कैसे सुलझाएं लाइफस्टाइल संबंधी सेक्स प्रॉब्लम्स? (How to Fix Lifestyle Related Sex Problems?)

Sex Problems

बढ़ते तनाव से इच्छा में कमी

कुछ लोगों का मानना है कि अधिक स्ट्रेस की स्थिति से सेक्सुअल डिज़ायर में कमी आती है, लेकिन यह बात पूरी सच नहीं है. काम का बोझ, बॉस की झिड़की, प्रेज़ेंटेशन का प्रेशर और काम के बढ़ते घंटे तनाव को काफ़ी बढ़ा देते हैं और तनाव को सेक्सुअल डिज़ायर में कमी का कारण मान लिया जाता है. इससे पार्टनर के बीच ग़लतफ़हमी की दीवार खड़ी हो जाती है. उन्हें लगता है कि उनका पार्टनर अब पहले की तरह उनसे प्यार नहीं करता और न ही पार्टनर की उनमें कोई दिलचस्पी है. बस, इसी बात पर झगड़े शुरू हो जाते हैं और इन सबका परिणाम ये होता है कि पुरुष अपनी सेक्सुअल पावर पर ही शक करने लगते हैं, जिससे बात और बिगड़ जाती है.

समाधान- वैवाहिक जीवन में सेक्सुअल डिज़ायर में कमी के पड़ाव आते-जाते रहते हैं, अतः इसके लिए तनाव को पूरी तरह दोषी नहीं माना जा सकता. तनाव के अलावा बिज़ी लाइफस्टाइल और खानपान की ग़लत आदतें भी सेक्स लाइफ पर नकारात्मक प्रभाव डालती हैं. इसके अलावा कम्यूनिकेशन गैप भी दिलों के बीच दूरियां बढ़ा देता है. इसलिए पार्टनर के साथ कम से कम उन बातों को ज़रूर शेयर करें, जो आपको परेशान कर रही हैं. इससे तनाव कम होगा और आप रिलैक्स महसूस करेंगे. फिर भी यदि लगे कि स्ट्रेस सेक्सुअल लाइफ पर हावी हो रहा है, तो काउंसलर या सेक्स थेरेपिस्ट की सलाह लें.

हार्मोंस का असंतुलन

लोगों का यह सोचना कि महिलाओं के मूड और सेक्स की इच्छा के लिए हार्मोंस असंतुलन ही ज़िम्मेदार हैं, पूरी तरह सच नहीं है.

समाधान- आपसी झगड़े, मन-मुटाव, कम्यूनिकेशन गैप आदि भी इसके कारण हो सकते हैं. सेक्सुअल डिज़ायर की कमी की मुख्य वजह नींद पूरी न होना भी हो सकती है. हर व्यक्ति को कम से कम 6 से 7 घंटे सोना चाहिए. इसके अलावा हमारा मानसिक स्वास्थ्य, ग़लत खानपान और थकान भी इसके लिए ज़िम्मेदार हैं. महिलाओं में सेक्स की इच्छा इस बात पर निर्भर करती है कि उनके अपने पार्टनर के साथ संबंध कैसे हैं? जो महिलाएं हीनभावना या नकारात्मक सोच की शिकार होती हैं, उनमें सेक्स की इच्छा कम होती है. अतः यह पुरुष पार्टनर की ज़िम्मेदारी बनती है कि उनकी नकारात्मक सोच को बदलें, उनका आत्मविश्‍वास बढ़ाएं, इसके लिए उन्हें खुलकर बातचीत करनी चाहिए, ताकि वैवाहिक संबंध मधुर बने रहें.

हमेशा दवाइयों का इस्तेमाल

लोगों का मानना है कि दवाइयों के प्रयोग से सेक्सुअल डिज़ायर की कमी को दूर किया जा सकता है, लेकिन दवाइयों को हमेशा अंतिम विकल्प के रूप में रखा जाना चाहिए, क्योंकि कई बार इनका उल्टा असर भी होता है.

समाधान- सबसे पहले समस्या की जड़ तक जाएं और उसे दूर करने की कोशिश करें. कई बार समझाने से ही समस्या हल हो जाती है. आज की वर्किंग वुमन को पर्सनल और प्रोफेशनल लेवल पर ख़ुद को साबित करना पड़ता है. ऑफिस में बॉस और काम का टेंशन, घर में बच्चों को संभालना व गृहस्थी की ज़िम्मेदारी, इन सबको बैलेंस करते-करते वो इतनी थक जाती है कि सेक्स की इच्छा कहीं दबकर रह जाती है. ऐसे में पार्टनर यदि थोड़ी-बहुत ज़िम्मेदारी उठाए और ढेर सारा प्यार दे, तो समस्या आसानी से सुलझ सकती है. हां, इसके लिए धैर्य रखना ज़रूरी है.

