इस एेक्ट्रेस ने भंसाली को लगाई लताड़, ख़ुद हुईं ट्रोल ( Padmaavat: Swara Bhasker open letter to Sanjay Leela Bhansali)

पद्मावत को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. वैसे फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर अच्छा रिस्पॉंस मिल रहा है. फिल्म की खूब तारीफें भी हो रही हैं. फिल्म के स्टारकास्ट, रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण और शाहिद कपूर के काम की सराहना की जा रही है, लेकिन हाल ही में एेक्ट्रेस स्वरा भास्कर को फिल्म देखने के बाद कुछ ऐसा लगा कि उन्होंने तुरंत ही संजय लीला भंसाली को ओपन लेटर लिख दिया. दरअसल संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत के कंटेंट पर स्वरा भास्कर ने आपत्त‍ि जताई है. उन्होंने भंसाली को ओपन लेटर लिखकर फिल्म में दिखाए गए जौहर सीन को महिमामंडित करने की बात कही है. स्वरा ने ट्वीट करते हुए द वायर में प्रकाशित अपने ओपन लेटर को पोस्ट किया है.

Swara Bhasker, open letter, Sanjay Leela Bhansali

बता दें कि स्वरा ने अपने ओपन लेटर की शुरुआत ‘At The End of Your Magnum Opus… I Felt Reduced to a Vagina – Only’ हेडिंग से करते हुए की है. स्वरा ने लिखा है कि इस फिल्म के जरिए भंसाली जी ने सती और जौहर प्रथा का महिमामंडन किया है. स्वरा फिल्म के जरिए स्त्रियों की पेश हुई छवि से बहुत नाराज हैं. ओपन लेटर की शुरुआत में तो स्वरा भास्कर ने भंसाली की और से फिल्म में काम करने वाले स्टार्स की तारीफ की. आगे उन्होंने लिखा कि महिलाओं को ‘वजाइना’ के तौर पर सीमित कर दिया है. फिल्म के आखिर में रानी पद्मावती द्वारा इज्जत की रक्षा के लिए खुद को जला देने के दृश्य पर वह लिखती हैं, ‘सर, महिलाओं को रेप का शिकार होने के अलावा जिंदा रहने का भी हक है.’

पुरुष का मतलब आप जो भी समझते हो-पति, रक्षक, मालिक, महिलाओं की सेक्शुअलिटी तय करने वाले, उनकी मौत के बावजूद महिलाओं को जीवित रहने का हक है.’ स्वरा आगे और भी तल्ख रुख अपनाते हुए कहती हैं, ‘महिलाएं चलती-फिरती वजाइना नहीं हैं. हां महिलाओं के पास यह अंग होता है लेकिन उनके पास और भी बहुत कुछ है. इसलिए लोगों की पूरी जिंदगी वजाइना पर केंद्रित, इस पर नियंत्रण करते हुए, इसकी हिफाजत करते हुए, इसकी पवित्रता बरकरार रखते हुए नहीं बीतनी चाहिए.’

इसके बाद स्वरा की इस आपत्त‍ि को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग होनी शुरू हो गई. एक यूजर ने लिखा, भंसाली की जान ले लो, पहले अनपढ़ पीछे पड़े थे, अब अनपढ़ पीछे पड़े हैं.

एक अन्य यूजर ने लिखा है कि सती होने और जौहर होने में काफी अंतर है. एक यूजर ने लिखा है स्वरा को तीन तलाक और हलाला पर लिखना चाहिए, न कि उस प्रथा पर जो सात सौ साल पहले चलती थी. एक यूजर ने कहा कि यदि कोई गुलामी पर फिल्म बनाता है तो ऐसा नहीं है कि गुलामी का मंहिमामंडन किया जा रहा है. एक यूजर ने लिखा है कि आपने भी रांझणा में स्टॉकिंग को ग्लोरिफाई किया है.

ये भी पढ़ेंः ट्विंकल खन्ना- मैं पीरियड्स के दाग़ देख दौड़ पड़ी… 

[amazon_link asins=’B0792T6PFP,B078JPPNZ1,B0779G7ZV7,B078YCGY51′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’8d13ac38-04d2-11e8-a4fe-f9fd229bf71e’]