पुरुषों को बांझ बना सकती हैं ये 10 आदतें (10 Habits Responsible For Male Infertility)

बदलते लाइफस्टाइल के चलते अधिकांश पुरुषों (Men) में मोटापा, डायबिटीज़, हार्ट डिसीज़, कैंसर और बांझपन (Infertility) जैसे कई गंभीर रोगों का ख़तरा तेज़ी से बढ़ रहा है. यह आधुनिक लाइफस्टाइल की ही देन है कि कई पुरुष फैमिली प्लानिंग करने के बावजूद अपनी महिला पार्टनर को गर्भधारण करा पाने में असफल हो जाते हैं. पुरुषों में इस स्थिति को बांझपन की समस्या (Infertility Problem) से जोड़कर देखा जाता है. ऐसे में डॉक्टरी सलाह, दवाइयां और तमाम तरह के प्रयास भी विफल हो जाते हैं. दरअसल, पुरुषों के डेली रूटीन में कई ऐसी आदतें शामिल हैं जो उनके स्पर्म काउंट को तेज़ी से कम कर रही हैं और इसका नकारात्मक असर उनके वैवाहिक जीवन पर पड़ रहा है. चलिए जानते हैं पुरुषों के डेली रूटीन की ऐसी ही 10 आदतें, जो उन्हें बांझपन का शिकार बना सकती हैं.

Male Infertility
क्या है कारण?
जब सेक्स के दौरान स्खलित होने पर पुरुषों के स्पर्म कम संख्या में निकलते हैं और वे कमज़ोर होते हैं, तो ऐसी स्थिति में महिला को गर्भधारण करने में काफ़ी दिक्कत होती है. इसके अलावा पुरुषों में बांझपन जैसी समस्या के लिए ख़राब जीवनशैली, बीमारी, चोट, हार्मोनल इम्बैलेंस, गंभीर स्वास्थ्य समस्या इत्यादि ज़िम्मेदार हो सकते हैं.

1- अल्कोहल
अल्कोहल अपने आप में एक टॉक्सिन है, जो ऑक्सिजन फ्री रैडिकल्स का कारण बन सकता है. ये रैडिकल्स आपके स्पर्म को नुक़सान पहुंचा सकते हैं. हालांकि कुछ रिसर्च में यह साबित हुआ है कि संतुलित मात्रा में और कभी-कभी शराब पीने से सेहत को कोई नुक़सान नहीं पहुंचता. जैसे- एक ग्लास रेड वाइन का सेवन स्पर्म और सेहत दोनों के लिए अच्छा माना जाता है. इसके विपरीत अगर आप रोज़ाना 3 पेग से अधिक मात्रा मंें शराब का सेवन करते हैं तो यह आपके स्पर्म और सेहत दोनों के लिए ख़तरे की घंटी है.

Male Infertility

2- स्मोकिंग
अगर आप हर रोज़ ज़रूरत से ज़्यादा सिगरेट पीते हैं तो यह आपकी स्पर्म क्वॉलिटी को नुक़सान पहुंचाकर आपको बांझ बना सकता है. दरअसल, शराब की तरह सिगरेट भी शरीर में कार्बन मोनोआक्साइड जैसे टॉक्सिन को रिलीज़ करता है, जो शुक्राणुओं को डैमेज कर सकता है. स्मोकिंग से पुरुषों के जननांगों के आस-पास रक्त का संचार बाधित होता है, जिससे टेस्टिकल्स यानी अंडाशय में शुक्राणुओ के उत्पादन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

3- स्टेरॉइड
जो लोग बॉडी बनाने के लिए स्टेरॉइड या किसी वर्कआउट सप्लीमेंट का सेवन करते हैं तो इससे उनके स्पर्म की गुणवत्ता घट सकती है. दरअसल, स्टेरॉइड के सेवन से पुरुषों के शरीर में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन का उत्पादन बाधित होता है और शरीर में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की कमी शुक्राणुओं की गुणवत्ता को कम कर सकती है. अगर आप भी स्टेरॉइड या किसी अन्य सप्लीमेंट का सेवन करते हैं तो सावधान हो जाएं, क्योंकि ये आपको बांझपन का शिकार बना सकते हैं.

ये भी पढ़ेंः न छुपाएं गुप्तरोगों के ये 5 लक्षण ( 5 Signs That Men Should See A Urologist)

4- सोया प्रोडक्ट या प्रोसेस्ड मीट
ऑक्सफोर्ड जरनल में प्रकाशिक एक रिपोर्ट के अनुसार, सोया प्रोडक्ट या प्रोसेस्ड मीट का अत्यधिक सेवन पुरुषों की यौन क्षमता को प्रभावित कर सकता है. इस रिपोर्ट के मुताबिक़, जो पुरुष हर रोज़ तीन महीने तक सोया प्रोडक्ट्स और प्रोसेस्ड मीट का सेवन करते हैं, उनमें दूसरे पुरुषों के मुक़ाबले स्पर्म काउंट तेज़ी से कम होने लगता है. इसलिए अगर आप भी इन चीज़ों का अत्यधिक मात्रा में सेवन करते हैं तो इनका सेवन कम करने में ही आपकी भलाई है.

