न्यूली मैरिड कपल्स कैसे हैंडल करें ईएमआई प्रेशर ? (Married couples how to handle pressure EMI?)

shutterstock_112648631

शादी के बाद नई-नई गृहस्थी की शुरुआत करना हर कपल के लिए ख़ुशियों के साथ ही ज़िम्मेदारियां भी लेकर आता है. सुख-सुविधा का सामान जुटाने के लिए आजकल ईएमआई एक अच्छा विकल्प बन गया है. इस ईएमआई के प्रेशर को कैसे करें हैंडल? आइए, जानते हैं.

 

लोन के प्रकार

लोन कई तरह के होते हैं. कपल्स अपनी ज़रूरत के अनुसार लोन लेते हैं और उसका ईएमआई भरते हैं.

हाउसिंग लोन

बड़े शहरों के ज़्यादातर मध्यमवर्गीय कपल्स को अपना आशियाना बनाने के लिए ईएमआई का सहारा लेना ही पड़ता है. बहुत कम लोगों के साथ ऐसा होता है कि शादी से पहले उनके पास अपना घर हो. ऐसे में हर महीने घर की ईएमआई भरना आसान नहीं है. आपकी सैलरी का बहुत बड़ा हिस्सा होम लोन में चला जाता है. नई-नई शादी और फिर हर माह सैलरी का बड़ा भाग ईएमआई में कट जाने से चाहकर भी आप साल के अंत में पार्टनर के साथ कहीं घूमने का प्लान नहीं बना पाते. हर माह आप इसी बात को लेकर परेशान रहते हैं. कई बार इस बात को लेकर पार्टनर से कहासुनी भी हो जाती है.

स्मार्ट मूव

महीने की निश्‍चित तारीख़ को आपके बैंक अकाउंट से अपने आप पैसा कट जाता है. इसे ईसीएस (इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरेंस सर्विस) कहते हैं. ईसीएस का फॉर्म भरते समय इस बात का विशेष ध्यान दें कि जब आपकी सैलरी अकाउंट में आए उसके एक-दो दिन बाद की डेट डलवाएं. इससे आसानी से पैसे कट जाएंगे और आपको किसी से मांगने की ज़रूरत नहीं होगी. कभी भी सैलरी आने से पहले की डेट न भरें.

shutterstock_163997513
पर्सनल लोन

शादी के ख़र्च के बाद कई बार कपल्स के पास इतना पैसा भी नहीं बचता कि वो कहीं घूमने का प्लान बना सकें. ऐसे में अधिकतर न्यूली मैरिड कपल्स किसी बैंक/प्राइवेट मनी लेंडर से व्यक्तिगत लोन लेते हैं. ये लोन कभी एक लाख तो कभी उससे भी ज़्यादा का होता है. लोन की रकम तो बहुत ज़्यादा नहीं होती, लेकिन हर माह उसका ब्याज भरने में कपल्स को परेशानी होती है. कई बार तो रोज़मर्रा की ज़रूरतों के लिए भी कपल्स के पास पैसे नहीं बचते.

स्मार्ट मूव

जब भी कोई लोन लें इस बात का ख़ास ध्यान रखें कि लोन की समय सीमा बढ़ा दें. कम समय के लिए लोन कभी न लें. जब आप कम अवधि का लोन लेते हैं, तो ईएमआई का प्रेशर बढ़ जाता है. आपकी सैलरी से ज़्यादा पैसे कटते हैं, जिससे महीने का बजट बिगड़ जाता है.

shutterstock_162433070
कार लोन

कुछ लोगों को कार का बहुत शौक़ होता है और वो अपने हमसफ़र के साथ बस/ट्रेन आदि से सफ़र नहीं करना चाहते. ऐसे में बजट न रहने पर वो ईएमआई के ज़रिए अपना शौक़ पूरा करते हैं यानी लोन पर कार लेते हैं. पहले थोड़ा अमाउंट जमा करने के बाद हर माह ईएमआई भरकर कुछ महीने/साल में कार उनकी हो जाती है.

स्मार्ट मूव

घर, गाड़ी या कोई और सामान ख़रीदते समय जितना हो सके डाउन पेमेंट ज़्यादा देने की कोशिश करें. डाउन पेमेंट का मतलब होता है
शुरुआत में दिया जाने वाला पैसा. इसके लिए आप अपने पैरेंट्स, रिश्तेदारों और दोस्तों से कुछ समय के लिए उधार मांग सकते हैं.
इससे आपका ईएमआई प्रेशर भी कम हो जाता है और आपको उधार लिए पैसों पर इंटरेस्ट भी नहीं देना पड़ता. आप अपने मनमुताबिक़ उनके पैसे लौटा सकते हैं.

टीवी/एसी/फ्रिज लोन

बड़े लोन के अलावा आजकल कई कपल्स अपनी छोटी ज़रूरतों को भी लोन के सहारे पूरा करते हैं. ख़र्च ज़्यादा होने की वजह से वो टीवी/फ्रिज/एसी जैसे सामान भी एकसाथ पैसे देकर नहीं ख़रीद पाते. ऐसे में उन्हें ईएमआई का ही सहारा लेना पड़ता है. कई बार तो बजट होने पर भी लोग ईएमआई के ज़रिए ही सामान ख़रीदना उचित समझते हैं.

स्मार्ट मूव

पार्टनर को ख़ुश करने के लिए सुख-सुविधा का हर सामान ख़रीदने की ग़लती न करें. इससे आप बहुत ज़्यादा प्रेशर में आ सकते हैं. धीरे-धीरे ज़रूरत का सामान ख़रीदें. सबसे ख़ास बात, होम लोन तभी लें जब आपको लगता है कि आप हर माह बिना ज़्यादा परेशान हुए ईएमआई भर सकते हैं. सैलरी कम होने पर बजट से बाहर की प्लानिंग कभी न करें, वरना हर महीने आप ईएमआई भरते समय परेशान रहेंगे.

ध्यान रखें ये भी

* एकसाथ कई लोन न लें. एक बार में एक ही लोन लें.
* कोशिश करें कि घर के सामान के लिए लोन न लें.
* बहुत ज़रूरी न हो, तो पर्सनल लोन न लें. इसका इंटरेस्ट रेट ज़्यादा होने के कारण भविष्य में समस्या होती है.
* होम लोन हमेशा नेशनलाइज़्ड बैंक से ही लें.

 

– श्वेता सिंह