ब्यूटी हैंगओवर

फेस्टिवल सीज़न हो या कोई पार्टी, आप हमेशा सबसे बेस्ट नज़र आना चाहेंगी, लेकिन फंक्शन या पार्टी ख़त्म होने के बाद उसकी थकान  हमारी बॉडी और हमारे चेहरे पर भी साफ़ नज़र आने लगता है. पार्टी का हैंगओवर तो अगली सुबह उतर जाता है, लेकिन आपकी ब्यूटी पर जो इसका असर होता है, उसके लिए भी कोशिश करनी ज़रूरी है, ताकि आप हमेशा लगें सबसे फ्रेश.

1

वॉटर रिटेंशन

पार्टी के माहौल में हम हर उस चीज़ को खा लेते हैं, जिनसे हम अमूमन परहेज़ करते हैं. ऑयली, फ्राइड, स्पाइसी
फूड, स्नैक्स, डेज़र्ट्स, पिज़्ज़ा, पास्ता, कोल्ड ड्रिंक्स, चाइनीज़, नॉनवेज वगैरह. इन सबसे न स़िर्फ हम बहुत सारी कैलोरीज़ ले लेते हैं, बल्कि बहुत ज़्यादा नमक खाने से वॉटर रिटेंशन की प्रॉब्लम भी बढ़ जाती है. अक्सर लगातार पार्टी/रिसेप्शन के बाद सूजा हुआ चेहरा, पफी आईज़ और बढ़ा हुआ पेट हमें मुंह चिढ़ाता है, जिसे हम नींद की कमी और ज़्यादा खाने का आफ्टर इफेक्ट समझ बैठते हैं, लेकिन होता यह वॉटर रिटेंशन की वजह से है.

क्या करें?

– वॉटर रिटेंशन का सोल्यूशन भी वॉटर थेरेपी से ही होता है. मतलब आप ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीएं, जिससे शरीर में जमा पानी व टॉक्सिन्स बाहर निकल जाएं.

– कुछ दिनों के लिए किसी भी तरह के सॉफ्ट/हार्ड ड्रिंक्स से तौबा कर लीजिए.

– चाय/कॉफी को कम करें. नमक व शक्कर की मात्रा भी कम करनी होगी.

– एक हफ़्ते तक हल्का खाना खाएं. खिचड़ी, दलिया, सूप, दाल का पानी लें. फ्रूट्स, स्प्राउटेड सलाद, दही, ओट्स/कॉर्नफ्लेक्स को ब्रेकफास्ट में लें. नारियल पानी, इडली (स्टीम्ड) भी अच्छा विकल्प हो सकता है.

– नियमित रूप से मॉर्निंग वॉक/एक्सरसाइज़ करें, इससे भी शरीर व मन स्वस्थ होता है.

हेयर प्रॉब्लम्स

6

ख़ास मौक़ों के लिए हम अपने बालों पर कई तरह के केमिकल, हीट व स्टाइलिंग प्रोडक्ट्स यूज़ करते हैं, जैसे- स्ट्रेटनिंग, पर्मिंग, ब्लो ड्राय, स्टीमिंग, ड्राय आयरन, कलरिंग, शिमरिंग, हाइलाइटर, जेल आदि मगर इनसे बालों के टेक्स्चर, चमक और मज़बूती पर बुरा प्रभाव पड़ता है, क्योंकि कई स्टाइलिंग प्रोडक्ट 450 डिग्री तक गर्म होते हैं.

क्या करें?

– हेयर स्पा करवाएं. अगर नहीं करवा सकतीं, तो सबसे पहले बालों को माइल्ड शैंपू से धो लें, ताकि बालों में मौजूद केमिकल्स निकल जाएं. उसके बाद ऑयल मसाज करें.

–  समान मात्रा में नारियल, जैतून, बादाम का तेल लें और हल्का गर्म करके रुई की सहायता से पहले बालों की जड़ों में लगाएं, फिर उंगलियों से सर्कुलर मोशन में बालों की जड़ों में मसाज करें. शावर कैप पहनकर रातभर ऑयल रहने दें. अगले दिन हॉट-कोल्ड वॉटर थेरेपी लें (गर्म पानी फिर ठंडे पानी में भीगा टॉवेल सर पर लपेटें. कई बार करें). इससे तेल बालों में अंदर तक समा जाएगा. फिर शैंपू वकंडिशनर कर लें.