इमोशनल इंटीमेसी

इमोशनल इंटीमेसी शेयर करनेवाले कपल्स ख़ुद को सेफ महसूस करते हैं, पर यह इमोशनल इंटीमेसी कई बार इतनी बढ़ जाती है कि न तो उन्हें सेक्स की ज़रूरत महसूस होती है और न ही सेक्स की इच्छा होती है. सेक्सुअल डिज़ायर की कमी के कारण वे सेक्स लाइफ को ठीक से एंजॉय नहीं कर पाते. उनके लिए सेक्स बस एक रूटीन बनकर रह जाता है.

समाधान- ऐसा न हो इसके लिए पार्टनर के साथ सेक्सी व रोमांटिक बातें करें, बेडरूम का माहौल रूमानी बनाएं, लाइट म्यूज़िक, कैंडल्स की हल्की रोशनी और सेक्सी ड्रेस पहनकर पार्टनर को इंप्रेस करें. सेक्सुअल लाइफ को रिचार्ज करने के लिए कुछ दिनों के लिए घर से दूर किसी रोमांटिक जगह पर कुछ पल साथ बिताएं.

यह भी पढ़ें: नाम के पहले अक्षर से जानें अपनी लव लाइफ

0121-bad-sex-square-w352

एक की इच्छा, दूसरे की नहीं

कभी-कभी ऐसा भी होता है कि एक पार्टनर की सेक्स की इच्छा होती है और दूसरा नहीं चाहता है. इसे सेक्सुअल डिज़ायर की कमी मान लिया जाता है. धीरे-धीरे यही प्रवृत्ति गंभीर बन जाती है.

समाधान- यह बिल्कुल सामान्य समस्या है. अक्सर कई पुरुष अन्य तरी़के, जैसे- गिफ्ट देकर या मीठी-मीठी बातें करके पार्टनर का दिल बहलाने की कोशिश करते हैं, लेकिन ऐसा करते समय वे यह बात भूल जाते हैं कि महिलाएं गिफ्ट से ज़्यादा प्यार करने, बांहों में लेने और किस करने से ख़ुश होती हैं. वे पार्टनर का स्पर्श चाहती हैं, क्योंकि यही स्पर्श उन्हें प्यार का एहसास कराता है. अतः इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि अन्य किसी भी तरी़के से जताया गया प्यार फिज़िकल क्लोजनेस का पर्याय नहीं हो सकता. यदि सेक्स की इच्छा में कमी या सेक्स संबंधी कोई समस्या हो, तो उसे छुपाने की बजाय पार्टनर से इस बारे में खुलकर बात करें. इससे आप दोनों के बीच ग़लतफ़हमी नहीं होगी और आपके संबंध मधुर बने रहेंगे. यदि समस्या गहरी हो, तो डॉक्टर की सलाह लें.

प्यार में कमी

ऐसा माना जाता है कि एक पार्टनर की सेक्सुअल डिज़ायर में कमी से दूसरे पार्टनर का उसके प्रति प्यार कम होता जाता है.

समाधान- यह केवल वहम है. ऐसा कुछ भी नहीं होता. समस्या से निपटने के लिए सबसे पहले तो यह पता लगाएं कि सेक्स की इच्छा में कमी का क्या कारण है? महिलाएं शादी के कुछ सालों बाद या बच्चे के जन्म के बाद अक्सर मोटी हो जाती हैं, जिससे उनका आत्मविश्‍वास कम हो जाता है. उन्हें लगता है कि अब उनकी बॉडी सेक्सी नहीं रही. उनका बेडौल शरीर देखकर पार्टनर क्या सोचेगा? यही नकारात्मक सोच उनकी सेक्स में दिलचस्पी कम कर देता है. कई बार मोटापे के कारण पुरुषों को भी संबंध बनाने में परेशानी होती है. डायट और नियमित एक्सरसाइज़ से मोटापे को कंट्रोल किया जा सकता है. नकारात्मक विचारों को दूर करने के लिए साइकोसेक्सुअल थेरेपिस्ट या काउंसलर की सलाह ली जा सकती है.

नशे का सहारा लेना

सेक्सुअल डिज़ायर को बढ़ाने के लिए लोग अल्कोहल, सिगरेट आदि का सेवन करते हैं. ऐसे लोगों की मान्यता है कि इससे सेक्स पावर बढ़ती है.

समाधान- यह बिल्कुल ग़लत है. वैसे भी पुरुष सेक्स को बहुत महत्व देते हैं. यदि उनकी सेक्सुअल डिज़ायर में कमी आती है, तो वे परेशान हो जाते हैं और मूड बनाने के लिए कई बार नशे का सहारा लेते हैं, जिससे शरीर में कई बदलाव आते हैं और इसका असर सेक्स लाइफ पर भी पड़ता है. सिगरेट में कई प्रकार के विषैले पदार्थ होते हैं, जो नपुंसकता पैदा करते हैं. इसी तरह अल्कोहल के सेवन से भी डिज़ायर में कमी आती है, लेकिन इन तथ्यों को अक्सर नज़रअंदाज़ कर दिया जाता है. यदि आप भी हेल्दी सेक्स लाइफ चाहते हैं, तो अल्कोहल और सिगरेट से दूर रहें.

यह भी पढ़ें: 30 इफेक्टिव टिप्स, जो सेक्स लाइफ को बोरिंग बनने से बचाएंगे