कहानी- वह एक पल (Hindi Shor...

कहानी- वह एक पल (Hindi Short Story – Woh Ek Pal)

1
    नीता वर्मा

Hindi Short Story

उसने हालात से समझौता कर अपनी सांवली रंगत को अपनी कमज़ोरी ही मान लिया था और इसकी भरपाई उसने सबकी ग़ुलामी बजाकर की थी. एकमात्र ससुरजी ही थे, जो उसके गुणों की सराहना करते थे और उसे समझते थे, लेकिन उनके देहांत के साथ ही स्नेह का वह सेतु भी टूट गया. अब तो सासू मां भी नहीं रहीं, लेकिन दोनों ननदें यदा-कदा आकर उसके सांवलेपन का एहसास तो करा ही जाती हैं.

कविता अपने ख़्यालों में इस क़दर खो गई थी कि उसे यह आभास ही नहीं हुआ कि कब श्याम उसके पास आकर खड़े हो गए, ङ्गङ्घजल्दी से नाश्ता दे दो, मुझे ऑफ़िस के लिए देर हो रही है.फफ कविता सकपका गई. कुछ बोल न सकी. चुपचाप टेबल पर नाश्ता लगा दिया. श्याम नाश्ता करने के बाद बोले, “कविता, मैंने रूपा दीदी, सोना और श्‍वेता को फ़ोन कर दिया है, सब लोग शाम तक आ जाएंगे. रात के खाने में सबकी पसंद की एक-एक डिश बनवा देना. तुम्हें तो सबकी पसंद मालूम ही है.” श्याम आदेश उछालकर ऑफ़िस चले गए.
कविता मन ही मन सोचने लगी. बस, दूसरों की पसंद का ही तो ध्यान रखती आई है वह. अपनी पसंद तो वह इतने बरसों में भूल ही चुकी है. ख़ैर, आज वह अपना मूड नहीं ख़राब करेगी. फ़िलहाल, वह अपने बेटे श्‍लोक की पसंद का नाश्ता ख़ुद बनाएगी.
दो साल विदेश में रहकर आया है श्‍लोक. मुंबई से बीटेक करने के बाद उसे लंदन में एमबीए करने का मौक़ा मिला, तो कलेजे पर पत्थर रखकर कविता ने उसे जाने की अनुमति दे दी थी. मन में हमेशा संशय के बादल घुमड़ते रहते थे. ‘क्या पता, पढ़ाई पूरी करने के बाद श्‍लोक को वहां जॉब का ऑफ़र मिले, तो वह वहीं बसने का फैसला कर ले और फिर किसी विदेशी लड़की से शादी करके…?’
बस, इसके आगे सोचने की हिम्मत नहीं कर पाती थी वह. उनके रिश्तेदार और जान-पहचान के लोग भी यदा-कदा इस तरह के शगू़फे छोड़कर कविता का दिल धड़काते रहते थे. अब इकलौते बेटे से ही तो उसकी सारी उम्मीदें जुड़ी थीं. वह भगवान से यही प्रार्थना करती रहती कि उसका श्‍लोक अपनी ज़मीन और अपने संस्कारों से हमेशा जुड़ा रहे.
उसकी दुआ रंग लाई. उसके दिए संस्कारों की बदौलत ही श्‍लोक ने लंदन में मिल रहे जॉब को ठुकरा दिया और दिल्ली की एक मल्टीनेशनल कंपनी से मिले ऑफ़र को स्वीकार कर लिया. लंदन से वापस आते ही उसने वह कंपनी ज्वाइन कर ली. मात्र दो महीने ही तो हुए थे उसे वापस आए, लेकिन लड़कीवालों की लाइन लग गई. एक से एक लड़कियों के फ़ोटोग्राफ़ और बायोडाटा. अब शादी तो करनी ही थी उसकी, लेकिन निर्णय लेना कठिन हो गया था. वैसे भी कविता का निर्णय कोई मायने नहीं रखता था, इसीलिए तो श्याम ने अपनी दोनों बहनों और बेटी को बुलाया था.
