फिल्म रिव्यू: ‘नाम शबाना’ है एक दमदार फिल्म (Movie Review: Naam Shabana)

फिल्म- नाम शबाना

स्टारकास्ट- अक्षय कुमार, ताप्सी पन्नू, मनोज बाजपयी, अनुपम खेर

निर्देशक- शिवम नायर

रेटिंग- 3.5 स्टार

naam shabana review

अक्सर फिल्मों का सिक्वल बनाया जाता है, लेकिन इस बार प्रीक्वल बनाया गया है फिल्म बेबी का. नाम शबाना की कहानी बेबी के कहानी से जुड़ी हुई है, लेकिन उसके आगे की कहानी है. कैसी है नाम शबाना फिल्म आइए जानते हैं.

कहानी

फिल्म की कहानी ताप्सी के आसपास ही रची गई है. बेबी फिल्म की एजेंट शबाना खान की पहली की ज़िंदगी को दिखाया गया है, जो बेहद तकलीफ़ों से भरी थी. शबाना (ताप्सी पन्नू) का बचपन बेहद ही बुरा बीतता है. वो रोज़ अपनी मां को पिता के हाथों पिटते हुए देखती है. एक दिन तंग आकर अपने पिता पर ऐसा वार करती है कि उसके पिता दम तोड़ देते हैं. इसके बाद शबाना को जूवेनाइल कोर्ट दो साल की सज़ा दे देता है. जीवन के बुरे अनुभव शबाना को सख़्त बना देते हैं. कॉलेज में वो जूडो-कराटे सीखती है. टास्क फोर्स के चीफ रणवीर सिंह (मनोज बाजपयी) की नज़र शबाना पर तब से होती है, जब उसे सज़ा दी गई थी. शबाना के सामने जब एक दिन उसके प्रेमी की हत्या कर दी जाती है, तब रणवीर शबाना की मदद करता है. इसके बाद शबाना टास्क फोर्स का हिस्सा बन जाती है और उसे एक खास मिशन के लिए मलेशिया भेजा जाता है, जहां उसका सामना टोनी उर्फ मिखाइल (पृथ्वीराज सुकुमारन) से होता है, जो हथियारों की सप्लाई करता है. शबाना की मदद के लिए मलेशिया में ऑफिसर अजय (अक्षय कुमार) को भेजा जाता है. क्या शबाना मिशन को पूरा कर पाती है? कैसे वो लड़ती हैं इन सबसे? इसके लिए आपको देखनी होगी ये फिल्म.

फिल्म की यूएसपी

फिल्म की यूएसपी है ताप्सी पन्नू की ऐक्टिंग. पिंक फिल्म के बाद एक बार बार फिर ताप्सी ने ख़ुद को साबित किया है कि वो एक टैलेंट ऐक्ट्रेस हैं. पूरी फिल्म ताप्सी पर आधारित है और उन्होंने ऐक्शन सीन्स भी कमाल के किए हैं.

अक्षय कुमार का रोल भले ही फिल्म में छोटा हो, लेकिन अहम् हैं. मनोज बाजपयी टास्क फोर्स के चीफ की भूमिका में अपनी छाप छोड़ते हैं.

देखने जाएं या नहीं?

अगर आप इस वीकेंड पर एक अच्छी फिल्म देखना चाहते हैं, तो ये फिल्म आपको ज़रूर एंटरटेन करेगी. पैसा वसूल फिल्म है नाम शबाना.