पहला अफेयर: ख़ूबसूरत फरेब (Pahla Affair: Khoobsurat Fareb)

पहला अफेयर: ख़ूबसूरत फरेब (Pahla Affair: Khoobsurat Fareb) घर में आर्थिक तंगी से मेरी पढ़ाई छूट गई थी. बस, गुज़र-बसर हो रही थी किसी तरह. तभी मकान का आधा हिस्सा एक सरकारी ऑफिस को किराए पर दिया, तो आमदनी का कुछ ठोस ज़रिया हो गया. फिर एक दिन एक आकर्षक युवक को जीप से उतरते देखा, तो बस देखती ही रह गई. पता चला, ये साहब हैं, आलोक नाम है. कोई काम तो था नहीं, उधर ताक-झांककर मन बहला लेती, पकड़ी जाती, तो मैं झेंप जाती और वो मुस्कुरा देते. बीस दिन बीते होंगे, मैं अचानक बहुत बीमार हो गई. डॉक्टर ने तुरंत ज़िला अस्पताल ले जाने को कहा. आस-पड़ोस के तमाम हितैषी जमा थे, पर सर्द आधी रात, सभी तरह-तरह की सलाहें देकर बहाने बनाने लगे. अम्मा हताश-निराश होकर रोने लगीं, तभी उधर से पूछा गया, “मांजी, क्या बात हो गई?” नीम बेहोशी में आगे नहीं जान सकी मैं कि क्या और कैसे हुआ. सुबह आंख खुली, तो ख़ुद को अस्पताल में पाया. साहब थके-थके-से सामने बैठे थे. लगा कि रातभर सोये नहीं थे. उन्होंने पूछा, “अब कैसी हो?” मैंने कहा, “हां, अब आराम है. मेरे कारण आपको बहुत कष्ट हुआ.” वे बोले, “क्यों? रात अगर मुझे कुछ हो जाता, तो क्या तुम मेरी मदद नहीं करतीं?” यह सुनकर अच्छा लगा था. तीन दिन बाद अपना सहारा देकर उन्होंने जीप से घर उतारा तो उन्हीं पड़ोस के हितैषी जनों में चर्चा का आधार भी बन गई. यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: लम्हे तुम्हारी याद के (Pahla Affair: Lamhe Teri Yaad…

पहला अफेयर: ख़ूबसूरत फरेब (Pahla Affair: Khoobsurat Fareb)

घर में आर्थिक तंगी से मेरी पढ़ाई छूट गई थी. बस, गुज़र-बसर हो रही थी किसी तरह. तभी मकान का आधा हिस्सा एक सरकारी ऑफिस को किराए पर दिया, तो आमदनी का कुछ ठोस ज़रिया हो गया. फिर एक दिन एक आकर्षक युवक को जीप से उतरते देखा, तो बस देखती ही रह गई. पता चला, ये साहब हैं, आलोक नाम है.

कोई काम तो था नहीं, उधर ताक-झांककर मन बहला लेती, पकड़ी जाती, तो मैं झेंप जाती और वो मुस्कुरा देते. बीस दिन बीते होंगे, मैं अचानक बहुत बीमार हो गई. डॉक्टर ने तुरंत ज़िला अस्पताल ले जाने को कहा.

आस-पड़ोस के तमाम हितैषी जमा थे, पर सर्द आधी रात, सभी तरह-तरह की सलाहें देकर बहाने बनाने लगे. अम्मा हताश-निराश होकर रोने लगीं, तभी उधर से पूछा गया, “मांजी, क्या बात हो गई?” नीम बेहोशी में आगे नहीं जान सकी मैं कि क्या और कैसे हुआ. सुबह आंख खुली, तो ख़ुद को अस्पताल में पाया. साहब थके-थके-से सामने बैठे थे. लगा कि रातभर सोये नहीं थे.

उन्होंने पूछा, “अब कैसी हो?” मैंने कहा, “हां, अब आराम है. मेरे कारण आपको बहुत कष्ट हुआ.” वे बोले, “क्यों? रात अगर मुझे कुछ हो जाता, तो क्या तुम मेरी मदद नहीं करतीं?” यह सुनकर अच्छा लगा था. तीन दिन बाद अपना सहारा देकर उन्होंने जीप से घर उतारा तो उन्हीं पड़ोस के हितैषी जनों में चर्चा का आधार भी बन गई.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: लम्हे तुम्हारी याद के (Pahla Affair: Lamhe Teri Yaad Ke)

पड़ोस में रहते हुए उन्हें मेरे घर में दो वर्ष के भीतर घटित विपदा व दीनदशा की सारी जानकारी हो चुकी थी. अब कभी-कभी आंगन के बीच की दीवार पर कुछ देर बातें भी होने लगीं, जिससे मेरी ताका-झांकी तो बंद हो गई, लेकिन रातों की नींद और चैन गायब हो गया था. और जब एक दिन मुझे बुलाकर मेरा इंटरमीडिएट का फॉर्म भरवा दिया, पढ़ाई शुरू कराई, तो मैं शीशे में बार-बार ख़ुद को निहारती कुंआरे सपनों को संवारती रहती. इंटर पास हो गई, तो उसी ऑफिस में नौकरी भी मिल गई. मेरा बीए का फॉर्म भी भराया गया. अब मकान के किराए व मेरे वेतन से घर को बहुत सहारा हो गया. पुराने घाव भर से गए.