आज श्‍लोक की शनिवार की छुट्टी थी. वह शनिवार और रविवार को देर तक सोता रहता था. आज कविता उसके लिए उसकी पसंद के आलू परांठे बनानेवाली थी. सारी तैयारी करके उसने जाकर देखा, तो वह अभी सो रहा था.
कविता लड़कियों के फ़ोटो लेकर बैठ गई और बड़ी हसरत से एक-एक फ़ोटो देखने लगी. उसे अच्छी तरह पता था कि फैसला लेना तो दूर की बात रही, दोनों ननदों के आने के बाद उसे तस्वीरें देखना भी नसीब नहीं होगा. अपनी सास और ननदों से मिली उपेक्षा का दंश तो वह ससुराल में पहले दिन से ही झेलती आई थी. यह तो एक इत्तेफ़ाक ही था कि उसके ससुर ने अपने दोस्त की सांवली-सलोनी पुत्री को अपने इकलौते बेटे के लिए पसंद कर लिया था. दरअसल, उन्होंने उसके रंग की बजाय उसके गुणों को देखा था, लेकिन उसका सांवला रंग उसके सारे गुणों पर भारी पड़ गया.
श्याम तो अपने नाम के विपरीत थे. वे भी अपनी मां और बहनों की तरह बिल्कुल गोरे-चिट्टे थे और गोरे लड़के की सांवली पत्नी उन लोगों के गले नहीं उतर रही थी, पर यह भी सच है कि श्याम ने कभी उस पर कटाक्ष नहीं किया, लेकिन उनकी मां-बहनों ने जो ज़ख़्म कविता को दिए, वे उसका मरहम भी नहीं बन सके. वह तो कविता की क़िस्मत अच्छी थी कि दोनों बच्चे गोरे पैदा हुए. बेटे के जन्म के बाद वह अभी उसे मुग्ध भाव से निहार ही रही थी कि सोना की आवाज़ उसके कानों से टकराई, “थैंक गॉड कि यह भइया पर गया है, वरना हमारा खानदान ही काला हो जाता.”
कविता का हृदय छलनी होकर रह गया, फिर बेटी के जन्म के समय भी कुछ ऐसा ही सुनने को मिला. इस बार उसे आहत करनेवाली रूपा दीदी थीं, “चलो, अच्छा हुआ कि लड़की हमारे जैसी है, वरना कविता की तरह होती, तो इसका रिश्ता तय करने में श्याम के जूते घिस जाते.”
कविता ने सारा दर्द अंदर ही समेट लिया और अपने ख़ूबसूरत बच्चों की परवरिश में व्यस्त हो गई. उसने हालात से समझौता कर अपनी सांवली रंगत को अपनी कमज़ोरी ही मान लिया था और इसकी भरपाई उसने सबकी ग़ुलामी बजाकर की थी. एकमात्र ससुरजी ही थे, जो उसके गुणों की सराहना करते थे और उसे समझते थे, लेकिन उनके देहांत के साथ ही स्नेह का वह सेतु भी टूट गया. अब तो सासू मां भी नहीं रहीं, लेकिन दोनों ननदें यदा-कदा आकर उसके सांवलेपन का एहसास तो करा ही जाती हैं.

