चम्मच से नहीं, हाथ से खाइए (The Benefits of Eating With Your Hands)

वेस्टर्न कल्चर के चलते रेस्तंरा में या दूसरी जगहों पर बिना चम्मच-कांटे के भोजन करना बैड मैनर्स माना जाता है. लेकिन अगर आपसे एक सवाल पूछा जाए कि आपको चम्मच, छुरी-कांटे से खाना आसान लगता है या हाथ से? यक़ीनन हर कोई ये बात मानेगा कि हाथ से खाना ज़्यादा आसान है. आपको बता दें हाथ से खाना स़िर्फ आसान ही नहीं, बल्कि सेहतमंद भी होता है.

1447320551

 

हाथ से खाने के फ़ायदे

  • हाथों से खाना उठाते व़क्त इसका स्पर्श दिमाग़ को अलर्ट कर देता है और मस्तिष्क पहले ही खाना पचाने के लिए पेट को संकेत दे देता है, जिससे पेट गैस्ट्रिक जूस रिलीज़ करना शुरू कर देता है और खाना ठीक से पचता है.
  • चम्मच से खाने पर माइंडफुल ईटिंग नहीं हो पाती, क्योंकि खाने से ज़्यादा ध्यान चम्मच पर होता है. जबकि हाथ से खाने पर ध्यान अपने कौर और खाने पर होता है, जिसे देखकर ही पेट भरने का एहसास होने लगता है.
  • अमेरिका में हुई एक रिसर्च के मुताबिक़, हाथ से खाने से संतुष्टि मिलती है और ओवरईटिंग से बचा जा सकता है. ओवरईटिंग न करने से मोटापा भी नहीं बढ़ता.
  • हाथ से खाने से जीभ जलने का ख़तरा नहीं रहता, क्योंकि हाथ से कौर उठाते व़क्त अंदाज़ा लग जाता है कि खाना कितना गर्म है, जबकि चम्मच से यह संकेत दिमाग़ तक नहीं पहुंचता.

ध्यान दें

खाने से पहले और बाद में हाथों को पानी और साबुन या एंटीबैक्टीरियल हैंड वॉश से अच्छी तरह से धो लें.

आयुर्वेद में हाथ से भोजन करना सेहत की दृष्टि से अच्छा माना गया है

आयुर्वेद के अनुसार हमारा शरीर पंच तत्वों से बना है- पृथ्वी, वायु, आकाश, जल व अग्नि. इनमें होनेवाला असंतुलन शरीर में कई बीमारियों का कारण बन सकता है. हाथ से कौर बनाते समय जो मुद्रा बनती है, उससे शरीर में इन पांचों तत्वों का संतुलन बरक़रार रहता है और शरीर की एनर्जी
बनी रहती है.