बायोफिज़िक्स में बनाएं करियर...

बायोफिज़िक्स में बनाएं करियर (make career in biophysics)

 

1

वो ज़माना गया जब साइंस के नाम पर केवल गिने-चुने करियर ऑप्शन होते थे. अब ज़माना बदल गया है और साइंस के क्षेत्र में भी करियर के कई विकल्प मौजूद हैं. ऐसे में स़िर्फ एक ही ट्रैक पर चलने की क्या ज़रूरत है. चलिए हम आपको बताते हैं कि और कौन से विकल्प हैं, जिसमें आप करियर बना सकते हैं. अगर आप भी साइंस स्टूडेंट हैं और कुछ अलग करना चाहते हैं, तो बायोफिज़िक्स आपके लिए बेहतरीन विकल्प है. आप इसमें करियर बना सकते हैं.

क्या है बायोफिज़िक्स?
बायोफिज़िक्स, फिज़िक्स और बायोलॉजी के बीच का ब्रिज है, जिसमें जैविक प्रक्रिया में भौतिकी के उपयोग का अध्ययन किया जाता है. अपने आप में ये एक अलग और इंटरेस्टिंग स्कोप है. मेडिकल साइंस से अलग कुछ नया करनेवालों के लिए ये बेहतरीन क्षेत्र है. इसके अंतर्गत मोल्यूक्यूलर बायोफिज़िक्स, फिज़ियोलॉजिकल बायोफिज़िक्स, मेडिकल फिज़िक्स, न्यूक्लियर मेडिसिन, जीन-प्रोटीन इंजीनियरिंग, बायो इंफॉर्मेटिक्स आदि का अध्ययन किया जाता है, जिनके विकास से मेडिसिन और मेडिकल तकनीक के विकास को दिशा मिलती है.

शैक्षणिक योग्यता
इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए बहुत ज़रूरी है कि अंडर ग्रैज्युएट लेवल पर फिज़िक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी से पढ़ाई की जाए. इसके बाद मास्टर्स और पीएचडी कर सकते हैं.

क्या हैं कोर्सेस?
बायोफिज़िक्स कोर्स के अंतर्गत मोल्यूक्यूलर बायोफिज़िक्स, मेंमब्रेंस बायोफिज़िक्स, न्यूरोबायोफिज़िक्स, बायोफिज़िक्स तकनीक, बायोएनर्जेटिक्स, मेडिकल बायोफिज़िक्स आदि की पढ़ाई की जाती है.

पर्सनल स्किल
इस फील्ड में करियर बनाने के इच्छुक लोगों का क्रिएटिव होना बहुत ज़रूरी है. फिज़िकल वर्ल्ड के प्रति जिज्ञासा होने के साथ-साथ अच्छी राइटिंग और कंप्यूटर स्किल ज़रूरी है. साइंस की दुनिया में होनेवाली अद्भुत घटनाओं के प्रति दिलचस्पी होना भी आवश्यक है. इसके बिना आप इस क्षेत्र में पूर्णतः योगदान नहीं दे सकते. इन सबके अलावा धैर्य और काम के प्रति लगन आपको इस फील्ड में सफलता दिलाएगी.

स्पेशल फील्ड
मोल्यूक्यूलर बायोफिज़िक्स

रेडिएशन बायोफिज़िक्स

साइकोलॉजिकल बायोफिज़िक्स

मैथमैटिकल और थ्योरोटिकल बायोफिज़िक्स

मेडिकल बायोफिज़िक्स

सैलरी
इस क्षेत्र में करियर बनानेवालों को शुरुआत में 15-20 हज़ार प्रतिमाह मिलता है. अनुभव होने के बाद सैलरी का ग्राफ बढ़ता जाता है.

प्रमुख संस्थान
आल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, नई दिल्ली

महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी, फैकल्टी ऑफ अप्लाइड साइंस, कोट्यम, केरला

यूनिवर्सिटी ऑफ कल्यानी, नदिया, पश्‍चिम बंगाल

मणिपुर यूनिवर्सिटी, मणिपुर

पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़

यूनिवर्सिटी ऑफ मद्रास, चेन्नई

यूनिवर्सिटी ऑफ मुंबई, मुंबई

– श्वेता सिंह