Hindi Short Story
चार बजे बड़ी ननद रूपा दीदी अपने पति के साथ आ गईं. आते ही फ़रमाइश शुरू हो गई, “कविता पहले हमें बढ़िया-सी कॉफ़ी पिला दो.”
पांच बजे छोटी ननद सोना और बेटी श्‍वेता अपने-अपने पति और बच्चों के साथ पहुंच गईं. श्याम भी ऑफ़िस से आ गए थे. सभी लोग आराम से ड्रॉइंग रूम में बैठकर स्नैक्स और कॉफ़ी का लुत्फ़ उठा रहे थे और लड़कियों के फ़ोटोग्राफ़्स और बायोडाटा पर खुलकर चर्चा हो रही थी. बस, कविता ही थी जो मूकदर्शक बनी बैठी थी.
“अच्छा हुआ श्याम, जो तुमने हमारे पापा की तरह श्‍लोक के लिए कोई ऐसी-वैसी लड़की पसंद नहीं की.” रूपा दीदी श्याम से कह रही थीं.
“हां भइया, जिस तरह से पापा ने भाभी को आपके ऊपर थोप दिया था, वह तो आप ही थे, जो इनके साथ एडजस्ट कर लिया, वरना आजकल के लड़के तो ख़ुद से ज़रा भी उन्नीस लड़की बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं.” अब सोना कैसे चुप रहती. उनके कमेंट्स से आहत कविता अभी संभलने की कोशिश कर ही रही थी कि श्‍वेता की भी बारी आ गई, “हां पापा, मेरे भइया इतने हैंडसम हैं, इनके लिए तो चांद-सी भाभी लानी होगी.”
कविता को लगा कि किसी ने उसके कानों में पिघला हुआ शीशा उड़ेल दिया हो. ननदें तो पराई हैं, लेकिन अपनी कोखजाई बेटी… वह उसे हैरानी से देखती रह गई. कहते हैं, बेटियां मां का दुख-दर्द समझती हैं, लेकिन श्‍वेता ने कभी अपनी मां की कद्र नहीं की, अपने रंग- रूप के घमंड में चूर हमेशा मां का दिल ही दुखाती रही है. बड़ी मुश्किल से कविता ने अपने आंसुओं को बहने से रोका.
श्याम बोले, “फ़ोटो में तो सभी लड़कियां अच्छी दिख रही हैं. तुम लोगों को जो लड़की सबसे अच्छी लग रही हो, उसे कल ही देखने का प्रोग्राम बना लेते हैं. हमें तो अब जल्दी से श्‍लोक की शादी कर डालनी है.”
तभी सोना के पति हंसकर बोले, “हम लोगों की पसंद-नापसंद से क्या करना है? शादी तो श्‍लोक को करनी है, लड़की भी उसी की पसंद की होनी चाहिए.”
“हां श्‍लोक, तुम बताओ. इन तस्वीरों में से तुम्हें कौन-सी लड़की सबसे ज़्यादा पसंद है?” रूपा दीदी ने श्‍लोक से पूछा.
“बुआ, सच तो यह है कि मुझे इनमें से कोई भी लड़की पसंद नहीं है.” श्‍लोक ने बेबाक़ी से कहा, तो सभी हैरान रह गए. कविता को लगा कि शायद श्‍लोक ने ख़ुद के लिए कोई लड़की पसंद की हो. उसने सोचा कि सबके जाने के बाद अकेले में श्‍लोक से बात करेगी और उसकी जो भी पसंद होगी श्याम से स्वीकार करने का अनुरोध ज़रूर करेगी. कमरे में एक चुप्पी-सी छा गई थी.
उस चुप्पी को तोड़ा श्‍वेता ने, “भइया, आपकी बात से तो ऐसा लग रहा है कि आपने किसी लड़की को पसंद कर लिया है. अब तो हमें बता दीजिए कि वह कौन है?”
“नहीं श्‍वेता, ऐसी कोई बात नहीं है. मैं लव मैरेज में विश्‍वास नहीं करता. शादी तो मैं घरवालों की पसंद से ही करूंगा.”
श्‍लोक जल्दी से बोल पड़ा. श्‍वेता के पति से रहा नहीं गया, “भइया, तो फिर इतनी सुंदर तस्वीरों में से आपको कोई भी पसंद क्यों नहीं आ रही है? आख़िर कैसी लड़की चाहिए आपको?”
“बताऊं?” श्‍लोक कविता के गले में बांहें डालकर झूल गया, “क्योंकि कोई भी लड़की मेरी मां जैसी नहीं है.”
“व्हॉट नॉनसेंस? क्या बेवकूफ़ों जैसी बात कर रहा है श्‍लोक? दिमाग़ तो नहीं ख़राब हो गया तुम्हारा?” सोना लगभग डांटनेवाले अंदाज़
में बोली.
“नहीं बुआ, मेरा दिमाग़ बिल्कुल ठीक है. मुझे अपनी मां जैसी लड़की चाहिए और हां, मेरी मां जिस लड़की को पसंद करेंगी, वह लड़की मुझे भी पसंद होगी.” श्‍लोक ने ऐलान कर दिया.
अपने रूप के मद में चूर रूपा, सोना और श्‍वेता उसे ऐसे देख रही थीं जैसे वह कोई अजूबा हो. उनके गोरे-गोरे मुखड़े बिल्कुल स्याह पड़ गए और कविता… उसे तो उसके बेटे ने इस एक पल में इतना ऊंचा उठा दिया कि सारी ज़िंदगी अपमान के रेगिस्तान में झुलसती रही कविता के लिए वह एक पल जैसे मान-सम्मान और ख़ुशियों का गुलिस्तान बन गया. उसका सांवला चेहरा कुंदन की तरह दमक उठा, आंखें ख़ुशी के आवेग में बहने लगीं और उन आंसुओं के साथ उम्रभर की उपेक्षा का एहसास भी बहता चला गया.

 

 अधिक शॉर्ट स्टोरीज के लिए यहाँ क्लिक करेंSHORT STORIES

कहानी- सच्चा सुख (Short Story- Sachcha Sukh)