– हेयर पैक- दो दिन बाद हेयर पैक लगाएं. रातभर मेथीदाना भिगोकर अगले दिन पीस लें. इस लेप को बालों में लगाएं. एक घंटे बाद धो लें. आप चाहें, तो मेहंदी-आंवले का पेस्ट भी अप्लाई कर सकती हैं.

– बहुत रूखे, शुष्क बाल हों, तो मेहंदी अवॉइड करें. उसकी जगह दही, शहद, केले को मिक्स कर हेयर पैक बनाकर लगाएं. हफ़्तेभर में बाल हेल्दी और शाइनी हो जाएंगे.

पिंपल्स/रफ स्किन

 

1

ब्यूटी प्रोडक्ट्स का बहुत ज़्यादा इस्तेमाल आपकी स्किन को ख़राब कर सकता है. ऐसे में पिंपल्स, ड्राय व रफ स्किन, रैशेज़ आदि की समस्या हो सकती है. फाउंडेशन, कंसीलर, कॉम्पैक्ट के बहुत अधिक इस्तेमाल से त्वचा के रोमछिद्र सांस नहीं ले पाते और यदि आप रात को मेकअप रिमूव किए बिना ही सो जाती हैं, तो पिंपल्स, फाइन लाइन्स व ड्राय स्किन की समस्या से आप बच नहीं सकतीं.

क्या करें?

– सैलिसिलिक एसिडयुक्त फेस वॉश सिलेक्ट करें.

– अगर स्किन ऑयली है, तो मुल्तानी मिट्टी व गुलाबजल का पैक लगाएं. इससे अतिरिक्त तेल सूख जाएगा. अगले दिन नीम का पैक लगाएं.

– अगर आपकी स्किन सेंसिटिव है, तो सबसे पहले तो वॉटर बेस्ड क्लींज़र से चेहरा साफ़ करें और मॉइश्‍चराइज़र लगाएं.

– कुछ दिनों तक चेहरे पर किसी भी तरह के कॉस्मेटिक्स इस्तेमाल न करें. मसाज, स्क्रब और क्रीम से भी दूर रहें.

– होममेड फेस पैक जो पहले से आज़माए हुए हों, उन्हें लगाएं या फिर आयुर्वेदिक फेस पैक भी उपयोगी साबित हो सकते हैं.

– ड्राय स्किन- लगातार व अत्यधिक कॉस्मेटिक्स के प्रयोग से रूखी त्वचा और अधिक रूखी हो जाती है और स्किन पर एजिंग के निशान भी जल्दी नज़र आने लगते हैं. ऐसी त्वचा पर क्रीमी मॉइश्‍चराइज़र ज़्यादा मात्रा में अप्लाई करें. विटामिन ई का कैप्सूल क्रीम में मिलाकर मसाज करें. बाद में फेस पैक लगाएं. रात में सोते व़क्त एक बार फिर रिच मॉइश्‍चराइज़र अप्लाई करें.

पैरों में दर्द व सूजन

 

2

हाइ हील्स भले ही कितनी भी स्टाइलिश लगे, लेकिन लंबे समय तक इन्हें पहनने पर पैरों में दर्द व सूजन की समस्या हो सकती है.

क्या करें?

– गुनगुने पानी में नमक और नींबू डालकर पैरों को कुछ देर उसमें डुबोकर रखें. 15-20 मिनट में आपका सारा दर्द दूर हो जाएगा.

– बाद में अच्छी क्रीम से मसाज कर कॉटन सॉक्स पहन लें.

नेल्स

2

आजकल आर्टिफिशियल नेल्स लगाने से लेकर नेल आर्ट्स का बहुत क्रेज़ है. लेकिन बार-बार नेलपेंट बदलना और रिमूवर के इस्तेमाल से नेल्स पर बुरा प्रभाव पड़ता है. ऐसा करने से नाख़ून पीले व कमज़ोर होते जाते हैं, क्यूटिकल्स में भी प्रॉब्लम आती है और कई बार उनका नेचुरल कलर भी बदलने लगता है, ऐसे में नेलपॉलिश लगाए रखना आपकी मजबूरी बन जाती है.

क्या करें?

– नाख़ूनों पर कम से कम 7 दिनों तक नेलपॉलिश न लगाएं.

– गुनगुने पानी में या फिर गुनगुने तेल में नाख़ूनों को डुबोकर रखें, फिर ऑलिव ऑयल से सर्कुुलर मोशन में मसाज करें. इससे ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा व नाख़ूनों की प्राकृतिक आभा लौटेगी. वे मज़बूत भी होंगे.

– निधि निगम