पहला अफेयर: तुम्हारा जाना… (Pahla Affair: Tumhara Jana)

 

पहला अफेयर: तुम्हारा जाना... (Pahla Affair: Tumhara Jana)

पहला अफेयर: तुम्हारा जाना… (Pahla Affair: Tumhara Jana)

ट्रेन जिस तेज़ी से भाग रही थी, उससे भी ज़्यादा तेज़ी से मन अतीत की ओर दौड़ा जा रहा था. दूर-दूर तक दिखते अलसाए से मैदान और उदासीन खड़े पहाड़ एक अजीब-सा खालीपन पैदा कर रहे थे. रह-रहकर आंखों के कोनों में गीलेपन का एहसास हो रहा था. दिल किसी अपने के कंधे पर सिर रखकर अंदर के गुबार को आंखों के रास्ते बाहर निकाल देना चाहता था. पर नीला, तुम्हारे ये शब्द मुझे रोकने की कोशिश कर रहे थे कि  “लड़के रोते हुए अच्छे नहीं लगते, रोने का काम तो हम लड़कियों का है, सो हमें ही रोने दिया करो.”

इस शहर से जब अजनबीयत का ही रिश्ता था, तब एक अलसाई-सी दोपहर, बस से जाते हुए सड़क के किनारे खड़े देखा था तुम्हें. उस गर्म दोपहर में भी सुबह की ओस जैसी ताज़गी तुम्हारे चेहरे पर खिली हुई थी. इससे पहले कि मैं उस शीतलता को अनुभव कर पाता, बस आगे बढ़ गई थी. लाल बत्ती पर जैसे ही बस रुकी, बिजली-सी फुर्ती से ख़ुद को नीचे खड़ा पाया. आज भी यह सोचकर हैरानी होती है कि मुझ में कहां से इतना साहस आ गया था उस समय. पहली बार मिलने पर भी अजनबीपन को हमारे बीच की दीवार बनने का मौक़ा नहीं मिला. वर्षों पुरानी पहचान के ये संकेत तुम्हें भी मिले थे उस दिन.

तुम्हारी गहरी आंखों में अक्सर नीले आसमान-सा सूनापन दिखता था तो कभी नीली झील-सी गहरी ख़ामोशी, जिसका अनुमान लगाना मुश्किल होता था. शायद इसी वजह से मैंने तुम्हें नाम दिया था “नीला.”

गरजती हुई ट्रेन अचानक एक सुरंग में प्रवेश कर गई. घुप्प अंधेरा आंखों के आगे छा गया. पहाड़ी से उतरते हुए उस दिन शायद ऐसा ही अंधेरा तुम्हारी आंखों में भी छाया था. कुछ क्षणों के लिए चेतनाशून्य हो गई थी तुम. चेहरा एकदम पीला पड़ गया था तुम्हारा. थोड़ा ठीक होने पर सिरदर्द का बहाना बनाकर टाल गई थी. उस दिन के बाद तुम्हारे चेहरे के भावों को पढ़ना मुश्किल लगने लगा था. जिस घर की एक-एक चीज़ को तुमने अपने हाथों से संवारा था, अचानक ही उसे मेरे नाम करने की घोषणा कर दी थी तुमने. तब भी तुम्हारी आंखों की भाषा को पढ़ने की बिल्कुल भी कोशिश नहीं की मैंने उस दिन.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: मुहब्बत पर यक़ीन है मुझे

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: ख़ामोश मुहब्बत… 

कुछ दिन बाद मुझे दूसरे शहर से पेंटिंग्स की शृंखला तैयार करने का प्रस्ताव मिला. शायद ये तुम्हारी ही कोशिशों का परिणाम था. अपना वास्ता देकर तुमने मुझे वहां भेजा था. छह महीने लग गए थे काम पूरा करने में. सभी ने मेरे काम की ख़ूब सराहना की.

वापस लौटने पर पता चला कि तुम इस शहर से जा चुकी हो. कोई निशान भी बाकी नहीं छोड़े थे तुमने, सारी कोशिशें बेकार गईं तुम्हें ढूंढ़ने की. मन में शायद उम्मीद की किरण बाकी थी, सो महीनों तक भटकने के बाद फिर वापस मैं इसी शहर में आया और अचानक ही तुम्हारी बहन से मुलाक़ात हुई. उन्होंने जो बताया, उसे सुनकर होश उड़ गए थे मेरे. तुम इस शहर को तो क्या, दुनिया को भी अलविदा कह चुकी थी. बहाना ब्रेन ट्यूमर. मेरी भावुकता को तुम जानती थी. इसलिए अपने दर्द में बिल्कुल भी शामिल नहीं किया था तुमने. ऐसा लग रहा था पिघलता हुआ शीशा किसी ने मेरे कानों में उड़ेल दिया होे. शहर खाली कैनवास की तरह लग रहा था-बिल्कुल सूना. आज हमेशा के लिए छोड़ आया हूं मैं इस शहर को.

नीला प्लीज़, आज बिल्कुल भी मत रोकना, मन में घुमड़ते इस सैलाब को बहने से, वरना नासूर बनकर सारे शरीर से रिसने लगेगा. ट्रेन के टॉयलेट में बच्चे की तरह फूट-फूटकर रो रहा हूं मैं और सचमुच रोते हुए बहुत बुरा लग रहा हूं मैं.

– ब्रजेश नामदेव