इस मॉनसून अपने रिश्तों को भी बना...

इस मॉनसून अपने रिश्तों को भी बनाएं लीक प्रूफ… (Get Romantic With Your Partner In The Rains: Make your Relationship Leak Proof This Monsoon)

भीगते मौसम में रिश्तों की गर्माहट और सुहानी लगती है लेकिन वक़्त के साथ-साथ रिश्ते ठंडे पड़ते जाते हैं और उनकी गर्माहट खोने लगती है. तो क्यों न इस बारिश में अपने रिश्तों की खोई गर्माहट वापस पाने की कोशिश करें और बनाएं उनको लीक प्रूफ ताकि वो बने रहें मज़बूत और टिकाऊ.

रिश्तों को बचाएं इन दरारों और दीमकों से और प्यार से सींचें अपने रिश्तों को 

ईगो में न डूबने दें अपने रिश्तों को: रिश्तों में हमेशा प्यार और अपनापन ज़रूरी होता है, लेकिन हम अपने अहम के चलते उनको कमज़ोर और खोखला बना देते हैं. रिश्ते लीकप्रूफ तभी होंगे जब हम झुककर चलेंगे. अपनों की ख़ातिर झुकने में आख़िर बुराई ही क्या है? गलती न होने पर भी अगर एक सॉरी कह देने से काम बनता है तो हर्ज़ ही क्या है? अपनों को कभी-कभार थैंक यू कह देने से उनके चेहरों पर मुस्कान खिल जाती है तो कह देने में भी भलाई है. ईगो आपको सिर्फ़ अहंकारी और तनहा ही करेगा. बेहतर होगा इसे रिश्तों में पनपने न दें.

क्या करें: अपनों की ख़ुशी में खुद भी खुश होकर देखें. ज़िंदगी हल्की और आसान लगेगी. खुद को सबसे श्रेष्ठ और दूसरों को कम आंकने का भ्रम मन में न पालें. इंसानी कमज़ोरियां सभी में होती हैं और आप व आपके अपने भी इससे अछूते नहीं. हर बार आपकी ही बात सही है और वो ही फ़ाइनल है इस सोच से उबरें. दूसरों की सोच, उनके सुझाव व निर्णयों को भी महत्व दें.

क्रोध की आंधी से बचाएं अपने रिलेशनशिप को: ग़ुस्सा इंसानी स्वभाव का हिस्सा है और ये स्वाभाविक है लेकिन ग़ुस्से मेंअपने रिश्तों को नुक़सान पहुंचाने से हमेशा बचें. कभी वाद-विवाद में ऐसी कोई बात न कह दें जिससे सामने वाला हर्ट हो जाए और ग़ुस्से में कही कोई छोटी सी बात हमेशा के लिए मन में घर कर जाए. वक़्त के साथ यही छोटी सी बात रिश्तों में सुराख़ कर सकती है, इसलिए बेहतर होगा कि उसे लीकेज से बचाया जाए.

क्या करें: जब कभी झगड़ा या विवाद हो तो दिमाग़ ठंडा रखने की कोशिश करें और अपना आपा न खोएं. बेहतर होगा किउस वक़्त कम बोलें और अपना ध्यान अन्य बात या काम पर लगाएं. जब मन शांत हो जाए तब अपने विवादों को सुलझाएं. क्योंकि क्रोध में चीज़ें अलग दिखती हैं और सच्चाई कोसों दूर. जब दिमाग़ ठंडा हो जाता है तब पता चलता है कि ये तो ज़रा सी बात थी जिस पर हम बेवजह आग-बबूला हो रहे थे.

अविश्वास के झोंकों को हावी न होने दें: किसी भी बात को लेकर अविश्वास पैदा हो तो उसे फ़ौरन बातचीत से दूर कर लें क्योंकि एक बार ये मन में घर कर जाए तो यही अविश्वास धीरे-धीरे शक बन जाता है और जैसाकि कहते हैं शक का तोकोई इलाज होता ही नहीं है. बेहतर होगा समय रहते इस अविश्वास को दूर करें और भरोसा करना सीखें.

