World Diabetes Day: डायबिटी...

World Diabetes Day: डायबिटीज़ को नियंत्रित करने के आसान प्राकृतिक उपाय (How To Control Diabetes Naturally?)

वर्तमान समय में डायबिटीज़ स़िर्फ भारत में नहीं, बल्कि पूरे विश्‍व में महामारी का रूप धारण कर चुका है. भारत को तो विश्‍व का ‘डायबेटिक कैपिटल’ कहकर पुकारा जाने लगा है. जी हां, हमारे देश में तक़रीबन 5 करोड़ लोग इस बीमारी से जूझ रहे हैं. इसकी सबसे बड़ी वजह ग़लत खानपान व ख़राब जीवनशैली है. इस बीमारी से जूझ रहे व्यक्ति को अपना ब्लड शुगर कंट्रोल में रखना पड़ता है, जिसमें कुछ घरेलू उपचार काफ़ी काम आ सकते हैं. हम आपको ब्लड शुगर नियंत्रित रखने के कुछ आसान प्राकृतिक उपाय बता रहे हैं.

Diabetes

गेहूं के पौधों का रसः व्हीटग्रास जूस यानी गेहूं के छोटे-छोटे पौधों का रस असाध्य बीमारियों को भी मिटा सकता है. इसके रस को ग्रीन ब्लड के नाम से भी जाना जाता है. आधा कप ताज़ा व्हीटग्रास जूस रोज़ सुबह-शाम पीने से डायबिटीज़ में लाभ होता है.

मेथीः ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए मेथी का सेवन काफ़ी फ़ायदेमंद होता है. इसका नियमित सेवन करने से ग्लूकोज़ लेवल नीचे चला जाता है और डायबिटीज़ से राहत मिलती है. इसके लिए मेथी दानों को तवे पर भूनें, फिर पीसकर पाउडर बना लें. रोज़ाना सुबह खाली पेट एक टीस्पून मेथी पाउडर खाएं. इससे आपका ब्लड शुगर नियंत्रित रहेगा.

जामुनः जामुन का रस, पत्ती और बीज तीनों ही डायबिटीज़ की बीमारी को दूर करने में बेहद कारगर हैं. जामुन के सूखे बीजों को पीसकर पाउडर बना लें. इस पाउडर का दिन में दो बार पानी या दूध के साथ सेवन करें. इसके नियमित सेवन करने से मधुमेह नियंत्रित होती है.

आंवलाः आंवले का सेवन करना हमारी सेहत के लिए बहुत फ़ायदेमंद है. एक चम्मच आंवले के रस में बराबर मात्रा में करेले का रस मिलाकर नियमित रूप से पीने से ब्लड शुगर कंट्रोल में रहता है.

ये भी पढ़ेंः डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए डायट प्लान ( Diet Plan For Diabetic Person)

तुलसीः तुलसी के पत्तों में एंटीऑक्सीडेंट व अन्य ज़रूरी तत्व मौजूद होते हैं, जिनसे इजिनॉल, मेथिल इजिनॉल और कैरियोफैलिन बनते हैं. ये सारे तत्व मिलकर इंसुलिन जमा करनेवाली और छोड़नेवाली कोशिकाओं को ठीक से काम करने में मदद करते हैं. ब्लड शुगर के स्तर को कम करने के लिए रोज़ पांच तुलसी के पत्ते खाली पेट खाएं. आप इसका जूस भी ले सकते हैं.

दालचीनीः ब्लड शुगर के स्तर को कम रखने के लिए एक महीने तक अपने प्रतिदिन के आहार में 1 ग्राम दालचीनी शामिल करें.दालचीनीः ब्लड शुगर के स्तर को कम रखने के लिए एक महीने तक अपने प्रतिदिन के आहार में 1 ग्राम दालचीनी शामिल करें.

