को छीलकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें. आधे नींबू का रस निकालकर एक ग्लास पानी में रखें. सुबह इसे छान कर पी लें. यह विटामिन सी का बहुत अच्छा सोर्स है.

यह भी पढ़ें: गजक खाने के 11 बेहतरीन फ़ायदे… (11 Health Benefits Of Eating Gajak)

चुकंदर और अनार का डिटॉक्स ड्रिंक- आधे चुकंदर के छोटे-छोटे टुकड़े और दो चम्मच अनार के दानों को एक ग्लास पानी में डालकर पूरी रात रखें. सुबह छानकर इस पानी को पी लें. यह बाॅडी डिटॉक्सिफिकेशन के साथ-साथ एंटी एजिंग डायमेंशन में भी लाभदायक है.

पुदीना और तेजपत्ते का डिटॉक्स ड्रिंक- एक ग्लास पानी में पुदीने के 10-12 पत्ते और तेजपत्ते के दो पत्ते डालकर पूरी रात रखें. इस पानी को सुबह छानकर पीने से शरीर में शुगर कंट्रोल रहता है. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर यह ड्रिंक वज़न कम करने और मेंस्टुअल क्रैम्प्स में राहत देता है.

  • स्नेहा सिंह
Detoxing

Photo Courtesy: Freepik

×