माॅनसून हेल्थ गाइड- बरसात क...

माॅनसून हेल्थ गाइड- बरसात के दिनों में यूं रखें सेहत का ख़्याल… (Monsoon Health Guide: Smart Tricks To Stay Healthy This Rainy Season…)

बरसात के मौसम में जहां हमें गर्मी से राहत मिलती है, वहीं सेहत से जुड़ी कई तरह की परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है. दरअसल, वातावरण में मौजूद नमी के कारण संक्रमण यानी बैक्टीरिया अधिक सक्रिय हो जाते हैं. यही वजह होती है कि बारिश के दिनों में संक्रमण से होनेवाली बीमारियां अधिक पनपती और तेजी से फैलती हैं, जैसे- डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, हैजा, फूड प्वॉइजनिंग, डायरिया, टायफाॅइड, पीलिया, पेट से संबंधित बीमारियां, खुजली, एलर्जी आदि. इन सभी से बचने के लिए हमें साफ़-सफ़ाई और अपने खाने-पीने पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत होती है. माॅनसून हेल्थ, बीमारियों से बचने पर वीटाबायोटिक्स लिमिटेड के वीपी, फिटनेस और न्यूट्रीशन एक्सपर्ट रोहित शेलतकर ने कई उपयोगी जानकारियां दीं. आइए पहले माॅनसून से होनेवाली बीमारियां और उनके बचाव के बारे में जानें.

  • मच्छरों से पनपनेवाली बीमारियां, जैसे- डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया आदि से बचने के लिए ध्यान दें कि घर के आसपास कहीं भी पानी का जमाव न हों. घर की स्वच्छता को प्राथमिकता दें, क्योंकि ज़्यादातर मौसमी बीमारियां गंदगी से ही होती हैं. घर में पेस्ट कंट्रोल कराना बेहतर उपाय है. इससे मच्छर, अन्य बरसाती जीव-जंतुओं से निजात मिलेगी और बीमार होने की गुंजाइश भी नहीं रहेगी.
Monsoon Health Guide
  • माॅनसून में होनेवाली गंभीर बीमारी में हैजा भी एक है. ऐसे में पीने के पानी की शुद्धता का ख़्याल रखना ज़रूरी है. इसलिए पानी को उबालकर या फिर प्यूरीफायर का पानी पीएं. घर क्लीन रखें. लिक्विड हैंड सोप का इस्तेमाल करें. हैजे का टीका लगवाएं. दूध और दूध से बने खाद्य पदार्थों का कम सेवन करें. बाहर का खाना यानी होटल, स्ट्रीट फूड, फास्ट फूड आदि का खाने से बचें.
  • माॅनसून में पेट की बीमारियां भी तेजी से फैलती हैं, ख़ासकर डायरिया. इसके लिए सफ़ाई, पर्सनल हाइजीन और खानपान का ध्यान रखें. किचन की सफ़ाई में बर्तनों, मिक्सर, कटिंग बोर्ड, माइक्रोवेव, प्लेटफार्म आदि पर विशेष ध्यान दें. टॉयलेट से आने, हाथ गंदे होने, डायपर बदलने, साफ़-सफ़ाई करते समय आदि के बाद हैंडवॉश से हाथ अवश्य धोएं. ऐसे फल-सब्ज़ियां खाएं, जिनके छिलके निकाल सकते हैं. यदि कहीं बाहर सफ़र पर जाना है, तो हेपेटाइटिस ए का टीका अवश्य लगवाएं.


यह भी पढ़ें: सेहत से जुड़ी ये 10 ग़लतियां महिलाएं अक्सर करती हैं (10 Health Mistakes Even Smart Women Make)

