वैवाहिक दोष और उन्हें दूर करने के उपाय (Marriage Problems And Their Astrological Solutions)

सभी पैरेंट्स की ख़्वाहिश होती है कि उनके बच्चों की शादी सही उम्र और समय पर हो जाए, लेकिन कभी-कभी किसी ग्रह या नक्षत्र के कारण बात बनते-बनते रह जाती है, जिससे परिवार में काफ़ी तनाव रहता है, ऐसे में आप ये उपाय करके उन वैवाहिक दोषों को दूर कर सकते हैं. क्या हैं वो उपाय बता रहे हैं पंडित राजेंद्रजी दुबे. 

Marriage Problems

जन्म कुंडली में दिए गए योग के अनुसार, विवाह का विचार मुख्य रूप से सप्तम भाव से किया जाता है. इस भाव से ही शादी के अलावा वैवाहिक जीवन से जुड़ी अन्य बातें, पति-पत्नी के आपसी संबंध, जुड़ाव, रिश्तों में मज़बूती आदि पर चिंतन-मनन किया जाता है. आइए, इससे जुड़े उपायों के बारे में जानते हैं.

–     शनि की प्रतिकूल स्थिति से भी विवाह में बाधा आती है. शनि के कारण आनेवाली बाधा को दूर करने के लिए प्रत्येक शनिवार को शिव लिंग पर काले तिल अर्पित करना चाहिए.

–      शनिवार को काले कपड़े में साबुत उड़द, लोहा, काला तिल और साबुन बांधकर दान करने से भी लाभ मिलता है.

–      गुरू की स्थिति अनुकूल नहीं होने पर भी विवाह में देरी होती है. गुरू को अनुकूल बनाने के लिए गुरूवार के दिन पीला वस्त्र धारण करना चाहिए. चने की दान, केला, हल्दी एवं केसर का सेवन लाभप्रद होता है.

–      जिन विवाह योग्य युवक-युवतियों का विवाह नहीं हो पा रहा है, उनको उत्तर या उत्तर-पश्‍चिम दिशा में स्थित कमरे में रहना चाहिए. इससे विवाह के लिए रिश्ते आने लगते हैं. उस कमरे में उन्हें सोते समय अपना सिर हमेशा पूर्व दिशा में रखना चाहिए.

–     किसी कन्या की शादी हो रही हो तो उसमें अपनी क्षमता एवं श्रद्धा के अनुसार गुप्तदान करना भी बहुत फायदेमंद होता है. इससे जल्दी शादी होती है तथा वैवाहिक जीवन खुशहाल होता है, लेकिन दान की चर्चा कभी भी किसी से न करना चाहिए.

–     गुरुवार को वट वृक्ष, पीपल, केले के वृक्ष पर जल अर्पित करने से विवाह बाधा दूर होती है.

–     गुरुवार को विवाह योग्य लड़की को तकिए के नीचे हल्दी की गांठ पीले कपड़े में लपेटकर रखनी चाहिए.

–     यदि लड़का या लड़की पीपल की जड़ में लगातार 13 दिन तक जल चढ़ाते हैं, तो विवाह से संबंधित परेशानियां दूर हो जाती हैं.

–     जिस युवती की शादी में अड़चनें आ रही हों, उसे घर की वायव्य दिशा में सोना चाहिए.

–    अविवाहित लड़के/लड़की को ऐसे कमरे में नहीं रहना चाहिए, जहां अधूरा काम किया हो यानी कमरे के पेंट, मरम्मत आदि का काम अधूरा पड़ा हो या जिस कमरे में बीम लटका हुआ दिखाई देता हो.

–     कई बार ऐसा भी होता है कि कोई युवक या युवती शादी के लिए राजी नहीं होते हैं, तो उनके कमरे की उत्तर दिशा की ओर क्रिस्टल बॉल कांच की प्लेट में रखें.

–     जिन विवाह योग्य युवक-युवतियों की शादी नहीं हो रही हो, उनके कमरे, बेडरूम व दरवाज़े का रंग गुलाबी, हल्का पीला या ब्राइट व्हाइट रंग का होना चाहिए. इससे स्थितियों में बदलाव आएगा.

यह भी पढ़ें: न्यूली मैरिड के लिए मॉडर्न ज़माने के सात वचन (7 Modern Wedding Vows For Newly Married)

 

Marriage Problems

–     इसके अलावा उन्हें अपने कमरे में पूर्वोत्तर दिशा में वॉटर फाउंटेन रखना चाहिए.

–     कुंआरी कन्याएं शीघ्र विवाह के लिए गुरुवार का व्रत करें. साथ ही केले के पेड़ के नीचे बैठकर बृहस्पति मंत्र के पाठ की एक माला का जाप करें.

–     यदि कुंडली में प्रथम, चतुर्थ, सप्तम, द्वादश स्थान में मंगल स्थित है, तो जातक को मंगली योग होता है. इस योग के होने से शादी में देरी, शादी के बाद कपल्स में मतभेद, वाद-विवाद आदि समस्याएं होती हैं.

–    इससे बचने के लिए मंगली युवक या युवती मंगलवार का व्रत करें.

–     मंगल मंत्र का जाप करें और घट विवाह करें.

–     सप्तम में शनि स्थित होने से भी शादी-ब्याह में परेशानियां आती हैं.

–     इसके लिए ‘शं शनैश्‍चराय नम:’ मंत्र का जाप करें.

–     साथ ही शमी की लकड़ी, घी, शहद व मिश्री से हवन करें. अजब-ग़ज़ब टोटके

–     योग्य दूल्हे की प्राप्ति के लिए बालकांड का पाठ करना श्रेयस्कर होता है.

–     जब बेटी के पिता लड़केवालों से शादी की बात करने जाएं, तो बेटी बाल खुले रखे, तब तक जब तक पिता लौटकर घर न आ जाएं.

–     जो माता-पिता यह सोचते हैं कि उनकी बहू सुंदर व बुद्धिमान हो, तो वे गुरुवार व रविवार को बेटे के नाख़ून काटकर किचन में चूल्हे पर जला दें.

–     बेटी की शादी हो जाने के बाद विदाई के समय एक लोटे में गंगाजल, थोड़ी-सी हल्दी और एक सिक्का डालकर बेटी के सिर के ऊपर से सात बार घुमाकर उसके आगे फेंक दें. उसका वैवाहिक जीवन सुखी रहेगा.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ें: शादी है जन्मों का साथ, क्यों आउटडेटेड लगने लगी है ये बात? (Why Concept Of Timeless Marriage Is Getting Outdated?)