इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के बारे में वे बातें, जो आपको पता नहीं हैं ( Things You Should Know About Emergency Contraception Pills)

अक्सर महिलाएं इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स (Emergency Contraception Pills) का इस्तेमाल तो करती हैं, मगर इसे लेकर उनके मन में कई तरह की ग़लतफहमियां रहती हैं. आइए जानते हैं, इससे जुड़े कुछ आम मिथकों की सच्चाई.

Emergency Contraception Pills

 

1. इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स ख़रीदने के लिए प्रिस्क्रिप्शन (डॉक्टर की पर्ची) की ज़रूरत पड़ती है.
अधिकांश महिलाएं ऐसा समझती हैं, लेकिन ये सच नहीं है. आपको किसी भी मेडिकल स्टोर पर कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स आसानी से मिल जाएगी और इसके लिए प्रिस्क्रिप्शन की ज़रूरत नहीं होती.

2. इमर्जेंसी कान्ट्रासेप्टिव पिल्स आसानी से नहीं मिलती.
ये सच नहीं है. इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव कई जगहों पर मिलती है, जैसे- मेडिकल स्टोर, कॉन्ट्रासेप्टिव क्लिनिक, हॉस्पिटल और स्त्रीरोग विशेषज्ञ के पास.

3. इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेना अबॉर्शन की तरह है.
रिसर्च बताती है कि लगभग 50% महिलाएं ये विश्‍वास करती हैं कि इसे लेना अबॉर्शन की तरह है. जबकि ऐसा कुछ नहीं है. मेडिकल रिसर्च से पता चलता है कि यह केवल प्रेग्नेंसी से बचाव है, अबॉर्शन नहीं. अबॉर्शन प्रेगनेंसी खत्म करने के लिए तब किया जाता है, जब यूटरस (गर्भाशय) में फर्टीलाइज एग स्थापित हो जाता है. इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स 3 तरह से काम करती है. एग को निकलने से, इसे फर्टिलाइज होने से और गर्भाशय में स्थापित होने से रोकती है. अतः यह अबॉर्शन नहीं है.

4. इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स अनप्रोटेक्टेड सेक्स होने के 24 घंटे के अंदर लेनी पड़ती है, अन्यथा फ़ायदा नहीं होता.
इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स, अनप्रोटेक्टेड सेक्स के बाद 3 दिन तक असर करती है, परंतु जल्दी लेने पर ज़्यादा असरदार होती है.

5. इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने के बाद ब्रेस्टफीड (स्तनपान) नहीं कराना चाहिए.
विशेषज्ञों की राय है कि इन पिल्स को लेने के बाद 1 हफ्ते तक ब्रेस्टफीड नहीं कराना चाहिए.

6. क्या इन पिल्स को 1 से अधिक बार एक ही साइकल (चक्र) में लिया जा सकता है?
आप चाहें तो इनका प्रयोग 1 ही साइकल (चक्र) में 1 से अधिक बार कर सकती हैं, मगर विशेषज्ञ इसकी सलाह नहीं देतें. याद रखिए कॉन्ट्रासेप्शन के कई अन्य विकल्प भी हैं.
ये भी पढ़ेंः थायरॉइड से मोटापा घटाने के पक्के उपाय

7. क्या नियमित रूप से इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने से महिलाएं इन्फर्टाइल (बांझ) हो जाती हैं.
नियमित रूप से इन पिल्स का इस्तेमाल करने से मेनस्ट्रल साइकल (मासिक चक्र) अनियमित हो जाता है, लेकिन ये इन्फर्टाइल नहीं बनाता. एक बात हमेशा ध्यान रखें कि ये पिल्स रोज़ाना इस्तेमाल के लिए नहीं है, इमर्जेंसी में लेने वाली कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स हैं. अतः बेहतर होगा इनका प्रयोग इमर्जंेसी में ही करें. नियमित कॉन्ट्रासेप्शन के दूसरे विकल्पों के लिए डॉक्टर से सलाह लें.

मिथ- इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स में केवल ‘मॉर्निंग आफ्टर पिल’ का ऑप्श्‍न (विकल्प) ही उपलब्ध है.
फैक्ट- ऐसा नहीं है. मार्केट में 3 तरह की इमर्जेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स उपलब्ध है. ये पिल्स प्रेग्नेंसी से बचने के लिए ली जाती हैं. इनके अलावा खणऊ (इन्ट्रायूटेराइन डिवाइस) का विकल्प भी है. खणऊ का आकार बहुत छोटा होता है. यह प्लास्टिक और कॉपर से बना होता है, जिसे अनप्रोटेक्टेड सेक्स (असुरक्षित यौन संबंध) के 5 दिन तक यूट्रस (गर्भाशय) में लगाया जा सकता है. सामान्य खणऊ 5 से 10 वर्ष तक के लिए भी लगाया जा सकता है. इसे हमेशा अनुभवी डॉक्टर से ही लगवाएं.
ये भी पढ़ेंः हफ्तों पहले दिखने लगते हैं कैंसर के ये 18 लक्षण