  • बरसात के दिनों में संक्रामक बीमारी टायफॉइड की समस्या भी अधिक देखने को मिलती है. इसके बचाव के लिए उबला व साफ़ पानी ही पीएं. डिहाइड्रेशन ना हों, उसके लिए अधिक तरल पदार्थ यानी लिक्विड डायट लें. भोजन करने से पहले हाथों को अच्छी तरह धोएं. इसमें होमियोपैथिक दवाएं भी अधिक लाभदायक होती हैं.
  • बारिश में लिवर में वायरल इंफेक्शन की वजह से पीलिया भी लोगों को परेशान करती है. दरअसल, हेपेटाइटिस के वायरस पानी से फैलते हैं. इसलिए हेपेटाइटिस ए व बी का टीका लगवाएं. दूषित भोजन-पानी से बचें और हाइजीन का विशेष ध्यान रखें.
  • बरसात में फूड प्वॉइजनिंग होने का ख़तरा भी अधिक रहता है. इससे बचने के लिए हल्का भोजन करें. अधिक मसालेदार खानपान से बचें. पूरी तरह से पका हुआ भोजन ही खाएं. कच्चा या अधपका खाना ना खाएं. बाहर का खाना अवॉइड करें. ठंडे पदार्थों का सेवन भी ना के बराबर करें. बासी भोजन ना खाएं. फ्रिज में कई दिनों से रखा भोजन भी बिल्कुल ना खाएं. भोजन बनाते समय साफ़-सफ़ाई का अतिरिक्त ध्यान रखें. सब्ज़ियां-फल अच्छी तरह से धोकर इस्तेमाल करें. इन सभी बातों का ख़्याल रखने से फूड प्वॉइजनिंग ही नहीं बरसात से जुड़ी अधिकतर बीमारियों से बचा जा सकता है. कहने का तात्पर्य यह है कि सही खानपान और हेल्‍दी आदतों को अपनाकर बरसाती बीमारियों से आसानी से बचा जा सकता है.

माॅनसून में अपनी इम्यूनिटी को मज़बूत कैसे रखें?
सेहतमंद शरीर के लिए इम्यूनिटी सिस्टम अच्छा होना बेहद ज़रूरी है और बरसात में तो यह और भी ज़रूरी हो जाता है. दरअसल, माॅनसून के दौरान शरीर की प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है, क्योंकि इस समय बढ़ी हुई आर्द्रता, प्रदूषण और नमी, शरीर के मेटाबॉलिक रेट व बीमारियों से लड़ने की उसकी क्षमता को कम कर देती है. इसलिए बारिश के मौसम में प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखना पहली प्राथमिकता होनी चाहिए.

Monsoon Health Guide

क्या खाएं?

  • इस मौसम में हर किसी को अपनी डायट में अनेक तरह के ताज़े फल और सब्ज़ियों को शामिल करना चाहिए.
  • करेला, नींबू, लहसुन, अदरक, नीम जैसी जड़ी-बूटियां और पत्तेदार सब्ज़ियां कुछ ऐसे प्राकृतिक ख़ज़ाने हैं, जो संक्रमण को रोकने और शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत बनाने में मददगार हैं.
  • कैमोमाइल, जैस्मीन और ग्रीन टी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं.
  • लीची, पपीता, अनार और नाशपाती जैसे माॅनसूनी फल न सिर्फ़ भोजन को बेहतर ढंग से पचाने में शरीर की मदद करते हैं, बल्कि आर्द्रता स्तर में बढ़ोतरी के कारण होनेवाले संक्रमण से लड़ने में भी मददगार हैं.
  • मौसमी फल एंटीऑक्सिडेंट से भी भरपूर होते हैं, जो ब्लड प्रेशर को ठीक रखने और विभिन्न संक्रमणों को रोकने में मदद करते हैं.
  • बरसात में जामुन एक ऐसा मौसमी फल है, जिसका सेवन ज़रूर करना चाहिए, क्योंकि इसमें आयरन, फोलेट, पोटैशियम और विटामिन्स प्रचुर मात्रा में होते हैं.
  • अंडा हर मौसम के लिए सुपर फूड है, जो प्रोटीन से भरपूर होता है और मसल्स बनाने में मददगार है. अंडे शरीर की इम्यून सिस्टम को भी मज़बूत बनाते हैं और संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं.