नज़दीकियां प्यार को जन्म देती हैं. ऑफिस में काम बताते, डिक्टेशन देते हुए उनकी आंखों की तरलता में अपने लिए जिज्ञासा देखती और वो अपने पद की मर्यादा व गरिमा से बंधे मेरा मन टटोला करते. मैं हिम्मत करके कुछ कहना चाहती, किंतु कस्बई संकीर्ण संस्कार घर की पुरानी चौखट लांघ ही न पाते.

नानी का निधन हो गया. सुबह छुट्टी मांगने उधर गई, तो मेरे दोनों हाथ पकड़कर पूछा, “कुछ और नहीं कहोगी?” दरिद्रता कृपण भी तो होती है. मैं ठूंठ-सी खड़ी रही, न एतराज़ कर पाई और न उस अनुपम प्यार का प्रतिदान कर अपना व उनका असमंजस ही मिटा पाई. लौटकर आई, तो बड़े बाबू ने एक पत्र देकर बताया, “साहब को दो वर्ष की ट्रेनिंग पर विदेश भेजा गया है.”

पत्र पढ़ा- ‘आरती, इतने दिन साथ रहे. अच्छा लगा. कभी-कभी सफ़र में कुछ ऐसा छूट जाता है, जिसकी भरपाई नहीं हो पाती और वो तुम हो आरती. याद है, अस्पताल से आते ही तुमने कहा था कि अगर रात आप न होते, तो मरी कहानी ख़त्म ही थी. उस कहानी को मैंने आगे बढ़ाना चाहा, पर तुम्हारा अंतर्मन पढ़ न पाया. हो सकता है, तुम्हारे मन में वैसा कुछ न रहा हो, जैसा मैं सोचता रहा. तभी तो जाते समय तुमने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी. तुमसे मिल न सका, नौकरी की मजबूरी जानती हो. तुम्हें दुख तो होगा और मुझे तुम्हारी याद आया करेगी. पथराई आंखों से पत्र पकड़े संज्ञा-शून्य-सी बैठी रह गई थी.

कैसा दुख? ग़रीब को तो दुख की आदत होती है. सुख कभी आता भी है, तो अधिक देर ठहरता नहीं. मैं तो स्त्री थी. उपकारों के बोझ से दबी. वे तो पुरुष थे. सबल व समर्थ भी. मेरी दीनदशा से मर्माहत हो मुझसे कौन-सा रिश्ता बनाए रहे, तो जता न सके? तब भी नहीं, जब हमारे प्यार की चर्चा कस्बे में फैली. तब भी इतना ही बोले, “आरती हवन करते हाथ भले ही न जलें, आंच तो आती ही है.” फिर न कोई वादा, न सांत्वना. अपने फर्ज़ से वो तो ़फुर्सत पा गए और मैं ख़ूबसूरत फरेब का ताना-बाना बुनती रह गई.

– आरती सिंह

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: हरसिंगार के फूल (Pahla Affair: Harsingar Ke Phool)

Recent Posts

एंटी एजिंग होम रेमेडीज़ (Anti Aging Home Remedies)

