एग्ज़ाम टाइम: क्या करें कि बच्चे पढ़ाई में मन लगाएं? (Exam Time: How To Concentrate On Studies)

क्या करें कि बच्चे पढ़ाई (Studies) में मन लगाएं? उपाय आसान है, साइकोलॉजिस्ट डॉक्टर माधवी सेठ बता रही हैं कुछ आसान उपाय (Easy Steps) जिनसे आपका बच्चा पढ़ाई में मन लगाएगा और उसका बौद्धिक विकास भी होगा. आप भी जानें वो आसान उपाय जिनसे आप अपने बच्चे को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं..

Exam Time Tips

एग्ज़ाम टाइम में बच्चों को टेंशन से ऐसे रखें दूर:
मार्च का महीना आते ही बच्चों से लेकर पैरेंट्स तक की दिल की धड़कन बढ़ जाती हैं. एग्ज़ाम के समय बच्चों के दिमाग पर ज़्यादा ज़ोर पड़ता है, ऐसे में बच्चों को टेंशन से दूर कैसे रखें, ये जानना पैरेंट्स के लिए बहुत ज़रूरी है. पढ़ाई और परीक्षा के तनाव से बच्चे को कैसे दूर रखा सकता है? आइए, जानते हैं.

यह भी पढ़ें: ख़तरनाक हो सकती है बच्चे की चुप्पी (Your Child’s Silence Can Be Dangerous)

 

क्या करें पैरेंट्स कि बच्चे पढ़ाई में मन लगाएं?

1) घर का माहौल ख़ुशनुमा व शांत बनाए रखने की कोशिश करें.

2) बच्चे को हमेशा सही टाइम पर पढ़ने, पढ़ाई से ब्रेक लेने और सोने के लिए प्रोत्साहित करें. बिना ब्रेक के लगातार पढ़ते रहने से वो तनावग्रस्त हो सकते हैं.

3) बच्चे की मदद के लिए हमेशा तैयार रहें. उससे पूछती रहें कि क्या उसे आपकी कोई मदद चाहिए?

4) बच्चे पर किसी तरह का दबाव न डालें. बेटा तुम्हें 90 प्रतिशत नंबर लाने ही होंगे… जैसे वा़क्य ग़लती से भी न कहें.

5) यदि परीक्षा के दौरान बच्चे का व्यवहार सही नहीं है, तो ग़ुस्सा होने की बजाय ख़ुद पर क़ाबू रखें और प्यार से उसे समझाने की कोशिश करें.

6) एग्ज़ाम पीरियड में उसे किसी भी तरह का घर का काम न दें और न ही कोई ऐसी बात कहें जिससे उसका ध्यान पढ़ाई से हटे.

7) पढ़ाई को लेकर बच्चे के पीछे न पड़ी रहीं रिलैक्स व फ्रेश होने के लिए उन्हें थोड़ी देर खेलने व टीवी देखने की छूट दें.

8) एग्ज़ाम का हौव्वा न बनाएं उसे सामान्य तरी़के से लें.

9) बच्चे के सामने ये कभी न ज़ाहिर करें कि आप उनकी परीक्षा को लेकर चिंतिंत हैं.

10) अपने बच्चे को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करें और उसके साथ प्यार से पेश आएं.

क्या करें कि बच्चे पढ़ाई में मन लगाएं? देखें वीडियो:

 

एग्ज़ाम टाइम में बच्चे ऐसे करें पढ़ाई:

1) एग्ज़ाम को लेकर घबराए नहीं, इसे सामान्य तरी़के से लें. घबराने से कई बार आप आती हुई चीज़ भी भूल सकते हैं.

2) यदि आपको परीक्षा का डर सता रहा है तो अपने दोस्तों या पैरेंट्स से बात करें. डर की भावना को अंदर ही अंदर न समेटें.

3) एग्ज़ाम को लेकर अपना दृष्टिकोण बदलें, माना कि ये आपकी ज़िंदगी का अहम् हिस्सा है लेकिन ये ज़िंदगी नहीं. कई क़ामयाब लोग परीक्षा में अच्छा नहीं कर पाएं, लेकिन ज़िंदगी में सफल हुए. अतः अपना बेस्ट देने की कोशिश ज़रूरी करें, लेकिन नतीजे के बारे में सोचकर परेशान न हों.

4) पढ़ाई के लिए टाइम टेबल बना लें कितनी देर पढ़ना है? कब ब्रेक लेना है? कौन-सा सब्जेक्ट पहले पढ़ना है? आदि.

