बच्चे को जोख़िम से कैसे बचाएं? (How to save kids from mishaps?)

 

bacche jokhim16
खेल-खेल में बच्चे कई बार अपनी जान से ही खेल जाते हैं. कभी शर्ट की बटन को चॉकलेट समझकर निगल लेते हैं, तो कभी फिनायल को जूस समझकर पीने लगते हैं. अगर आपका बच्चा भी ऐसी हरकत करे, तो घबराने की बजाय क्या करें?

 

बच्चे नादानी में कई बार ऐसी हरकत कर बैठते हैं, जो उनके लिए बेहद ख़तरनाक साबित हो सकती है. कई बार तो उनकी जान पर भी बन आती है. ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए? आइए, जानते हैं.

यदि नाक में कुछ फंस जाए
कई बार बच्चे खेलते-खेलते अपनी नाक में कोई छोटी-मोटी चीज़, जैसे- पेन कैप, मार्बल, थर्मोकॉल के छोटे बॉल आदि फंसा लेते हैं, जिन्हें हाथ से निकालना मुश्किल होता है.

ऐसी स्थिति में क्या करें?
* बच्चे को नाक की बजाय मुंह से सांस लेने की सलाह दें. नाक से सांस लेने पर फंसी हुई चीज़ और अंदर जा सकती है.
* नाक में फंसी हुई चीज़ को हेयर प्लकर से निकालने की कोशिश न करें, इससे फंसी हुई चीज़ गले में जा सकती है.
* स्वयं निकालने की बजाय इएनटी डॉक्टर से संपर्क करें.

यदि गले में कोई चीज़ फंस जाए
छोटे बच्चे कोई भी चीज़, जैसे- क्वॉइन, मार्बल, छोटे पत्थर, काग़ज़ के टुकड़े आदि उठाकर तुरंत मुंह में डाल लेते हैं, ऐसे में कई बार चीज़ें उनके गले में फंस जाती हैं.

ऐसी स्थिति में क्या करें?
* अपनी हथेली से बच्चे की पीठ ज़ोर-ज़ोर से थपथपाएं. ऐसा करने से कई बार धक्के की वजह से गले में फंसी हुई चीज़ बाहर निकल आती है.
* यदि स्थिति गंभीर लगे, तो बच्चे को तुरंत डॉक्टर के पास ले जाएं.

यदि त्वचा पर ज्वलनशील बाम लग जाए
बड़ों को देखकर बच्चे भी बाम लगाने लगते हैं. कई बार वे पूरे शरीर व चेहरे पर बाम लगा लेते हैं. इससे उनकी त्वचा में जलन होने लगती है.

ऐसी स्थिति में क्या करें?
* सबसे पहले प्रभावित जगह को पानी से अच्छी तरह धोकर सूखे कपड़े से पोंछ दें. फिर कोल्ड क्रीम लगाएं. ऐसा करने से जलन से राहत मिलेगी.
* आप चाहें तो प्रभावित स्थान पर बर्फ भी लगा सकती हैं. इससे भी जलन कम होगी.

यदि ग्लू (गम) से उंगली चिपक जाए
यदि आप किसी चीज़ को चिपकाने के लिए ग्लू का इस्तेमाल कर रही हैं, तो इस्तेमाल के तुरंत बाद इसे बच्चों की पहुंच से दूर रख दें, वरना बच्चे इससे खेलने लगेंगे या ग्लू का इस्तेमाल करने की कोशिश करेंगे. इससे उनकी उंगलियां आपस में चिपक सकती हैं.

ऐसी स्थिति में क्या करें?
* चिपकी हुई उंगलियों के बीच में वेजीटेबल ऑयल या घी लगाकर थोड़ी देर के लिए छोड़ दें. जब ग्लू पिघलने लगे तो कपड़े से रगड़कर उंगलियों को धीरे-धीरे छुड़ाएं.
* आप एसीटोन या मेडिसिनल अल्कोहल का इस्तेमाल भी कर सकती है. हां, स्थिति ज़्यादा गंभीर लगे, तो बिना देर किए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

यदि कोई जानवर काट ले
बच्चे कुत्ते, बिल्ली जैसे पालतू जानवरों के साथ खेलते-खेलते कई बार उनके मुंह में ख़ुद ही हाथ डाल देते हैं या कभी पालतू जानवर ही चिढ़कर बच्चों को काट लेते हैं.

ऐसी स्थिति में क्या करें?
* सबसे पहले काटी हुई जगह पर साबुन लगाकर पानी से लगातार 5 मिनट तक धोएं, फिर घाव पर एंटीसेप्टिक मेडिसिन लगाएं. इससे इंफेक्शन का ख़तरा कम हो जाता है.
* इसके तुरंत बाद बच्चे को डॉक्टर के पास ले जाएं और सही तरी़के से इलाज करवाएं, वरना आगे चलकर ये घाव गंभीर हो सकता है और तकलीफ़ बढ़ सकती है.

यदि बच्चा फिनायल पी ले
बेहतर होगा कि आप फिनायल, परफ्यूम आदि की बोतलें बच्चों की पहुंच से दूर रखें. ये रंगीन बोतलें और इनकी ख़ुशबू बच्चों को आकर्षित करती है, जिससे वे इन्हें पीने की कोशिश करते हैं.

ऐसी स्थिति में क्या करें?
* यदि बच्चा थोड़ा बड़ा है, तो उसे मुंह में पानी भरकर थूकने के लिए कहें. इससे कम से कम मुंह में लगा विषैला पदार्थ बाहर निकल जाएगा.
* इसके तुरंत बाद बच्चे को डॉक्टर के पास ले जाएं. साथ में उस विषैले पेय पदार्थ की बोतल भी ले जाएं. ऐसा करने से डॉक्टर को इलाज करने में आसानी होगी.

+ इन तरक़ीबों को अपनाकर आप कुछ समय के लिए बच्चे को ख़तरे से बचा सकती हैं, परंतु समस्या से पूरी तरह निपटने के लिए डॉक्टर के पास ज़रूर जाएं.
+ यदि कभी बच्चा ऐसी कोई हरकत कर बैठे, तो घबराएं नहीं, हिम्मत से काम लें, वरना आपके चेहरे पर डर देखकर बच्चा और डर जाएगा व स्थिति ज़्यादा गंभीर हो जाएगी.
– नीलम चौहान