आम का पत्ताः 15 ग्राम ताज़े आम के पत्तों को 250 ग्राम पानी में रातभर भिगोकर रख दें. सुबह इस पानी को छानकर पी लें. इसके अलावा आम के सूखे पत्तों को पीसकर पाउडर के रूप में खाने से भी ब्लड शुगर नियंत्रित होता है.

मधुमेह चूर्णः आंवला, हल्दी और मेथी को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर पाउडर बना लें. यह पाउडर रोज़ाना सुबह, दोपहर और शाम को पानी के साथ एक टीस्पून लें. इससे कुछ महीनों के अंदर ही आपको लाभ मिलेगा.

अलसीः प्रतिदिन सुबह खाली पेट अलसी का पाउडर हल्के गरम पानी के साथ लेने से डायबिटीज़ कंट्रोल में रहता है. अलसी में प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जिसके कारण यह फैट और शुगर का उचित अवशोषण करने में सहायक होता है.

नीमः डायबिटीज़ पर कंट्रोल करने के लिए नीम की पत्तियों का रस खाली पेट पीना चाहिए. नीम इंसुलिन संग्राहक संवेदनशीलता को बढ़ाता है, रक्त वाहिकाओं को प्रसारित करके रक्त परिसंचरण में सुधार लाता है, ब्लड ग्लूकोज़ के लेवल को कम करता है और हाइपोग्लास्मिक दवाइयों पर निर्भरता कम करता है.

सौंफः डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए सौंफ बहुत फ़ायदेमंद होती है. इसके सेवन से डायबिटीज़ नियंत्रण में रहता है, इसलिए नियमित तौर पर खाने के बाद सौंफ ज़रूर खाएं.

तांबे के बर्तन का प्रयोगः डायबिटीज़ को नियंत्रण में रखने के लिए तांबे के बर्तन में पानी पीना बेहद लाभकारी है. तांबा का प्रयोग करने के कई स्वास्थ्य लाभ हैं, जिनमें से एक मधुमेह नियंत्रण है. रात को सोने से पहले तांबे के जग या ग्लास में पानी भरकर रखें और सुबह उठकर बासी मुंह पानी पी लें.

पौष्टिक भोजन खाएंः डायटीशियन या सर्टिफाइड डायबिटीज़ एजुकेटर की मदद से डायट प्लान बनवाएं. वो आपकी ज़रूरत के अनुसार ऐसा हेल्थ प्लान बनाएंगे, जिससे आपका ब्लड शुगर लेवल नियंत्रण में आ जाए.

एक्सरसाइज़ करेंः जब हम एक्सरसाइज़ करते हैं, तो हमारा शरीर ग्लूकोज़ का इस्तेमाल करता है, जिससे ग्लूकोज़ कम हो जाता है. साथ ही जब हम एक्सरसाइज़ करते हैं, तो हमारे शरीर को ग्लूकोज़ ट्रांसपोर्ट करने के लिए ज़्यादा इंसुलिन की आवश्यकता नहीं होती और आपका शरीर इंसुलिन रेज़िस्टेंट नहीं रहता.  इसके साथ ही एक्सरसाइज़ करने से वज़न कम होता है, हृदय स्वस्थ रहता है, अच्छी नींद आती है और मूड भी अच्छा रहता है. द अमेरिकन डायबिटीज़ एसोसिएशन एक हफ़्ते में कम-से-कम 150 मिनट एक्सरसाइज़ करने की सलाह देता  है. इसके लिए आप वॉकिंग, स्विमिंग इत्यादि कुछ भी कर सकते हैं.

वज़न कम करेंः अगर आपका वज़न ज़्यादा है, तो वज़न कम करने की कोशिश करें.  पौष्टिक खाना खाकर और एक्सरसाइज़ की मदद से आप वज़न कम कर सकते हैं व स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकते हैं.

ये भी पढ़ेंः  जानिए किन कारणों से होता है डायबिटीज़? (Diabetes Causes: How Do You Get Diabetes)