बर्थ एनीवर्सरी: बॉलीवुड के एक ऐसे विलन हैं अमरीश पुरी, जिन्होंने हीरो बनकर दिलों पर राज किया, देखें दमदार डायलॉग्स (Remembering Amrish Puri On His 85th Birthday)

amrish-puri-650_042412042720फिल्म इंडस्ट्री के खलनायक मोगैंबो… अमरीश पुरी का जन्मदिन है. पंजाब के नौशेरा गांव में 22 जून 1932 को उनका जन्म हुआ था. उनका पूरा नाम अमरीश लाल पुरी था. अमरीश पुरी की कड़क और रौबदार आवाज ने घर-घर में खलनायकी को एक नई पहचान दी. आपको जानकर फिल्म इंडस्ट्री के सबसे चहिते एक्टर अमरीश पुरी अपने पहले स्क्रीन में फेल हो गए थे. दूसरी सबसे चौंकाने वाली बात ये है कि उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 40 साल की उम्र में की थी. फिल्मों में आने से पहले उन्होंने मिनिस्ट्री ऑफ लेबर में काम भी किया. स्टीवन स्पीलबर्ग की फिल्म इंडिना जोंस एंड द टेंपल ऑफ डूम में उनके विलेन के किरदार के उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान मिली थी. इस फिल्म में उन्होंने अपने बाल शेव कराए थे. लोगों को उनका लुक इतना पसंद आया कि अमरीश पुरी ने यही स्टाइल रख लिया. मिस्टर इंडिया में मोगैंबो को रोल हो, घायल में बलवंत राय का, नगिना में सपेरे का रोल हो या फिर दामिनी में मिस्टर चढ्ढ़ा का हर रोल में अमरीश पुरी ने जान डाल दी.

उनके वन लाइन डायलॉग्स, जैसे- मोगैंबो ख़ुश हुआ… जो ज़िंदगी मुझसे टकराती है, वो सिसक-सिसक कर दम तोड़ती है… धंधे और करियर के बारे में भाई-भाई से जल सकता है… से वो सबके दिलों में बस गए. आइए, देखते हैं उनके कुछ फेमस डायलॉग्स.

फिल्म- मिस्टर इंडिया

फिल्म- घायल

फिल्म- दामिनी

फिल्म- दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे

फिल्म- मशाल