लघुकथा- बंधन (Short Story- Bandhan)

लघुकथा- बंधन (Short Story- Bandhan)

“तुम जानती नहीं हो मिर्च बवासीर में तकलीफ़ देती है?.. मार डालो इसी तरह…”
“आपसे पहले मैं मरूंगी घुट-घुटकर… देख लीजिएगा…”
लड़ाई मरने-मारने तक पहुंच गई थी. मन खिन्न हो गया. क्यों देखूं मैं फोटो किसी लड़की की? क्या होगा शादी करके? ये सब?.. लिफ़ाफ़ा ले जाकर मां के पलंग पर पटक दिया.

बायोडाटा पढ़ना शुरू ही किया था कि मां की रुआंसी आवाज़ कानों में पड़ी, “वो छोड़िए… आपने मेरे ज़ेवर किससे पूछकर बेचे थे?”
“जिसने बनवाए थे, उसी से पूछकर.” पिताजी भी ग़ुस्से में थे.
“मायके से तो लाई नहीं थी ना… वहां से तो एक शानदार चेन आई थी मेरे लिए… नकली!”
“अच्छा! अपने भाई-भतीजों को कुछ ना कहना कभी… पप्पू मेरे सामने मंदिर से सिक्का चुराकर भागा था…”
वैसे घर की कलह, ये सब कुछ नया नहीं था मेरे लिए… बात शुरू हुई थी खाने में ज़्यादा मिर्च को लेकर और कहां से कहां पहुंच गई थी. मैं मुश्किल से दो दिनों की छुट्टी लेकर आया था, आते ही पिताजी ने ये फोटो और बायोडाटा वाला लिफ़ाफ़ा पकड़ा दिया. तब तक ये सब…
“तुम जानती नहीं हो मिर्च बवासीर में तकलीफ़ देती है?.. मार डालो इसी तरह…”


यह भी पढ़ें: स्त्रियों की 10 बातें, जिन्हें पुरुष कभी समझ नहीं पाते (10 Things Men Don’t Understand About Women)

“आपसे पहले मैं मरूंगी घुट-घुटकर… देख लीजिएगा…”
लड़ाई मरने-मारने तक पहुंच गई थी. मन खिन्न हो गया. क्यों देखूं मैं फोटो किसी लड़की की? क्या होगा शादी करके? ये सब?.. लिफ़ाफ़ा ले जाकर मां के पलंग पर पटक दिया.
मुश्किल से पौन घंटा भी नहीं बीता होगा कि रसोईंघर से बर्तन गिरने की आवाज़ आई. मैं हड़बड़ाकर भागा… वहां जो देखा, उस पर यकीन करना मुश्किल था;


यह भी पढ़ें: रोज़मर्रा की ये 10 आदतें बनाएंगी आपके रिश्ते को और भी रोमांटिक (10 Everyday Habits Will Make Your Relationship More Romantic)

पिताजी रसोईंघर में मां को अपने हाथ से बड़े प्यार से खाना खिला रहे थे और मां किसी बात पर हंसते-हंसते दुहरी हुई जा रही थीं… मैं जल्दी से लिफ़ाफ़ा अपने कमरे में उठा लाया!

Lucky Rajiv
लकी राजीव

अधिक कहानियां/शॉर्ट स्टोरीज़ के लिए यहां क्लिक करें – SHORT STORIES

डाउनलोड करें हमारा मोबाइल एप्लीकेशन https://merisaheli1.page.link/pb5Z और रु. 999 में हमारे सब्सक्रिप्शन प्लान का लाभ उठाएं व पाएं रु. 2600 का फ्री गिफ्ट

×