बर्थडे स्पेशल: क्यों ख़ास है रानी के लिए 21 तारीख़? (Happy Birthday Rani Mukerji)

Rani Mukerji

बॉलीवुड अदाकारा और न्यू मॉम रानी मुखर्जी को मेरी सहेली की ओर से जन्मदिन की शुभकामनाएं. रानी मुखर्जी ने जब फिल्म इंडस्ट्री में क़दम रखा था, तो लोगों को उनकी हैवी बॉडी के साथ ही मोटी और थोड़ी अलग आवाज़ ने कुछ ख़ास आकर्षित नहीं किया. कहा जाता है कि रानी की आवाज़ उनके लिए समस्या बन गई थी, लेकिन रानी ने इसे कभी निगेटिव नहीं लिया. दो हिंदी फिल्में करने के बाद भी रानी को सफलता नहीं मिली, लेकिन कुछ कुछ होता है में उनका ग्लैमरस अंदाज़ और उनकी उसी मोटी आवाज़ ने लोगों को रानी का दीवाना बना दिया. रानी हर जवां दिल की धड़कन बन गईं. हाल ही में रानी मां बनी हैं और अपने मदरहुड को एंजॉय कर रही हैं. आइए, एक नज़र डालते हैं रानी मुखर्जी से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातों पर.

∇ रानी का जन्म मुंबई में हुआ था.

∇ रानी का फैमिली बैकग्राउंड फिल्मी है.

∇ रानी ने अपने पिता की बंगाली फिल्म से फिल्मी दुनिया में क़दम रखा.

∇ रानी की मां चाहती थीं कि रानी एक्ट्रेस बनें.

∇ मां के कहने पर ही रानी ने अपनी पहली फिल्म साइन की थी.

∇ रानी का लकी नंबर 21 है, क्योंकि रानी का बर्थडे 21 को पड़ता है. इसके अलावा आदित्य चोपड़ा का बर्थडे भी 21 मई है. रानी की शादी के डेट भी 21 ही है.

Rani Mukerji

∇ कुछ कुछ होता है में जब ट्विंकल खन्ना ने टीना का रोल करने से मना कर दिया, तब काजोल के कहने पर करण जौहर ने रानी को ये रोल ऑफर किया, लेकिन इसके लिए रानी का कई बार ऑडिशन लिया गया. असल में इस रोल के लिए करण को एक स्लिम-ट्रिम हीरोइन चाहिए थी, जबकि रानी थोड़ी मोटी थीं.

∇ रानी की पहली फिल्म आने के बाद उन्हें जुगल हंसराज के अपोज़िट एक हिंदी फिल्म ऑफर की गई थी, लेकिन तब रानी के पिता ने उसके लिए मना कर दिया. वो नहीं चाहते थे कि रानी मुखर्जी फुल टाइम एक्टिंग को अपना करियर बनाएं.

∇ कहा जाता है कि रानी कभी नहीं चाहती थीं कि वो एक हीरोइन बनें, लेकिन घर की आर्थिक स्थिति ख़राब होने की वजह से रानी ने फिल्मों का रास्ता
अपनाया.

Rani Mukerji

∇ एक इंटरव्यू में रानी के माता-पिता ने कहा थी कि रानी उनकी एक ऐसी बेटी है, जिसने अपनी इच्छाओं का ध्यान रखे बिना स़िर्फ फैमिली की लिए जिया है.

∇ रानी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि हीरोइन बनने की लालसा उनके मन में कभी नहीं थी, लेकिन अपने पापा की मदद करने के लिए इस फील्ड के आलावा कोई और रास्ता नहीं था, क्योंकि यहां बाकी नौकरियों से ज़्यादा पैसे मिलते हैं.