5- कार्बोनेटेड ड्रिंक्स
आजकल अधिकांश लोग प्यास बुझाने के लिए पानी पीने की बजाय कार्बनडाई ऑक्साइड से भरे सॉफ्ट ड्रिंक्स को ज़्यादा तवज्जो देते हैं. अगर आप भी हर रोज़ कार्बोनेटेड ड्रिंक्स का सेवन करते हैं तो अपनी इस आदत को आज ही छोड़ दें, क्योंकि ये ड्रिंक्स आपके स्पर्म काउंट को तेज़ी से कम कर सकते हैं. बता दें कि इस तरह के पेय पदार्थों में अधिक मात्रा में कैलोरीज़ होती हैं, जो स्पर्म बनने की कार्यप्रणाली में रुकावट लाती है.

6- लैपटॉप पर काम करना
कई पुरुष घर आने के बाद भी अपनी गोद में लैपटॉप रखकर ऑफिस का काम करने में जुट जाते हैं, लेकिन उनकी यह आदत उनके स्पर्म काउंट को घटाने के लिए ज़िम्मेदार हो सकती है. एक रिपोर्ट के मुताबिक़, टेस्टिकल्स यानी अंडाशय शरीर के तापमान से लगभग दो डिग्री ठंडे रहने चाहिए. ऐसे में अगर आप अपनी गोद में लैपटॉप को रखते हैं तो इसकी गर्म हवा से आपके स्पर्म मर सकते हैं. इसलिए बेहतर यही होगा कि टेबल पर लैपटॉप रखकर आप अपना काम करें.

7- गरम पानी से स्नान
अगर आप हर रोज़ ठंडे पानी से नहाने की बजाय गरम पानी से नहाना पसंद करते हैं तो सावधान हो जाएं, क्योंकि आपकी इस आदत से आपके स्पर्म मर सकते हैं. दरअसल, अधिकांश लोग ऑफिस से घर लौटने के बाद दिनभर की थकान को मिटाने के लिए गरम पानी से स्नान करते हैं, लेकिन उनकी यह आदत उनके शुक्राणुओं के लिए गोद में लैपटॉप रखकर काम करने जितना ही घातक हो सकती है. हालांकि इसका असर धीरे-धीरे दिखाई देता है.

8- नींद की कमी
अगर आप काम के प्रेशर के चलते हर रोज़ 7-8 घंटे से कम सोते हैं तो आपकी यह आदत आपके वैवाहिक जीवन को बुरी तरह से प्रभावित कर सकती है. बता दें कि जिस तरह आपके शरीर और दिमाग़ को आराम की आवश्यकता होती है, ठीक उसी तरह आपके स्पर्म को भी आराम की ज़रूरत होती है. इसलिए हर रोज़ 7-8 घंटे की भरपूर नींद लेने की आदत डाल लें, क्योंकि आपकी यह आदत आपके शरीर में स्पर्म काउंट को बढ़ाने में मदद कर सकती है.

9- अत्यधिक तनाव
तनाव आपकी सेहत के साथ-साथ आपकी सेक्स लाइफ का भी दुश्मन बन सकता है और अत्यधिक तनाव लेने की आपकी आदत आपको बांझपन का शिकार बना सकती है. दरअसल, जब शरीर में तनाव पैदा करने वाले हार्मोन कोर्टिसोल की मात्रा बढ़ जाती है, तो ब्लड प्रेशर बढ़ने के साथ-साथ शरीर में कई बदलाव आने लगते हैं. कुछ अध्ययनों में इस बात का ख़ुलासा हुआ है कि लंबे समय तक अत्यधिक तनाव लेने से ग्लूकोकोर्टिकोइड्स नामक हार्मोन रिलीज़ होता है, जो पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन और शुक्राणुओं की संख्या को घटाने का कारण बन सकता है.

10- टाइट कपड़े
फैशन के हिसाब से आजकल हर कोई टाइट कपड़े ही पहनना पसंद करता है. टाइट कपड़े पहनने से न स़िर्फ आपके प्राइवेट पार्ट्स में जलन और खुजली की परेशानी हो सकती है, बल्कि ऐसे कपड़े आपके स्पर्म के लिए भी घातक साबित हो सकते हैं. टाइट कपड़ों में एक ही जगह पर घंटों बैठे रहने से टेस्टिकल्स यानी अंडाशय के आसपास गर्मी बनी रहती है, जिससे स्पर्म मर जाते हैं. इसलिए बेहतर होगा कि थोड़े ढीले कपड़े पहनें और घंटों तक एक ही जगह बैठने से बचें.

ये भी पढ़ेंः Personal Problems: क्या लो स्पर्म काउंट से मां बन पाऊंगी? (Can I Still Get Pregnant With Low Sperm Count?)