5) लगातार पढ़ने की बजाय बीच-बीच में ब्रेक लेकर ख़ुद को फ्रेश करते रहें. एग्ज़ाम के पहले अच्छी तरह रिविज़न कर लें.

यह भी पढ़ें: बचें इन पैरेंटिंग मिस्टेक्स से (Parenting Mistakes You Should Never Make)

 

परीक्षा के दौरान ऐसी हो बच्चों की डायट

परीक्षा के दौरान बच्चों को स्ट्रेस फ्री और हेल्दी रखने में डायट की भी अहम् भूमिका होती है. एग्ज़ाम टाइम में बच्चों की डायट कैसी होनी चाहिए? बता रही हैं न्यूट्रीशनिस्ट व डायट कंस्लटेंट शिल्पा मित्तल.

1) बच्चे के दिन की अच्छी शुरुआत के लिए ब्रेकफास्ट बहुत ज़रूरी है, इसे स्किप करने की ग़लती न करें. ये बच्चे को कॉन्सन्ट्रेट करने और चीज़ों को याद रखने में मदद करता है. ब्रेकफास्ट में स्टार्च से भरपूर व मीठी चीज़ें जैसे- शीरा (हल्वा) और व्हाइट ब्रेड की जगह फाइबर युक्त चीज़ें जैसे- दलिया, पोहा, उपमा और होल वीट ब्रेड सैंडविच दें.

2) रोज़ना कम से कम 2 लीटर पानी पीना चाहिए.

3) बच्चे के खाने में ताज़े फल व हरी पत्तेदार सब्ज़ियों की मात्रा ज़्यादा रखें.

4) बच्चे के लिए प्रोटीन भी बेहद ज़रूरी है. अतः खाने में दाल, स्प्राउट्स (अंकुरित मूंग, चना), सोया, दूध से बनी चीज़ें, सी फूड, लीन मीट, अंडा आदि को शामिल करें.

5) कैलोरीज़ की मात्रा कम रखने के लिए कोल्ड ड्रिंक, जंक फूड, फ्रायड स्नैक्स, एनर्जी ड्रिंक आदि से बच्चे को दूर रखें. इस बात का भी ध्यान रखें कि आपका बच्चा अल्कोहल और तंबाकू आदि से भी दूर रहे.

6) अच्छी तरह से पढ़ने के लिए फिज़िकल व मेंटल एनर्जी ज़रूरी है, जिसे मेंटेन रखने के लिए बच्चे को आयरन से भरपूर चीज़ें जैसे- रेड मीट, रागी, पालक आदि दें. साथ ही विटामिन बी युक्त होल ग्रेन (साबूत अनाज), अंकुरित गेहूं, अंडे, बादाम आदि को भी उनकी डायट में शामिल करें. फिश और सोया भी बच्चों की ब्रेन पावर बढ़ाते हैं.

7) यदि आपका बच्चा लाइब्रेरी जा रहा है, तो उसके टिफिन में सेब, केला, संतरा, गाजर और एप्रीकॉट रखें. ये चीज़ें फाइबर, बीटा कैरोटीन और मिनरल्स की अन्य ज़रूरतों को पूरा करके बच्चे को एनर्जेटिक रखेगी.

8) एक ही बार ज़्यादा खाना देने की बजाय दिन में कई बार थोड़ा-थोड़ा करके खाना दें. इससे शरीर और मस्तिष्क दोनों को ज़रूरी पोषक तत्व मिलते रहेंगे. बच्चे को स्नैक्स के तौर पर समोसा, बर्गर, नमकीन और पैटीज़ आदि खाने से मना करें, इसकी जगह बादाम, काजू, पिस्ता या सूखा भेल व चना चाट का विकल्प बेहतर है.

9) बच्चे के शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए रस वाले फल व सब्ज़ियों को खाने में शामिल करें, इसे खाने के बाद उन्हें नींद नहीं आएगी. उनके लिए तरबूज़, खरबूज़, स्ट्रॉबेरी, संतरा और मौसंबी जैसे फल अच्छे रहेंगे.

10) बादाम, अखरोट, कद्दू का बीज और तरबूज़ का बीज स्मरण शक्ति बढ़ाने के साथ ही कॉन्सन्ट्रेशन में भी मदद करता है.