क्या करें: बात करें, अपने मन की शंकाओं को डिसकस करें और एक ही दिशा में अपनी सोच के घोड़े न दौड़ाएं. शेयर करें क्योंकि शेयरिंग से ही केयरिंग बढ़ती है और शक-शंकाएं दूर होती हैं. 

धोखे के तूफ़ान से रिश्तों को ख़राब न करें: धोखा किसी भी तरह का हो सकता है. ज़रूरी नहीं कि एक्स्ट्रा मैरिटल अफ़ेयर ही हो, पैसों को लेकर या झूठ बोलना भी एक तरह का धोखा ही है. रिश्तों में चीटिंग की कोई जगह नहीं होती.

क्या करें: बस धोखा न दें. झूठ और फ़रेब न करें. रिश्तों की बुनियाद सच्चाई पर ही टिकी होती है. सच चाहे जितना कड़वा हो कभी रिश्तों में उसे छिपाएं नहीं. पैसों को भी कभी अपने रिश्तों व उनकी सच्चाई पर हावी न होने दें. अपनी समस्या और अपना मन अपनों के साथ बांटें इससे रिश्ते मज़बूत होंगे. किसी बाहरवाले से कोई बात पता चले और आप झूठे साबित हों उससे बेहतर है खुद ही सच का सामना करें. 

ईर्ष्या के सैलाब को समय रहते पहचानें: अपनों से भला कैसी जलन? लेकिन अक्सर साथ रहते-रहते ये भावना खुद ब खुद पैदा हो जाती है और हमें नकारात्मक बनाने लगती है. अपनों की ही तारीफ़ और उनकी कामयाबी हमसे बर्दाश्त नहीं होती और हम कुढ़ने लगते हैं. 

क्या करें: अपनों में अपनी झलक देखें. उनके हुनर को सराहें और कामयाबी में खुद की कामयाबी को देखें. रिश्तों का तोमतलब ही यही होता है. कभी किसी और के सामने अपनों को नीचा दिखाने, ताने देने या उनको कमतर दर्शाने की कोशिशन करें. उनकी कमज़ोरियों को बाहर लाकर खुद को बेहतर साबित करना आपके रिश्ते की नींव को खोखला ही करेगा. 

इस मॉनसून ऐसा क्या करें कि रिश्ते लीकप्रूफ़ हो जाएं? 

  • सबसे पहले इस रोमांटिक मौसम में अपने रिश्तों में रोमांच और रोमांस वापस लाकर उस पर प्यार की सील लगाएं.
  • अपनी सेक्स लाइफ़ रिवाइव करें. 
  • अपनी ज़िंदगी से बोरियत हटाएं और ताज़गी लाएं.
  • छोटे-छोटे एफ़र्ट्स लें. 
  • बारिश में एक साथ भीगने का आनंद उठाएं.
  • साथ बेठकर चाय-पकौड़े खाएं. 
  • जोक्स सुनाएं. 
  • पुरानी यादों को ताज़ा करें.
  • ड्राइव पर भी जा सकते हैं.
  • डिजिटल लाइफ़ से थोड़ा ब्रेक लें और रियल वर्ल्ड में ज़्यादा वक़्त बिताएं.
  • बारिश के गाने सुनें और सुनाएं. बरसात के गानों पर अंताक्षरी भी खेली जा सकती है.
  • अपने अन्य रिश्तों में भी केयरिंग का डोज़ बढ़ाएं और उन्हें लीकप्रूफ़ बनाएं. 
  • बस इतना ही काफ़ी है बरसात के इस प्यारे मौसम को और भी प्यारा और प्यार भरा बनाने के लिए.
  • गीता शर्मा 
×