अमिताभ के लिए आसान नहीं होग...

अमिताभ के लिए आसान नहीं होगा कोरोना को हराना, पहले ही हैं कई हेल्थ कंप्लीकेशन्स (With So Many Health Issues, Fighting Corona Will Not Be Very Easy for Amitabh)

जब से बिग बी अमिताभ बच्चन के कोरोना से संक्रमित होने की न्यूज़ आई है, आम से खास तक, हर फील्ड के सेलेब्स से लेकर उनके फैंस तक- लाखों लोग उनकी सलामती के लिए दुआ कर रहे हैं और बिग बी ने ये कहकर सबका आभार व्यक्त किया है कि दुआओं में ज़्यादा असर होता है. फिलहाल बिग बी और अभिषेक बच्चन दोनों मुम्बई के नानावटी हॉस्पिटल में एडमिट हैं, जहां दोनों का इलाज चल रहा है. दोनों की हालत स्थिर बताई जा रही है.

अमिताभ को ठीक होने में लग सकता है समय

amitabh bachchan


हालांकि अमिताभ और अभिषेक दोनों में कोरोना के माइल्ड सिम्पटम्स ही नज़र आ रहे हैं, लेकिन अमिताभ बच्चन की तबीयत पर खास नज़र रखी जा रही है. इसकी वजह है उनकी उम्र. वो 78 साल के हैं और दूसरा उन्हें पहले से ही कई सीरियस हेल्थ कंप्लीकेशन्स हैं. और बार बार कहा जा रहा है कि कोरोना 60 से अधिक उम्र के लोगों के लिए ज़्यादा कंप्लीकेशन्स पैदा कर रहा है, और उन लोगों के लिए ज़्यादा घातक साबित हो सकता है, जिन्हें पहले ही हेल्थ प्रॉबलम्स हों. हॉस्पिटल के एक डॉक्टर ने भी बताया कि अमिताभ के लिए कोरोना से लड़ना बहुत आसान नहीं होगा. डॉक्टर ने बताया, ‘हालांकि उनकी हालत स्थिर है, लेकिन उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही है. उनकी उम्र और ट्यूबरक्यूलोसिस समेत पिछली बीमारियों को देखते हुए उनकी हालत में सुधार आने में समय लग सकता है.’


अमिताभ बच्चन को पहले से ही हैं कई हेल्थ प्रॉब्लम्स

amitabh bachchan


बिग बी का 75% लिवर काम नहीं करता. उनकी आंतें भी कमजोर हैं. इस वजह से कई बार उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट होना पड़ता है और बार बार अपना हेल्थ चेकअप कराना पड़ता है. ऐसे में कोरोना को हराना उनके लिए बहुत आसान नहीं होगा. आइए जानते हैं कि अमिताभ को क्या हेल्थ कंप्लीकेशन्स हैं और उसकी वजह क्या है.

25 प्रतिशत लिवर के सहारे जिंदा हैं बिग बी
आपको जानकर हैरानी होगी कि बिग बी सिर्फ 25 प्रतिशत लिवर के सहारे जिंदा हैं. हेपेटाइटिस इंफेक्शन के कारण उनका 75 प्रतिशत लिवर खराब हो चुका है.

मायस्थेनिया ग्रेविस से लड़ चुके बिग बी
इतना ही नहीं इसके बाद उन्हें मांसपेशियों से संबंधी एक बीमारी माएस्थेनिया ग्रेविस भी हो गई थी. इस बीमारी में मांसपेशियों का नर्वस सिस्टम से कनेक्शन टूट जाता है. ‘कुली’ के दौरान हुई दुर्घटना के बाद दवाईयों के भारी डोज लेने की वजह से उन्हें ये बीमारी हुई. इसकी वजह से वह मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर हो गए. वह डिप्रेशन में चले गए थे.

amitabh bachchan


अस्थमा की भी है शिकायत

amitabh bachchan

बिग बी को अस्थमा भी है. अस्थमा फेफड़ों से जुड़ी बीमारी है। इसमें बॉडी के एयरवेज नैरो हो जाते हैं और ऑक्सीजन सही मात्रा में फेफड़ों तक नहीं पहुंच पाती.

आंतें भी हैं कमजोर
कुछ साल पहले उनकी एबडोमिनल सर्जरी भी हुई थी. साल 2005 में उनके पेट में तेज दर्द हुआ. पहले लगा कि ये गेस्ट्रो संबंधी समस्या है, लेकिन चेकअप में सामने आया कि उन्हें इंटेस्टाइन संबंधी समस्या है. डाइवर्टिक्युलाइटिस ऑफ स्मॉल इंटेस्टाइन नाम की इस बीमारी को ठीक करने के लिए अमिताभ ने सर्जरी करवानी पड़ी थी. डॉक्टरों का कहना था कि अगर इस समस्या का समय रहते उपाय न किया गया होता, तो ये घातक साबित हो सकता था. इस बीमारी में छोटी और बड़ी आंत कमजोर हो जाती है और उसमें सूजन आ जाती है.