विटामिन सी स्किन के कोलाजन के निर्माण में मदद करता है. विटामिन सी युक्त फल सब्ज़ियों का सेवन करें औरस्किन पर भी अप्लाई करें.नींबू में विटामिन सी होता है, नींबू काटकर सीधे स्किन पर अप्लाई करें या गुलबजल में मिलाकर अप्लाई करें.एलोवीरा पल्प लगायें, यह एंटीबैक्टीरीयल है और इसमें हीलिंग प्रॉपर्टीज़ हैं. शोध बताते हैं कि एलोवीरा स्किन कोहाइड्रेट करता है, कोलाजन बढ़ाकर लचीलापन बढ़ाता है और रिंकल्स को कम करता है.ऑलिव ऑयल से मसाज करें क्योंकि रीसर्च बताते हैं कि यह स्किन को झुर्रियों से बचाता है.दही के सेवन से स्किन स्वस्थ रहती है और यह स्किन को रिंकल्स से भी बचाता है.अंडे का सफ़ेद भाग स्किन को हेल्दी ग्लो देता है और त्वचा में कसावट बनाए रखता है. इसका मास्क स्किन परअप्लाई करें.योग और एक्सरसाइज़ स्किन के लचीलेपन को बढ़ाते हैं. नियमित रूप से फ़ेस योग व एक्सरसाइज़ करें.केला कोलाजन को बढ़ाता है और एजिंग प्रॉसेस को धीमा करता है. केले को आप खायें भी और उसे मास्क के तौरपर भी अप्लाई करें. केले को मैश करके शहद मिलायें और इस मास्क को अप्लाई करें. सूखने पर गुनगुने पानी से धोलें.ऐवोकैडो को अपने डायट में शामिल करें. इसमें मौजूद विटामिन ए, डी और ई स्किन की नमी को बरक़रार रखते हैंऔर एजिंग प्रॉसेस को रोकते हैं.ककड़ी यानी कुकुंबर में शहद मिलाकर मास्क तैयार करके अप्लाई करें. ककड़ी में मैग्नीसीयम, पोटैशियम, विटामिन ए और ई होते हैं. इसमें हीलिंग प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह रक्त संचार को बढ़ाकर झुर्रियाँ कम करने में मददगारहै.शहद में नींबू के रस की कुछ बूँदें मिलाकर मास्क बनायें और २० मिनट के लिए लगायें. यह स्किन में कसाव लाता है.स्ट्रॉबेरीज़ विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट का बेहतरीन स्रोत है. ३-४ स्ट्रॉबेरीज़ को मैश करके फ़ेस पर पेस्ट कोअप्लाई करें. १५-२० मिनट बाद धो लें.पपीता एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है और इसमें मौजूद एंज़ायम पैपेन त्वचा से डेड सेल्स को हटाता है. पपीता केकुछ टुकड़ों को मैश करके पेस्ट तैयार करें और चेहरे पर अप्लाई करें. सूखने पर धो लें.पाइनऐपल प्रीमैच्योर एजिंग को रोकने में कारगर है. इसका पेस्ट चेहरे पर अप्लाई करें और १५-२० मिनट बाद धोलें.गुलबजल में नींबू के रस की कुछ बूँदें और ग्लिसरिन मिला लें और इसको सोने से पहले चेहरे पर अप्लाई करें. सुबहधो लें.

अजय देवगन को मुंबई पुलिस ने क्यों कहा डियर सिंघम… वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई! (Mumbai Police Has Responded To Ajay Devgan In Singham Style)

देश ही नहीं दुनिया के हालात हम सभी देख रहे हैं लेकिन इन सबके बीच प्रशासन, डाक्टर्स और पुलिस जिस तरह अपनाफ़र्ज़ अदा कर रही है वो क़ाबिले तारीफ़ है.  पुलिस को कई जगह लोगों के रोष का भी सामना करना पड़ रहा है बावजूद इसके वो लोगों की मदद कर रही है और उन्हेंजागरूक भी करने का काम कर रही है. दरअसल मुंबई पुलिस ने एक विडीओ ट्विटर पर शेयर किया जिसमें लोगों से पूछा जा रहा है कि क्या लोग लॉक डाउन केदौरान घर में बोर हो गए हैं? अगर लोग बोर हो गए तो उन पुलिस वालों की बात करें जो अपना काम बिना थके बिना रुकेकर रहे हैं. अगर इन्हें लॉकडाउन में २१ दिनों के लिए घरों में क़ैद कर दिया जाए तो वो क्या करेंगे? इसपर अधिकतर पुलिस वालों ने कहा कि वो अपने परिवार के साथ aur बच्चों के साथ समय बिताएँगे क्योंकि उनके कामके चलते उन्हें यह अवसर ना के बराबर मिलता है. किसी ने कहा वो बुक्स पढ़ेंगे, मूवी देखेंगे और बच्चों के साथ खेलेंगे.  ऐक्टर अजय देवगन को यह विडीओ बेहद पसंद आया और उन्होंने इसको शेयर किया और पुलिस की तारीफ़ की. मुंबई पुलिस ने जब यह देखा तो उन्होंने भी अजय देवगन का शुक्रिया अदा किया और कहा- डियर सिंघम, हम वही कर रहेहैं जो ख़ाकी से करने की उम्मीद की जाती है, ताकि चीज़ें और हालात पहले जैसे हो सकें- वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई.  इस ट्वीट ने इंटरनेट पर काफ़ी वाहवही बटोरी. इसी तरह सुनील शेट्टी ने भी मुंबई पुलिस की तारीफ़ की थी जिस पर मुंबई पुलिस ने कहा दिल की हर धड़कन इस शहरके लिए, इसके बाद अक्षय कुमार से लेकर आयुषमान खुराना और कई अन्य ऐक्टर्स ने भी मुंबई पुलिस के इस विडीओ को सराहा. https://twitter.com/mumbaipolice/status/1247719169748905984?s=21 https://twitter.com/mumbaipolice/status/1247844108368035841?s=21

अभिषेक-श्वेता मां जया बच्चन को जन्मदिन की बधाई देते हुए बेहद भावुक हो गए… (Abhishek-Shweta Became Very Emotional While Congratulating Mother Jaya Bachchan On Her Birthday…) 

आज जया बच्चन का जन्मदिन है. उनके दोनों बच्चों ने अभिषेक बच्चन और श्वेता बच्चन…

© Merisaheli