11) बच्चे को बहुत ज़्यादा स्टार्च युक्त सब्ज़ियां जैसे- आलू, शकरकंद आदि खाने से रोकें. क्योंकि ये खाने से उन्हें नींद आ सकती है. साथ ही कॉन्स्टीपैशन की समस्या भी हो सकती है.

12) एग्ज़ाम के समय बच्चों को चपाती के साथ हल्की सब्ज़ी जैसे लौकी, गाजर मेथी आदि दें.

13) परीक्षा के समय बच्चों के दिमाग़ पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, ऐसे में मस्तिष्क की क्षमता बढ़ाने लिए एंटी ऑक्सीटेंड जैसे- विटामिन ए, सी और ई से भरपूर अंडा, फिश, गाजर, कद्दू, हरी पत्तेदार सब्ज़ियां और ताज़े फल को उनकी डायट में शामिल करें. ये न स़िर्फ मस्तिष्क की क्षमता बढ़ाते हैं, बल्कि इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाकर बच्चों को बीमारियों से भी बचाते हैं.

14) नियमित एक्सरसाइज़ खासकर प्रणायाम (ब्रिदिंग एक्सरसाइज़) मस्तिष्क में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाता है जिससे तनाव कम हो जाता है.

15) ज़िंदगी के प्रति सकारात्मक रवैया अपनाएं.

16) रात को ज़्यादा देर तक पढ़ने के लिए बच्चे अक्सर चाय/कॉफी का सहारा लेते हैं, ये उनकी सेहत के लिए ठीक नहीं है. अतः उन्हें बहुत ज़्यादा चाय/कॉफी पीने से रोके.

17) थकान, चिंता और डिप्रेशन से बचने के लिए नींद पूरी होनी ज़रूरी है. अतः परीक्षा के दौरान इस बात का ख़ास ध्यान रखें कि आपका बच्चा पर्याप्त नींद ले, वरना वो रिलैक्स होकर एग्ज़ाम नहीं दे पाएगा.

यह भी पढ़ें: बच्चों के मानसिक विकास के लिए एक्सरसाइज़ ज़रुरी (Now Physical Exercise Can Develop Your Child’s Intellect)

Exam Time Tips

बच्चों को बुद्धिमान बनाने के लिए आज़माएं ये फेंगशुई टिप्स:

फेंगशुई के ज़रिए कैसे आप अपने बच्चे की पढ़ाई में दिलचस्पी बढ़ाकर बुद्धिमान बना सकती हैं बता रही हैं फेंगशुई कंसल्टेंट दीप्ति एच अरोरा.

1) बच्चों का बेडरूम
बच्चों का बेडरूम उत्तर-पूर्व दिशा में बनवाएं. फेंगशुई के अनुसार, उत्तर-पूर्व दिशा का संबंध बल, बुद्धि और शौर्य से होता है. शिक्षा की दृष्टि से यह दिशा अत्यंत शुभ मानी जाती है.

2) स्टडी टेबल
बच्चों के कमरे में स्टडी टेबल ऐसी जगह रखें, जिससे कि बच्चों का मुख उत्तर या पूर्व दिशा की तरफ़ हो. इस दिशा में बैठने से बच्चे अपना लक्ष्य जल्दी प्राप्त करते हैं.

3) ग्लोब
अपने बच्चों को पढ़ाई में होशियार बनाने के लिए घर के उत्तर-पूर्व दिशा में ग्लोब रखें. फेंगशुई के अनुसार, इस क्षेत्र का तत्व पृथ्वी है. अतः इस दिशा में पृथ्वी की प्रतिमा रखने से शिक्षा एवं ज्ञान का संचार होता है.

4) एज्युकेशन टॉवर
फेंगशुई के अनुसार, घर में एज्युकेशन टावर रखने से बच्चे मन लगाकर पढ़ाई करते हैं और अच्छे नंबर से पास होते हैं.

5) घर की पश्‍चिम दिशा में अपने बच्चों की तस्वीर लगाएं. पश्‍चिम दिशा का संबंध संतान से होता है इसलिए इस दिशा में बच्चों की तस्वीर लगाना उत्तम माना जाता है.

इन फेंगशुई आइटम्स को भी घर में रखने से बच्चे पढ़ाई में तेज़ होते हैंः
6) ड्रैगन कार्प
7) कॉन्च शैल
8) क्रिस्टल ग्लोब
9) क्वान यिन गॉडेन
10) ग्रीन क्रिस्टल लोटस

यह भी पढ़ें: बढ़ने न दें बच्चों में मोटापा (How Parents Can Prevent Child Obesity?)