वेडिंग लोन लेने से पहले रखे...

वेडिंग लोन लेने से पहले रखें इन बातों का ख़्याल (Things To Keep In Mind Before Applying For A Wedding Loan)

Wedding Loan
वेडिंग लोन (Wedding Loan) उन लोगों के लिए बहुत फ़ायदेमंद है, जो अपनी शादी को यादगार बनाने के लिए बड़े-बड़े सपने देखते हैं, लेकिन उन सपनों को पूरा करने के लिए उनके पास पर्याप्त बजट नहीं होता. अनेक वित्तीय संस्थानों और बैंकों ने ऐसे ही लोगों के सपनों व ज़रूरतों को पूरा करने के लिए उन्हें वेडिंग लोन की सुविधा उपलब्ध कराई है. आज कई ऐसे बैंक हैं, जो होम लोन, कार लोन, एजुकेशन लोन की तरह वेडिंग लोन भी देते हैं.

किसको मिल सकता है वेडिंग लोन?

वैसे तो वेडिंग लोन लेने के लिए कोई ख़ास नियम व शर्तें नहीं हैं, लेकिन वेडिंग लोन के नाम पर होनेवाली धोखाधड़ी से बचने के लिए वित्तीय संस्थानों व बैंकों ने कुछ नियम व शर्तें तय किए हैं, जो इस प्रकार से हैं-

– शादी के लिए ऋण लेना चाहते हैं, तो मासिक वेतन कम से कम 20 हज़ार रुपए होना ज़रूरी है.

– सीआईबीआईएल (क्रेडिट इंफॉर्मेशन ब्यूरो इंडिया लिमिटेड) यानी क्रेडिट स्कोर 750 होना चाहिए.

 कितनी हो आयु सीमा?

Wedding Loan

– शादी के लिए बैंक से लोन लेने की सोच रहे हैं, तो इसके लिए कम से कम आयु सीमा 25 से 58 साल तक होनी चाहिए.

– इसके अलावा आप जिस क्षेत्र में रहते हों, वहां का कम से कम एक वर्ष का प्रमाणपत्र होना ज़रूरी है.

जानें ब्याज की दर

– हर बैंक में वेडिंग लोन की ब्याज दर अलग-अलग होती है, इसलिए वेडिंग लोन लेने से पहले विभिन्न बैंकों में जाकर ब्याज दर का पता करें.

– ब्याज दर बाज़ार और रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के दिशा-निर्देशों के अनुसार घटती-बढ़ती रहती है.

Wedding Loan Planning

– अधिकतर बैंकों में वेडिंग लोन की ब्याज दर 11-22% होती है. अधिक ब्याज दर के साथ-साथ बैंक प्रोसेसिंग चार्ज सहित अन्य शुल्क भी वसूल करते हैं.

– वेडिंग लोन फाइनल करने से पहले तीन-चार बैंकों की ब्याज दर पूछें. जहां पर कम हो, वहां से लें.

वेडिंग लोन लेने के लिए ज़रूरी हैं  ये दस्तावेज़

– वोटर पहचान पत्रप टेलिफोन/बिजली बिल

– फॉर्म 16

– सैलरी स्लिप

– बैंक स्टेटमेंट

– जो व्यक्ति शादी के लिए लोन ले रहा है, उसकी शादी का निमंत्रण पत्र.

– और अन्य व्यवस्थाओं की जानकारी देनी होती है.

ऋण चुकाने की अवधि

– प्रत्येक बैंक में ऋण चुकाने की अवधि अलग-अलग होती है, इसलिए लोन फाइनल करने से पहले उसे चुकाने की अवधि के बारे में पूरी व सही जानकारी प्राप्त करें.

– वेडिंग लोन लेने के बाद उसे एक से पांच साल के अंदर ब्याज सहित चुकाना होता है.

– लेकिन कुछ बैंकों में ऋण चुकाने की अवधि तीन साल की है. इस दौरान लोन की रक़म के साथ-साथ ब्याज चुकाना भी बेहद ज़रूरी है.

