बर्थ डे स्पेशल: जानें अन्नू कपूर ने क्यों अनिल कपूर से बदला अपना नाम (Happy Birthday Annu Kapoor)

Annu Kapoorअन्नू कपूर जानी-मानी हस्तियों में से एक हैं. उन्हें बड़े पर्दे से लेकर छोटे पर्दे पर भी ख़ूब पहचान मिली है. उनका जन्म 20 फरवरी, 1956 को मध्यप्रदेश के इतवारा में एक पंजाबी परिवार में हुआ. अन्नू के पिता एक पारसी थिएटर कंपनी चलाते थे, जो शहर-शहर जा-जाकर गली नुक्कड़ में प्रस्तुति देती थी. उनकी मां कवयित्री और शास्त्रीय नृत्य में पारंगत थीं. उनके दादाजी डॉ. कृपाराम कपूर बिटिश आर्मी में डॉक्टर के पद पर कार्यरत थे और दादी गंगा कपूर स्वतंत्रता सेनानी थीं.

अन्नू कपूर को अभिनय का शौक बपचन से ही था, लेकिन पिता के समझाने पर वह उनकी कंपनी में शामिल हुए. कुछ दिनों काम करने के बाद उनका काम में मन नहीं लगा और कुछ दिनों बाद उन्होंने दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में दाखिला ले लिया. महज़ 22-23 साल की उम्र में उन्होंने जब 70 साल के वृद्ध की भूमिका निभाई, तो देखने वाले देखते रह गए.

उनका अभिनय जब निर्देशक श्याम बेनेगल ने देखा तो काफ़ी प्रभावित हुए और अन्नू को मिलने के लिए बुलाया. अन्नू ने अपने करियर की शुरुआत 1979 में बतौर स्टेज आर्टिस्ट के रूप में की, जबकि 1983 की फिल्म ‘मंडी’ से उन्होंने फिल्मों में एंट्री ली. वह अपने 30 साल के अभिनय करियर में कई हिंदी फिल्मों और टेलीविजन धारावाहिकों में काम कर चुके हैं.

अन्नू कपूर का असली नाम अनिल कपूर है और उनका नाम बदलने के पीछे की कहानी भी हमनाम अभिनेता अनिल कपूर से ही जुड़ी है. अन्नू ने बताया कि 80 के दशक में जब वह फिल्मों में अपने करियर की शुरुआत कर रहे थे, उस समय अनिल कपूर बॉलीवुड में एक उभरते स्टार थे और अन्नू को फिल्म मशाल में उनके साथ काम करने का मौका मिल गया. इस फिल्म में उन्हें सिर्फ़ चार लाइनें बोलनी थीं और इसके लिए चार हजार रुपये मेहनताना दिया जाना था, लेकिन मिल गया दस हजार रुपये का चेक और हीरो अनिल कपूर को मिला चार हजार रुपये का चेक. अनिल कपूर ने जब अपने बड़े भाई बोनी कपूर को यह बात बताई तो वह यशराज प्रोडक्शन के अकाउंटेंट के पास शिकायत करने पहुंच गए कि उनके भाई को चार हजार रुपये ही दिए गए, जबकि दस हजार रुपये दिए जाने की बात हुई थी. अकाउंटेंट को याद था कि उसने अनिल कपूर के नाम से दस हजार रुपये का चेक काटा था. फाइल देखी तो पता चला कि अन्नू कपूर का चेक अनिल कपूर को दे दिया गया था. अन्नू कपूर का असली नाम अनिल कपूर था, इसलिए उनका खाता इसी नाम से था. उनके आग्रह पर उनका चेक अनिल कपूर के नाम से बना था. कंफ्यूजन में अनिल कपूर का चेक अन्नू को दे दिया गया था.
इस वाकये के बाद शबाना आज़मी समेत कई सितारों ने अन्नू कपूर को सुझाव दिया कि उन्हें अपना नाम बदल लेना चाहिए, क्योंकि एक ही पेशे में दो अनिल कपूर नहीं हो सकते.

अन्नू के मुताबिक़ चूंकि उत्तर भारत में अनुराग, अनवर या अनुपम जैसे नाम वालों को लोग प्यार से अन्नू कहते थे, इसलिए उन्होंने अपना नाम अनिल कपूर से अन्नू कपूर रख लिया.

उन्हें हिंदी फिल्म विक्की डोनर में डॉ. चड्ढा की बेहतरीन भूमिका के लिए फिल्मफेयर और नेशनल अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है.

मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से अन्नू कपूर को जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयां!