गेट, सेट, जॉग ?(Running, Jogging Health Benefits of Better Health Channel)

कई बार लोग जॉगिंग को केवल इसलिए नज़रअंदाज़ करते हैं, क्योंकि वे सुबह उठ नहीं पाते या उनका मन नहीं करता जॉगिंग पर जाने का. इसलिए पहले ख़ुद को प्रेरित करना ज़रूरी है. एक्सरसाइज़ के इस सेशन को रोचक और परफेक्ट बनाने के लिए आज़माइए ये टिप्स और रेडी हो जाइए दौड़ने के लिए.Jogging_running_Health_couple

जॉगिंग की तैयारी

– घर के कपड़ों में जॉगिंग करना बोरिंग है. जॉगिंग सूट की शॉपिंग करें. जॉगिंग सूट पहनने से मनोबल बढ़ता है और दौड़ने का मन करता है.
– कपड़ों की तरह ही जूतों का भी सही चुनाव करना ज़रूरी होता है. जॉगिंग के लिए कंफर्टेबल स्पोर्ट्स शूज़ ख़रीदें, ताकि पैर और टखने पर चोट न लगे.
– जॉगिंग करते हुए हमेशा अपने साथ पानी की बॉटल रखें व बीच-बीच में पानी पीते रहें. इससे आप डिहायड्रेशन से बचे रहेंगे.
– पैडोमीटर साथ रखें. इससे गति, समय, दिशा आदि की सही जानकारी मिलती है. पैडोमीटर में आप जॉगिंग का रिकॉर्ड रख सकते हैं.
– मोबाइल पर संगीत सुनने के लिए हेडफोन भी लगा सकते हैं, पर ध्यान रहे कि वॉल्यूम बहुत ज़्यादा न हो. हमेशा अलर्ट रहें.
– मोबाइल को अपनी बाजू पर आर्मबैंड केस कवर के ज़रिए बांध लें.
– जॉगिंग के व़क्त पसीना बहुत आता है. इसलिए कलाई पर कॉटन बैंड ज़रूर पहन लें.
– हो सके, तो कंपनी के लिए अपने किसी दोस्त को भी साथ ले लें.

जॉगिंग के स्मार्ट टिप्स

– जो बिगनर्स हैं, वो जॉगिंग की शुरुआत दौड़ने के साथ नहीं, बल्कि वॉक के साथ करें.
– शुरुआत में अपनी क्षमता के अनुसार टाइम सेट करें. धीरे-धीरे टाइम बढ़ाएं.
– सीधे दौड़ना शुरू न कर दें. वॉर्मअप एक्सरसाइज़ करना ज़रूरी है. इसके लिए कुछ मिनट पैदल चल कर शरीर को गर्म कर लें.
– दौड़ने से पहले कुछ देर तक धीरे-धीरे चलें. फिर अपनी गति बढ़ाएं.
– जब रुकना हो, तो एकदम से न रुक जाएं. पहले अपनी गति को धीमा करें.
– समतल जगह पर दौड़ें. ऊबड़-खाबड़ ज़मीन पर दौड़ने से गिरने का डर रहता है.
– अगर जॉगिंग न कर पाए हों, तो उस दिन स्ट्रैंथनिंग एक्सरसाइज करें.
– जिस तरह जॉगिंग से पहले वार्मअप ज़रूरी है, उसी तरह जॉगिंग के बाद रिलैक्सेशन भी ज़रूरी है. इसलिए शरीर की थकावट को दूर करने के लिए स्ट्रेचिंग करें.
– अगर जॉगिंग को रूटीन बना लिया है, तो प्रोटीन व कार्बोहाइड्रेट से भरपूर आहार लेना ज़रूरी है. इससे शरीर को ऊर्जा मिलती है.
– दौड़ते समय अपने शरीर को रिलैक्स और सीधा रखें.
– बहुत तेज़ न दौड़ें. इससे शरीर पर दबाव पड़ेगा और आप जल्दी थक जाएंगे.
– हफ़्ते में 5 दिन काफ़ी हैं दौड़ने के लिए. दो दिन शरीर को आराम भी दें.
– अगर शरीर में किसी प्रकार का दर्द है, तो पहले डॉक्टर से सलाह ले लें.