लिवर सिरोसिस भी है
कुछ समय पहले अमिताभ बच्चन ने ये भी खुलासा किया था कि उन्हें लिवर सिरोसिस की समस्या भी है, जबकि वह शराब का सेवन नहीं करते. इस बीमारी के चलते 2012 में उनके लिवर का 75 फीसदी संक्रमित हिस्सा काटकर अलग कर दिया गया था. अब बिग-बी 25 फीसदी लिवर के साथ जी रहे हैं. इसके बाद से ही उनके लिवर का फंक्शन कमजोर हो गया. उस एक एक्सीडेंट ने उनके पेट के इंटरनल पोर्शन को इतना नुकसान पहुंचाया कि अभी तक उसके साइड इफेक्ट सामने आते रहते हैं.

टीबी से जंग लड़ चुके हैं अमिताभ
साल 2000 में उन्हें टीबी डिटेक्ट हुआ था. हालांकि उन्होंने समय रहते दवा ली और एकदम ठीक हो गए.


कुली की शूटिंग में एक्सीडेंट है इन हेल्थ प्रॉब्लम्स की वजह

amitabh bachchan


बिग बी की हेल्थ प्रॉब्लम्स का ये सिलसिला शुरू हुआ था 1982 में फिल्म ‘कुली’ की शूटिंग के दौरान हुए एक्सीडेंट के बाद, जब फिल्म की शूटिंग करते वक्त अमिताभ को चोट लग गई थी. इसमें उनका काफी खून बह गया था. स्थिति ऐसी थी कि डॉक्टरों ने उन्हें क्लीनिकली डेड घोषित कर दिया गया था. बताया जाता है कि काफी खून बह जाने के कारण एक्सीडेंट के बाद उन्हें 200 डोनर्स के जरिये 60 बोतल खून चढ़ाया गया था. इससे वह तब के खतरे से बाहर आ गए, मगर उसी दौरान एक और बीमारी ने उन्हें घेर लिया था, जिसका पता 18 साल बाद लगा. दरअसल एक्सीडेंट के दौरान उन्हें जिन डोनर्स का खून चढ़ाय़ा गया था, उनमें से एक को हेपेटाइटिस बी था. उसी के जरिये ये उनके शरीर में प्रवेश कर गया था. सन् 2000 तक वे ठीक रहे, मगर उसके बाद एक सामान्य मेडिकल चेकअप में सामने आया कि कि उनका लिवर इंफेक्टिड है. इसके बाद से ही लगातार उन्हें कई हेल्थ कंप्लीकेशन्स से गुजरना पड़ा.

बता दें कि बिग बी अक्सर अपने ब्लॉग और ट्विटर के जरिये अपनी हेल्थ अपडेट फैंस के साथ शेयर करते रहते हैं. फिर शायद फैंस की दुआएं और उनका जुनून है कि वह आज इतनी बीमारियों का सामना करने के बाद भी एक्टिव हैं और दिन भर जमकर काम करते हैं.

कोरोना की जंग भी जीत लेंगे, लोगों को है विश्वास

amitabh bachchan


एंग्री यंग मैन से लेकर शहंशाह, बिग बी और महानायक बनने तक अमिताभ बच्चन के लगभग 50 साल के करियर में कई बार उनकी हेल्थ ने उनका साथ छोड़ा है. कई बार ऐसा हुआ है जब अमिताभ अस्पताल में गम्भीर स्थिति में भर्ती हुए और दुनिया भर से फैंस ने उनकी जिंदगी के लिए दुआएं कीं और वो ज़िंदगी की जंग जीतकर फिर अपने फैंस के बीच आए. आज फिर उनके कोरोना संक्रमित होने पर देश ही नहीं, विदेश में भी लोग उनके शीघ्र स्वस्थ होने के लिए प्रार्थना कर रहे हैं, कई जगहों पर तो उनकी सलामती के लिए पूजा पाठ, हवन यज्ञ भी किए जा रहे हैं. ऐसे में सब लोगों को पूरा विश्वास है कि लोगों की दुआओं और बिग बी के जीतने के जज़्बे की फिर जीत होगी और वो जल्द ही स्वस्थ होकर सबके बीच फिर लौटेंगे.