और भी पढ़ें: लोन लेने से पहले जानें 18 ज़रूरी बातें (18 Important Things Before Taking A Loan)

एक्सपर्ट की राय

बैंकिंग क्षेत्र के विशेषज्ञों का मानना है कि वेडिंग लोन लेने की बजाय पर्सनल लोन लेना अधिक अच्छा है, क्योंकि वेडिंग लोन के नाम पर कुछ बैंक बहुत अधिक ब्याज वसूल करते हैं, जो शादी के बाद आपको बोझ लग सकता है.

वेडिंग लोन लेने से पहले ध्यान रखें कुछ ज़रूरी बातें

– बैंकिंग क्षेत्र में आई प्रतिस्पर्धा के कारण वेडिंग लोन लेना बहुत आसान हो गया है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि बैंक वेडिंग लोन देने के बदले में प्रोसेसिंग शुल्क वसूल करते हैं.

– वेडिंग लोन देने से पहले बैंक आपकी वार्षिक आय और सिक्योरिटी के बारे में सारी जानकारियां हासिल करते हैं.

– लोन लेने से पहले बैंक से कंफर्म कर लें कि आप लोन का भुगतान मासिक, त्रैमासिक या अर्द्धवार्षिक- इनमें से किस तरह से कर सकते हैं.

– हर बैंक में वेडिंग लोन की राशि अलग-अलग निर्धारित होती है. आप अपनी सुविधानुसार, जितनी राशि लोन के लिए चाहिए, उस बैंक से लोन के तौर पर ले सकते हैं.

– लोन लेते समय इस बात का विशेष ध्यान रखें कि लोन की किश्त आपकी मासिक आय से 15% फीसदी से ज़्यादा न हो. उदाहरण के लिए- यदि आपकी मासिक आय 40 हज़ार रुपए है, तो आपके लोन की किश्त 6 हज़ार रुपए से ज़्यादा न हो.

– अगर लोन की किश्त ज़्यादा होगी, तो इसका सीधा असर आपके मासिक बजट और भविष्य के लिए की गई बचत पर पड़ेगा.

– लोन चुकाने की समय सीमा जितनी लंबी होगी, ब्याज उतना अधिक चुकाना होगा, इसलिए लोन चुकाने की अवधि कम से कम रखें.प इसके अलावा लोन की अवधि कम होने का एक और फ़ायदा यह भी होता है कि लोन की किश्त की राशि तो अधिक होती है, लेकिन कर्ज़दाता को लंबे समय तक किश्त का भुगतान करना पड़ता है.

– इस बात का विशेष ध्यान रखें कि बेशक लोन की अवधि कम हो, लेकिन होम लोन या क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान समय पर करें. यदि आप इनमें किसी का भी भुगतान समय पर नहीं करते हैं या करना भूल जाते हैं, तो इसका सीधा असर आपके क्रेडिट स्कोर पर पड़ता है, जिसके कारण भविष्य में लोन लेने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

– अगर आपने पहले से ही कार लोन, होम लोन आदि लिए हैं और फिर वेडिंग लोन भी लेना चाहते हैं, तो कोशिश करें कि ये सभी लोन एक ही बैंक से लें. इसका फ़ायदा यह होगा कि एक-दो लोन की रक़म एक ही बैंक में होने के कारण वे बैलेंस ट्रांसफर की सुविधा के साथ-साथ आकर्षक ब्याज दर भी ऑफर करते हैं. इस आकर्षक ब्याज दर के कारण आप पर किश्त का बोझ कम हो जाता है.

– समय-समय पर होनेवाली अतिरिक्त आय, जैसे- कंपनी द्वारा दिए गए बोनस, इंक्रीमेंट, इंसेटिव का उपयोग ऋण चुकाने के लिए करें.

अलर्ट: वेडिंग लोन लेने के लिए सभी वित्तीय संगठनों व बैंकों ने अपने अलग-अलग नियम व शर्तें तय की हैं, इसलिए शादी के लिए लोन लेने से पहले दो-तीन बैंकों से इन नियमों के बारे में सारी जानकारी हासिल कर लें. अपनी सुविधानुसार जहां से सही लगे, वहीं से वेडिंग लोन लें और अपनी शादी को बनाएं यादगार.

और भी पढ़ें: फायनेंशियल प्लानिंग शादी से पहले और शादी के बाद (Financial Planning Before & After Marriage)

– देवांश शर्मा