इन 11 संकेतों से जानें कि कहीं आ...

इन 11 संकेतों से जानें कि कहीं आपके शरीर में प्रोटीन की कमी तो नहीं (11 Symptoms Of Protein Deficiency In Body)

जब भी हमारे शरीर में किसी पोषक तत्व की कमी होने लगती है, तो हमारा शरीर किसी न किसी रूप में संकेत देने लगता है. शरीर में सूजन आना, बार-बार बीमार पड़ना, रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमज़ोर होना, थकान महसूस होना आदि. लेकिन भूलकर भी कभी इन लक्षणों को नज़रअंदाज़ न करें. ये संकेत शरीर में प्रोटीन की कमी के भी हो सकते हैं.

अच्छे स्वास्थ्य के लिए हमारे भोजन में प्रोटीन का होना बहुत ज़रूरी है. प्रोटीन शरीर में स्वस्थ त्वचा, मांसपेशियों और हार्मोन के निर्माण के लिए आवश्यक होता है. प्रोटीन की कमी होने पर हमारा शरीर कई बीमारियों से ग्रस्त हो जाता हैं, पर इसके लक्षण पहले से शरीर में दिखाई देने शुरू हो जाते हैं. आइए जानें उन लक्षणों के बारे में.

प्रोटीन की कमी होने पर शरीर में दिखाई देते ये लक्षण
1. बाल टूटना
हेल्दी बालों की ग्रोथ के लिए प्रोटीन बहुत ज़रूरी होता है, लेकिन शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर बालों की प्राकृतिक चमक फीकी पड़ने लगती है, उनमें रूखापन बढ़ने लगता है और बाल टूटने लगते हैं.
2, बार-बार भूख लगना
भोजन में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन न लेने पर जल्दी-जल्दी भूख लगती है. बार-बार खाने की क्रेविंग होती है, जिससे वज़न बढ़ता है. बार-बार लगनेवाली भूख से बचने के लिए ज़रूरी है कि खाने में प्रोटीन की मात्रा बढ़ाएं.
3. फैटी लिवर/ लिवर में फैट जमा होना
बॉडी में प्रोटीन की कमी होने पर फैटी लिवर की समस्या होने लगती है, जिससे लिवर में सूजन, लिवर में घाव या लिवर फेलियर का रिस्क बढ़ जाता है. मोटापे से परेशान लोग और अधिक अल्कोहल का सेवन करने वाले लोगों में फैटी लिवर की समस्या होने की आशंका अधिक होती है.

4. शरीर में सूजन
शरीर में सूजन आने का एक कारण प्रोटीन की कमी हो सकता है. चिकित्सीय भाषा में इसे एडिमा कहते हैं. जब भी शरीर के किसी भी भाग में सूजन महसूस हो तो, तुरंत चिकित्सीय सलाह लें.
5. नाखून कमज़ोर होना
प्रोटीन की कमी के कारण नाखूनों की प्राकृतिक सुंदरता कम होने लगती है. नाखून बार-बार टूटते रहते हैं. उनमें अंदरूनी संक्रमण पनपने लगता है, जिसके कारण वे काले और कमज़ोर दिखाई देने लगते हैं.
6, मांसपेशियों में दर्द
मांसपेशियों के निर्माण में प्रोटीन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. भोजन में प्रोटीन की कमी होने पर मांसपेशियों में दर्द और खिंचाव महसूस होने लगता है. साथ ही मांसपेशियां अपनी ज़रूरत को पूरा करने के लिए हड्डियों से प्रोटीन सोखने लगती हैं, जिसके कारण हड्डियां कमज़ोर हो जाती हैं.
7. हड्डी टूटना
भोजन में सही और पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन न लेने पर केवल मांसपेशियों में दर्द नहीं होता, बल्कि हड्डियों पर भी इसका बुरा असर पड़ता है. प्रोटीन की कमी से जोड़ों में मौजूद तरल पदार्थ का निर्माण कम हो जाता है. इससे शरीर का लचीलापन घट जाता है, इसके अतिरिक्त हड्डियां कमज़ोर पड़ने लगती हैं और उनके टूटने का खतरा काफी बढ़ जाता है.

और भी पढें: दिल का दौरा पड़ने के बाद भूलकर भी न खाएं ये 10 चीज़ें (Avoid These 10 Foods After Heart Attack)

8. संक्रमण होने का खतरा
इम्युनिटी पर भी प्रोटीन की कमी का बुरा असर पड़ता है. रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमज़ोर होने पर शरीर में बार-बार संक्रमण होने का ख़तरा बढ़ जाता है. हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि शरीर में प्रोटीन की कमी होने पर इम्युनिटी सिस्टम कमज़ोर हो जाता है.
9. बच्चों के शारीरिक विकास में बाधा
जिन बच्चों में प्रोटीन की कमी होती है, उनके शारीरिक विकास में कई तरह की रुकावटें आती हैं. भोजन में प्रोटीन की कमी होने पर बच्चे कुपोषण और अन्य कई बीमारियों से ग्रस्त हो जाते हैं. कई शोधों से भी यह बात साबित हुई है कि प्रोटीन की कमी वाले बच्चों की हेल्दी ग्रोथ नहीं हो पाती.
10. बार-बार बीमार होना
जिन लोगों में प्रोटीन की कमी होती है, उन्हें हर वक्त थकान महसूस होती है. उनमें संक्रमण और अन्य बीमारियां होने की संभावना ज़्यादा होती है, जिसकी वजह से व्यक्ति बार-बार बीमार पड़ने लगता है.
11. व्हाइट ब्लड सेल्स का कम होना
प्रोटीन की कमी के कारण शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स की संख्या कम हो जाती है, जिससे हीमोग्लोबिन भी कम हो सकता है.

प्रोटीन की कमी से होनेवाली बीमारियां

  • संक्रामक रोग और बैक्टीरिया से होनेवाली बीमारियां
  • बच्चों की लंबाई रुकना
  • सांस लेने में परेशानी
  • शरीर में एनर्जी लेवल कम होना
  • शरीर में ऊर्जा की कमी होने पर रक्त का संचार बाधित होता है और नई कोशिकाओं के निर्माण में देरी होती है, जिससे घाव देर से भरता है.

प्रोटीन की कमी दूर करने के लिए खाएं ये चीज़ें

Symptoms Of Protein Deficiency
  • दूध, दही, चीज़, पनीर आदि डेयरी उत्पाद
  • अंडा
  • सूखे मेवे और बीज
  • पीनट बटर
  • अंकुरित मूंग (स्प्राउट्स)
  • सीफूड और फिश
  • दालें और फलियां
  • साबूत अनाज, जैसे- क्विनोआ, दलिया
  • सूरजमुखी और तिल के बीज
  • बाजरे की रोटी और सोयाबीन के आटे की रोटी
  • ओट्स, रागी, बीन्स, चौलाई आदि

– देवांश शर्मा

और भी पढें:10 बुरी आदतें बढ़ाती हैं मोटापा, क्या आप भी हैं इन बुरी आदतों के शिकार? (10 Bad Habits That Make You Fat, How to Break Them)

×