यह भी पढ़ें: गैस, एसिडिटी, खट्टी डकार से परेशान हैं तो आज़माएं ये 10 घरेलू उपाय (10 Home Remedies To Get Rid Of Gas And Acidity)

क्या परहेज़ करें?
माॅनसून के मौसम में किसी भी तरह के स्ट्रीट फूड, जंक फूड या फास्ट फूड से बचना चाहिए. जिन अनहाइज़ीनिक तरीक़ों से इन फूड्स को तैयार किया जाता है, उससे बीमारियां पैदा होने का ख़तरा अधिक होता है. ज़्यादातर फूड्स को इस्तेमाल हो चुके तेल में फ्राई किया जाता है, जो लंबे समय से रखे हुए होते हैं. फास्ट फूड में ट्रांस-फैट भी होता है, जो मोटापे का प्रमुख कारण है.

Monsoon Health Guide

एक्सरसाइज़ की आदत डालें…

  • फिज़िकल फिटनेस बनाए रखने के लिए हफ़्ते में कम से कम तीन-चार बार 25 से 30 मिनट की एक्सरसाइज़ ज़रूर करें.
  • अपने नियमित दिनचर्या में वर्कआउट को अवश्य शामिल करें.
  • एक्सरसाइज़ के रूप में एरोबिक्स पाचन में सुधार करता है, शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के अलावा इम्यूनिटी बनाने और शरीर की कोशिकाओं के पुनर्निर्माण में भी मदद करता है.
  • माॅनसून का भले ही आपके इम्यून सिस्टम पर प्रतिकूल असर हो, लेकिन एक्सरसाइज़ के माध्यम से इसको बनाए रखना ज़रूरी है.
  • सिंपल स्ट्रेचिंग, स्पॉट जॉगिंग, क्रंचेज, प्लैंक्स और लेग राइज जैसे एक्सरसाइज़ को अपनी इनडोर रूटीन में शामिल करके ऐसा करना संभव है.
  • योग, प्राणायाम और ध्यान भी करें.

स्मार्ट हेल्थ टिप्स

  • अदरक और अजवाइन मिले सरसों के तेल की मालिश त्वचा को संक्रमण से बचाती है.
  • संक्रमण से बचने के लिए एंटी-बैक्टीरियल साबुन के साथ टेलकम पाउडर का उपयोग करें.
  • नाक जाम हो, तो अदरक का पाउडर सूंघें.
  • तुलसी के पत्ते और कालीमिर्च को मिक्स कर चाय पीएं, मौसम के असर से बचे रहेंगे.
  • हॉट बेवरेज, जैसे- ग्रीन टी, लाइम टी, अदरकवाली चाय तरोताज़ा करने के साथ इम्यूनिटी भी बढ़ाते हैं.
Monsoon Health Guide

  • बरसात में स्किन व बाल को हेल्दी रखने के लिए एंटी-वायरल व एंटी फंगल गुणों से युक्त कच्चा लहसुन चाय के साथ लें.
  • चूंकि अधिकतर बीमारियां मच्छरों से होती है, इसलिए इनसे बचना भी ज़रूरी है. इसके लिए मच्छरदानी का उपयोग करें. मच्छर भगानेवाले स्प्रे, क्रीम, ड्रॉप, पैच आदि का इस्तेमाल करें.
  • गंदे पानी में न चलें. इसमें कीटाणु हो सकते हैं और संक्रमण पैदा कर सकते हैं. बच्चों को भी गंदे या पानी के जमाव में खेलने न दें.
  • हर रोज़ स्नान ज़रूर करें. कहीं बाहर से घर आने के बाद भी अच्छी तरह से स्नान करें.
  • नाख़ूनों को नियमित रूप से काटें.
  • छींकने-खांसते समय नाक व मुंह ढंकें.
  • माॅनसून में भीगने से बचें. अगर भीग ही जाते हैं, तो ख़ुद को जल्दी से सूखा लें. ध्यान रहे, गीले कपड़ों में या एसी रुम में ना बैठें.
  • फेस मास्क सही तरीक़े से ज़रूर पहनें.


यह भी पढ़ें: #HealthAlert: कोरोना के वैक्सीन लेने के बाद ध्यान रखी जानेवाली ज़रूरी बातें… (Important Things To Keep In Mind After Taking The Covid-19 Vaccine)

Photo Courtesy: Freepik