हैप्पी रिश्तों के लिए बनें इमोशन...

हैप्पी रिश्तों के लिए बनें इमोशनली इंटेलिजेंट कपल, अपनाएं ये 7 आदतें (7 Habits Of Emotionally Intelligent Couple Which Will Make You Happy Couple)

पैसों, गाड़ी या अच्छी जॉब से ही ख़ुशियां मिलें, ये ज़रूरी नहीं. सोशल मीडिया या फिल्मों में भले ही दिखाया जाए कि सपनों की दुनिया में जीनेवाले कपल, ख़ूब पैसे कमाने वाले या रोज़ाना घूमने, रेस्टॉरेंट में खाना खाने और हर पल को भरपूर एंजॉय करनेवाले कपल ही सबसे हैप्पी कपल्स होते हैं, लेकिन ये सच नहीं है. इसके अलावा स़िर्फ उन्हीं कपल्स को हैप्पी कपल्स नहीं कहा जा सकता जो झगड़े नहीं करते, बल्कि हैप्पी और परफेक्ट कपल वो होते हैं, जो हालात को बेहतर ढंग से हैंडल करते हैं, जो इमोशनली इंटेलिजेंट होते हैं और जो लाइफ से जुड़े अहम फैसले सिर्फ इमोशनल होकर नहीं, बल्कि इंटेलिजेंट बनकर लेते हैं. इमोशनल इंटेलिजेंस का मतलब ही है इमोशन को इंटेलिजेंटली हैंडल करना. तो आइए जानते हैं कि इंटेलिजेंट कपल्स कौन होते हैं और आपको ऐसा कपल बनने के लिए क्या करना होगा.

एक दूसरे के प्रति रखते हैं पॉज़िटिव सोच


कपल्स जब कुछ समय एक साथ गुज़ार लेते हैं तो एक-दूसरे को लेकर उनके मन में कुछ पूर्वाग्रह आ जाते हैं. अगर ये पूर्वाग्रह नेगेटिव हों तो पार्टनर्स इसे नेगेटिव तरीके से ही लेते हैं और एक-दूसरे की नेगेटिव बातों पर ही फोकस करते हैं, जबकि इमोशनली इंटेलिजेंट पार्टनर्स एक-दूसरे की सिर्फ पॉज़िटिव बातों पर फोकस करते हैं. नेगेटिव बातों पर फोकस करना उन्हें समय की बर्बादी लगती है, इसलिए वो स़िर्फ पार्टनर की अच्छी बातों के साथ आगे बढ़ते हैं और हमेशा ख़ुश रहते हैं.

झगड़ों और स्ट्रेस को बुद्धिमानी से हैंडल करते हैं


इमोशनली इंटेलिजेंट पार्टनर्स स्ट्रेस वाली स्थिति में या झगड़ा होने पर बुरी तरह रिएक्ट नहीं करते, ना ही ऐसी कोई बात करते हैं जिससे हालात और बिगड़ें या पार्टनर हर्ट हों. वो ऐसे हालात को भी हेल्दी तरीके से और पूरी संवेदनशीलता के साथ हैंडल करते हैं और किसी भी हाल में ओवर रिएक्शन से बचते हैं. इससे हालात और बिगड़ने नहीं पाते और प्रॉब्लम्स का सोल्यूशन भी आसानी से मिल जाता है.

ग़लत होने पर ग़लतियां स्वीकार लेते है


हर पति-पत्नी में तू तू मैं मैं और मन-मुटाव होते ही हैं. लेकिन इमोशनली इंटेलिजेंट पार्टनर हर झगड़े का ठीकरा दूसरे पार्टनर पर नहीं फोड़ते, हर झगड़े के लिए अपने पार्टनर को ज़िम्मेदार नहीं ठहराते. अगर उनकी ग़लती हुई तो आगे बढ़कर ख़ुद अपनी ग़लती स्वीकार करते हैं, न कि हमेशा अपने पार्टनर को गलत साबित करने की कोशिश करते हैं. वो अपने पार्टनर के पक्ष को भी समझते हैं और दोनों की फीलिंग समझते हुए रिएक्ट करते हैं. साथ ही वो झगड़ा होने पर मुंह फुलाकर नहीं बैठते, बल्कि जितनी जल्दी हो सके, उतनी जल्दी सारे मनमुटाव दूर करके झगड़ों की हैप्पी एंडिंग में यकीन करते हैं.

थोड़ी दूरियां भी हैं ज़रूरी


हालांकि ये सच है कि पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताने से बॉन्डिंग मज़बूत होती है और ऐसा करनेवाले कपल्स ज़्यादा हैप्पी रहते हैं, लेकिन कई बार रिश्तों में ख़ुशियों के लिए थोड़ी दूरियां भी ज़रूरी होती हैं. इमोशनली इंटेलिजेंट कपल्स ये बात समझते हैं, इसीलिए वो हर समय पार्टनर के साथ नहीं बने रहते. चिपकू पार्टनर बनने की बजाय वो अपने पार्टनर को स्पेस देते हैं. वो समझते हैं कि अगर किसी स्पोर्ट या एक्टिविटी में उनकी दिलचस्पी नहीं है, तो इसका ये मतलब ये नहीं कि वो अपने साथी को भी उसे स्पोर्ट या एक्टिविटी को एंजॉय करने से रोकें.

इमोशन्स को हेल्दी तरीके से हैंडल करते हैं


एक्सपर्ट्स के अनुसार, इमोशनली इंटेलिजेंट कपल्स अपने इमोशन को बेहतर ढंग से समझते हैं और पार्टनर के इमोशन्स को भी अच्छे से हैंडल करना जानते हैं. साथ ही वो अपना इमोशल पार्टनर पर थोपे बगैर खुलकर बातचीत करते हैं. ज़रूरी होने पर इमोशल को हेल्दी तरीके से व्यक्त भी करते हैं. कुल मिलाकर वो अपना इमोशनल प्रेशर पार्टनर पर नहीं डालते, जिससे उनके रिश्ते में कभी स्ट्रेस नहीं आता.

गहरी सहानुभूति रखते हैं


जो कपल्स इमोशनली इंटेलिजेंट होते हैं, उनके बीच सहानुभूति की भावना भी ज़्यादा होती है. ऐसे कपल्स एक-दूसरे को बेहतर ढंग से समझते हैं और बिना कहे ही अपने पार्टनर के मूड और भावनाओं को समझ जाते हैं. इससे उनके बीच कम्युनिकेशन आसान हो जाता है और ये उनके रिश्ते में तनाव भी नहीं आने देता.

ये झगड़ों से दूर रहते हैं


हर पति-पत्नी में झगड़े तो होते ही हैं, लेकिन इन झगड़ों के दौरान अगर अनुचित शब्दों का इस्तेमाल किया जाए, एक-दूसरे पर गंदे आरोप लगाए जाएं, तो ये झगड़े बहुत ही गंदी शक्ल ले लेते हैं. लेकिन इमोशनली इंटेलिजेंट कपल्स कभी इस तरह के गंदे झगड़ों में इन्वॉल्व नहीं होते, बल्कि इन झगड़ों को भी प्यार और बुद्धिमानी से हैंडल करते हैं.

×