सुख-शांति के लिए घर को दें ...

सुख-शांति के लिए घर को दें एस्ट्रो टच… (Astrological Remedies For Peace And Happiness To Home)

By Admin June 21, 2019 in Digital PR

हर किसी की चाह रहती है कि घर में सुख-शांति व सुकून बना रहे. इसके लिए लोग न जाने क्या-क्या उपाय करते हैं. वैसे ज्योतिष (Astrology) के अनुसार कुछ उपाय किए जाएं, तो घर में सुख-शांति हमेशा बनी रहती है. इस संदर्भ में हस्तरेखा व वास्तु विशेषज्ञ डॉ. प्रेम गुप्ता ने हमें कई महत्वपूर्ण उपाय बताए. आइए, संक्षेप में इसके बारे में जानते हैं.

Astrological Remedies

* घर में सुबह-सुबह थोड़ी देर के लिए भजन या फिर कोई भक्तिमय संगीत लगाएं. इससे घर का माहौल सुकूनभरा व आनंदमय बना रहता है.

* घर के पूजा स्थल में अगरबत्ती, धूप, हवन आदि की सामग्री दक्षिण-पूर्व दिशा में रखें.

* विशेषकर गुरुवार के दिन चांदी के पात्र में केसर घोलकर माथे पर टीका लगाएं.

* पूजाघर में हमेशा किसी छोटे पात्र में जल भरकर रखें.

* घर में दक्षिणावर्ती शंख रखें.

* देसी गाय को रोटी खिलाएं.

* घर के मध्य भाग में सिंक न बनाएं. मध्य भाग में जूठे बर्तन आदि साफ़ नहीं करना चाहिए.

यह भी पढ़े: सोमवार को शिव के 108 नाम जपें- पूरी होगी हर मनोकामना (108 Names Of Lord Shiva)

* बच्चों के कमरे में ब्राइट कलर के पेंट करवाएं. बेटों के कमरे में हल्का नीला रंग और बेटियों के कमरे में हल्का गुलाबी रंग कराएं.

* यदि राशि के अनुसार घर के कमरों में पेंट करवाएं, तो और भी अच्छा है.

* लेकिन यदि ऐसा न कर सकें या फिर ऐसा करना प्रैक्टिकल न लगे, तो पूरे घर में आइवरी, लाइट क्रीम और बादामी रंग कराना अति शुभ होता है.

* ज्योतिष के अनुसार, शुभ व मंगलकारी वॉलपेपर दीवारों पर लगाएं.

* घर के किसी भी कमरे की चार में से एक दीवार पर ब्राइट कलर्स से पेंट कराएं या ग्लास वर्क करवाएं.

* ड्रॉइंगरूम व बेडरूम में लाइट कलर्स करवाएं, जैसे- लाइट ब्राउन, व्हाइट, क्रीम, लाइट लेमन आदि.

* पूजा करने के बाद कम-से-कम पांच मिनट मौन रखें.

* जब घर में झगड़ा या विवाद होे, तो उसके बाद तुरंत कभी भी तिजोरी न खोलें. कम-से-कम 10 मिनट बाद ही तिज़ोरी खोलें.

* रसोईघर में सबसे पहले घर के मालिक आदि ही प्रवेश करें. कर्मचारी या नौकर-चाकर को सबसे पहले किचन में प्रवेश न करने दें.

* शयनकक्ष में टूटे-फूटे फर्नीचर और कांच आदि को रिपेयर कराकर व्यवस्थित ढंग से रखें.

* रात को सोते समय प्रसन्न मन से चिंतामुक्त होकर अपने इष्टदेव को याद करके सोएं.

* घर में हंसी-ख़ुशी का वातावरण बनाए रखें. हंसी-ख़ुशी के माहौल से ‘ग्रह दोष भार’ कम होता है.

यह न करें

* दीया, अगरबत्ती, धूप आदि को मुंह से फूंक मारकर न बुझाएं.

* घर में कभी भी झाड़ू खड़ा न रखें. इसके अलावा न ही इस पर पैर लगाएं और न ही इसे लांघकर जाएं.

* घर में जूते-चप्पल बिखेरकर न रखें.

* बिस्तर पर बैठकर भोजन न करें.

* शाम के समय न सोएं.

* दरवाज़ों को ज़ोर से खोलें या बंद न करें.

* दुखी मन से भोजन न बनाएं.

* रात को रसोई में जूठे बर्तन न रहने दें.

* नवविवाहित से कम-से-कम तीन माह तक कोई वाद-विवाद या बहस न करें.

* फटे कपड़े भूलकर भी न पहनें.

* अपनी जन्मपत्री को अमावस्या के दिन न देखें.

ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेअपनी राशि के अनुसार कौन सा रत्न पहनें जिससे हो भाग्योदय (Zodiac Birthstones: Gemstones You Should Wear According To Your Zodiac Sign)